बैडरूम का वास्तु | Vastu of Bedroom

303

घर निर्माण में वास्तु का महत्वपूर्ण योगदान है। वास्तु के अनुसार घर बना हो, तो हम शांति एवं खुशहाली से अपना जीवन व्यतीत कर सकते हैं।

बैडरूम बनवाते समय निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए- 

  • घर की दक्षिण दिशा में बड़े-बुजुर्गों का बैडरूम और उत्तर-पश्चिम या उत्तर दिशा में युवाओं का बैडरूम होना चाहिए। उत्तर-पूर्व दिशा और दक्षिण-पूर्व दिशा में बैडरूम का होना सही नहीं माना जाता है।
  • दो मंजिल से अधिक घर बना हुआ हो, तो बुजुर्गों का बैडरूम पहली मंजिल पर दक्षिण-पश्चिम दिशा में होना चाहिए।
  • बैडरूम में बैड या चारपाई का सिरहाना पूर्व या दक्षिण दिशा में होना सही माना जाता है।
  • बैडरूम हमेशा हवादार और खुला हुआ होना चाहिए, हवादार और खुले हुए बैडरूम में मन शांत रहता है।
  • बैडरूम में बैड या चारपाई इस तरह (बिछी) होनी चाहिए कि सोने वाले व्यक्ति का सिर उत्तर दिशा और पैर दक्षिण दिशा की ओर ना हो।
  • बैडरूम में कभी भी पूजा घर नहीं होना चाहिए, यह वास्तु के अनुसार ठीक नहीं माना जाता है।
  • बैडरूम के दरवाजे दक्षिण दिशा की तरफ नहीं होने चाहिए तथा बैड के ऊपर छत की बीम या मोटी पट्टी नहीं होनी चाहिए।