विज्ञान की परिभाषा

विज्ञान(Science) क्या है?     

क्रमबद्ध तथा सुव्यवस्थित ज्ञान को विज्ञान (Science) कहते हैं| अर्थात प्रकृति में उपस्थित वस्तुओं और जीवों के रूपों और उनकी स्थितियों का आंकलन करना ही विज्ञान है| विज्ञान किसी भी वस्तु को प्रयोग द्वारा निर्धारित करता है, सम्भावना पर नहीं|

 आज विज्ञान की ही देन है जिस कारण मनुष्य का जीवन सरल हो पाया है| पहिये और आग के आविष्कार से लेकर मौजूदा कोई भी चीज जो हम और आप इस्तेमाल कर रहे हैं, वो विज्ञान की ही देन है| लेकिन प्रकृति के अत्यधिक दोहन से हमें कई तरह के नुकसान भी झेलने पड़ते हैं| इसलिए विज्ञान को उतना ही मानव विकास में इस्तेमाल किया जाना चाहिए, जितना जरुरी हो|

विज्ञान की शाखाएं

विज्ञान (Science) को तीन प्रमुख भागों में बांटा गया है, भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, और जीव विज्ञान|

  1. भौतिक विज्ञान (Physics):

भौतिक विज्ञान, विज्ञान की मूल शाखाओं में बेहद महत्वपूर्ण है| इसमें पदार्थ की अवस्था और उसकी ऊर्जा को लेकर अध्ययन किया जाता है| यह विज्ञान का बेहद विस्तृत विषय है| भौतिक विज्ञान को अंग्रेजी में Physics कहते हैं, और यह ग्रीक शब्द से लिया गया है, जिसका मतलब Knowledege of nature अर्थात प्रकृति का ज्ञान है| यह पूरी तरह प्रायोगिक विषय (practical subject) है| दुनिया भर के वैज्ञानिक प्रकृति के रहस्य को समझने के लिए भौतिकी का ही सहारा लेते हैं|

पृथ्वी (Earth) में गुरुत्वाकर्षण बल (Gravitational force) है, इसकी खोज भौतिक विज्ञानी न्यूटन ने की थी| जिसे बाद में और भी वैज्ञानिकों ने साबित किया|  यह थ्योरी(Theory) भी तब आई जब न्यूटन को एक पेड़ से सेब गिरते देख ये खयाल आया कि आखिर जमीन पर ही सेब क्यों गिरा? यानि हर वो सवाल जिससे प्रकृति के बारे में जानकारी मिले भौतिकी (Physics) में अनिवार्य है| अभी भी कई ऐसे सवाल हैं जिन पर दुनिया भर के वैज्ञानिक खोज कर रहे हैं| हाल ही में ब्रह्माण्ड के सबसे छोटे कण को लेकर प्रयोग शुरू हुआ था,लेकिन फिर उसे रोका गया| इस प्रयोग से ये पता चल सकता था कि पृथ्वी पर जीवन का रहस्य क्या है|

विज्ञान की तीनों शाखाओं में भौतिकी इसलिए ज्यादा महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसमें हर सिद्धांत को पहले प्रयोगों द्वारा सिद्ध किया जाता है, उसके बाद मान्यता दी जाती है| यही नहीं किसी भी प्रचलित सिद्धांत को चुनौती भी दी जा सकती है, लेकिन उसके लिए उसे सिद्ध करना होगा| यह पूरी तरह प्रयोगधर्मी विज्ञान है, यहां सम्भावना पर बिलकुल भी काम नहीं होता है|

  1. रसायन विज्ञान (Chemistry):

रसायन विज्ञान में पदार्थ के गुण और उसमें होने वाले बदलावों का अध्ययन किया जाता है| इसके द्वारा हमें ये पता चलता है कि पदार्थ में किस धातु की कितनी मात्रा है| यही नहीं इसके अध्ययन से नए रसायनों(Chemicals) का निर्माण भी करते हैं| 

रसायन विज्ञानी प्रकृति में मौजूद तत्वों की खोज करते हैं, और उनसे नए रसायन तैयार करते हैं| मानव विकास में रसायन ने काफी महत्वपूर्ण योगदान दिया है| रसायनशास्त्री(chemists) दवाओं का निर्माण वैज्ञानिकों द्वारा निर्मित तत्वों से करते हैं| रसायन विज्ञान की भी दो शाखाएं है, ऑर्गेनिक केमिस्ट्री(Organic Chemistry) एवं इनऑर्गेनिक केमिस्ट्री(Inorganic Chemistry)|

  1. जीव विज्ञान(Biology):

जीव विज्ञान, विज्ञान (Science) की अलग शाखा है, जिसमें हम जीवित प्राणियों का अध्ययन करते हैं| इसमें उनकी संरचना, उत्पत्ति, कार्य, और उनके लगातार विकास पर काम किया जाता है| बंदर से आधुनिक मनुष्य की कहानी जीव विज्ञान से ही संभव हो पाई| वैज्ञानिकों ने ये सिद्ध किया कि लगातार सदियों के सतत विकास से आज का मनुष्य बना है| डार्विन और लैमार्क सिद्धांत इसी आधार पर हैं| वैज्ञानिक हर साल लगभग 1100 से अधिक प्रजातियों की खोज कर लेते हैं| आधुनिक चिकित्सा भी जीव विज्ञान के विकास की देन है| आधुनिक जीव विज्ञान चार मूल सिद्धांतों पर काम करता है, कोशिका, सिद्धांत, विकास, और समस्थिति(Homeostasis)|

जीव विज्ञान को भी विस्तृत अध्ययन के लिए दो भागों में बाँटा गया है: जंतु विज्ञान (Zoology) और वनस्पति विज्ञान (Botony)|

  • जंतु विज्ञान (Zoology)

जंतु विज्ञान में जीवों के बारे में अध्ययन किया जाता है| जिसमें उनका पारिस्थिकी से सम्बन्ध, उनकी उत्पत्ति, उनका विकास, और उनके खान-पान, व अन्य जैविक पद्धति शामिल है|

  • वनस्पति विज्ञान (Botony)

वनस्पति विज्ञान के अंदर पेड़-पौधों और वनस्पतियों का अध्ययन किया जाता है| जैसे पौधे किस प्रकार अपना जीवन चक्र पूरा करते हैं, उनका पर्यावरण पर किस तरह का प्रभाव पड़ता है, इत्यादि|

हम उम्मीद करते हैं कि आपकी विज्ञान (Science) को लेकर जिज्ञासा शांत हुई होगी| यदि आप कोई और भी सवाल पूछना चाहते हैं, तो आप हमें लिख सकते हैं|