योगी आदित्यनाथ कोट्स | Yogi Adityanath Quotes in Hindi

265

योगी आदित्यनाथ (मूल नाम अजय सिंह बिष्ट) का जन्म 5 जून सन. 1972 में उत्तराखंड के पौड़ी गढवाल जिले के यमकेश्वर तहसील के पंचुर गाँव में एक राजपूत परिवार में हुआ था। योगी आदित्यनाथ के पिता का नाम श्री आनंद सिंह बिष्ट जो एक एक फॉरेस्ट रेंजर थे तथा माँ का नाम श्रीमती सावित्री देवी है। योगी आदित्यनाथ अपने माता-पिता के सात बच्चों में से तीन बड़ी बहनों व एक बड़े भाई के बाद ये पांचवें थे और इनसे दो छोटे भाई भी हैं।

योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश राज्य के वर्तमान मुख्यमंत्री हैं। योगी आदित्यनाथ भारतीय राजनीति में कट्टर हिंदुत्व की पहचान माने जाते हैं। योगी आदित्यनाथ गोरखपुर के प्रसिद्ध गोरखनाथ मंदिर के महंत भी हैं। इन्होंने 19 मार्च सन. 2017 को उत्तर प्रदेश के विधान सभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी की बड़ी जीत के बाद उत्तर प्रदेश के 21वें मुख्यमंत्री पद की शपथ ली।

योगी आदित्यनाथ के प्रमुख कोट्स:

“कानून मानव के लिए होता है, न की दानव के लिए।”
“एक योगी अपने मन में किसी भी प्रकार की कोई इच्छा नहीं रखता।”
“पूरे देश में गौ हत्या पूरी तरह से ख़त्म होनी चाहिए।”
“मै उत्तर प्रदेश में विकास मोदी जी के ‘स्लोगन’ से ही करुँगा। वह स्लोगन है “सबका साथ, सबका विकास।”
“भारत देश का राजनीतिक नेतृत्व कैसा होना चाहिए, ये बात उत्तर प्रदेश तय करता है।”
“दंगे वही, जहां अल्पसंख्यक ज्यादा।”
“आर्यावर्त में आर्य बनाये, हिन्दुस्तान में हिन्दू बनायेंगे।”
“टाइगर जैसा साहस जिस इन्सान में होगा, वही इन्सान टाइगर को दूध पिला सकता है।”
“एक सन्यासी होने के नाते, जो कुछ सच होगा, केवल मैं वही बोलूँगा।”
“अन्याय किसी के भी साथ न हो, और न ही हम लोग अन्याय को सहेंगे।”
“एक सन्यासी का सही कर्तव्य होता है कि वह समाज को अच्छा बनाये और दुष्टों को सजा दे।”
“यदि देश का आधार कमजोर होगा, तो भवन भरभरा कर गिर जायेगा। लेकिन यदि नींव मजबूत है, तो भवन हिल नहीं सकता।”
“आप एक को मारोगे, तो मैं 10 मरूँगा।”
“यदि सामने वाला पक्ष शांति से नहीं रहेगा, तो उसे शांति से रहना सिखाएंगे। ये उस पर निर्भर करता है, कि वह कौन सी भाषा को समझेगा।”
“जो बातें समाज के खिलाफ हो, उन बातों पर हमें आवाज उठानी चाहिए।”
“मैंने अपने जीवन में प्यार केवल भारत माता से किया है और मुझे लगता है कि मैंने दुनिया के सभी बच्चों से प्यार किया है।”
“आप शादी-विवाह को दो इंसानों का मेल-मिलाप नहीं मान सकते हैं। यह प्यार एक दिन का केवल खेल नहीं है।
ये जीवन भर चलने वाली एक प्रक्रिया है, और इसी के आधार पर देश की नींव बनती है।”
“यदि हमारे एक हाथ में माला है, तो दूसरे हाथ में भाला भी है।”
“हम लोग केवल उन लोगों को रोकना चाहते हैं, जो लोग देश को रोकना चाहते हैं, फिर वह चाहे जिस जाति का हो।”
“मैं एक खुली किताब हूँ, इस किताब को कोई भी इन्सान पढ़ सकता है।”