ऑफिस का वास्तु | Vastu of Office

517

आजकल व्यापार में स्पर्धा बहुत अधिक बढ़ गई है। अपने व्यापार को बढ़ाने के लिए लोग परिश्रम करते हैं, लेकिन परिश्रम करने के बाद भी सफलता नहीं मिलती। इसका एक वजह उनके ऑफिस का वास्तु दोष हो सकता है।

ऑफिस से संबंधित कुछ वास्तु नियम निम्न हैं-  

  • ऑफिस के बाहर एक सुंदर साइनबोर्ड होना चाहिए, जो लोगों को स्पष्ट नजर आये। सुंदर साइनबोर्ड लगाने से आॅफिस की लोकप्रियता बढ़ती है।
  • ऑफिस के बाॅस को अपनी कुर्सी ऊँची रखनी चाहिए। लोहे या एल्युमीनियम की कुर्सी पर बैठने से बिजनेस में हानि हो सकती है। लकड़ी की हरे रंग की कुर्सी पर बैठकर कारोबार करने से लाभ हो सकता है।
  • कुर्सी लोहे या एल्युमीनियम आदि की हो, तो कुर्सी के नीचे लकड़ी का चैकोर या आयताकार तख्ता रखना चाहिए तथा कुर्सी पर लाल, हरे या पीले रंग की गद्दी लगानी चाहिए।
  • बाॅस की कुर्सी ऑफिस के दरवाजे के सामने बिल्कुल नहीं होनी चाहिए। बाॅस का मुँह ईशान, उत्तर अथवा पूर्व दिशा की तरफ होना चाहिए।
  • बाॅस का केबिन नेऋत्य कोण में बनवाना चाहिए। केबिन का आकार वर्गाकार या आयताकार होना चाहिए तथा ऑफिस के सभी दरवाजे अंदर की तरफ खुलने चाहिए।
  • बाॅस की कमर के पीछे दीवार होनी चाहिए। दीवार पर ऊँची इमारत या बर्फ के ऊँचे पहाड़ का चित्र होना चाहिए।
  • बाॅस या कर्मचारियों को अपने घर, दुकान या ऑफिस के सामने जूते-चप्पल नहीं उतारने चाहिए।
  • जूते-चप्पल मुख्य दरवाजे के किनारे किसी अलमारी में रखने चाहिए और दाहिने पैर को अंदर रखकर प्रवेश करना चाहिए।
  • ऑफिस का कूड़ा मुख्य दरवाजे के सामने इकट्ठा नहीं करना चाहिए और कूड़ादान भी दरवाजे के सामने नहीं होना चाहिए।