ट्रकों का हुआ चक्का जाम, 1 हजार करोड़ से अधिक के कारोबार पर हुआ असर

508

ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस द्वारा अलग-अलग मांगों को लेकर शुक्रवार से देशव्यापी अनिश्चितकालीन हड़ताल के चलते ट्रकों का चक्का जाम हुआ है। उत्तर प्रदेश में लगभग 5 लाख छोटे-बड़े व्यावसायिक वाहनों का संचालन नहीं हुआ है। “ट्रक एंड ट्रांसपोर्ट वेलफेयर एसोसिएशन” के अध्यक्ष राजेश सिंह के अनुसार उत्तर प्रदेश में 1 हजार करोड़ से अधिक के माल की लोडिंग और अनलोडिंग नहीं हुई है। ट्रांसपोर्टरों के गोदामों में माल भरा पड़ा है।

लखनऊ गुड्स ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन, ट्रक ट्रांसपोर्ट वेलफेयर एसोसिएशन के साथ-साथ विभिन्न ट्रक यूनियनों ने ट्रकों का संचालन पूरी तरह से बन्द कर दिया है, जिसकी वजह से उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में करीब 10 हजार ट्रक यहाँ-वहाँ खड़े रहे हैं। हड़ताल से केवल लखनऊ में लगभग 100 करोड़ का कारोबार प्रभावित हुआ है। फिलहाल नए माल की बुकिंग बंद कर दी गई है। भवन सामग्री की भी लोडिंग और अनलोडिंग बंद किए जाने का दावा किया गया है।

इससे जरूरत की वस्तुओं का आवागमन भी रुक गया है। आपूर्ति न होने से इसका असर आने वाले दिनों के अंदर बाजार में देखने को मिलेगा।

फल, हरी सब्जी, दूध आदि खराब होने वाली चीजों की बुकिंग भी बंद कर दी गई है। हालांकि डीजल, पेट्रोल, गैस सिलिंडर, दूध, जीवन रक्षक, खाद्य पदार्थ आदि दवाओं की गाडिय़ों को अभी नहीं रोका गया है। नारेबाजी करते हुए ट्रांसपोर्ट नगर में एक वाहन रैली भी निकाली। ट्रक यूनियनों के पदाधिकारियों ने डीजल की कीमतें कम किए जाने, डीजल कीमतों का त्रैमासिक संशोधन करने, पूरा भारत टोल बैरियर मुक्त करने, तृतीय पक्ष बीमा प्रीमियम पारदर्शिता पर GST की छूट व एजेंटों को जा रहे कमीशन को समाप्त किया जाने, व्यवसाय पर TDS खत्म किए जाने आदि की मांगें उठाईं है।

उन्नाव में हड़ताल होने से जिले के औद्योगिक क्षेत्रों में माल की आवाजाही पर अच्छा खासा असर रहा है। एक ओर जहां स्लटर हाउसों में आने वाले मवेशियों के वाहनों की संख्या में काफी कम रही, वहीं दूसरी ओर अन्य इकाइयों में भी माल की आवक में फर्क दिखा। इलाहाबाद में हड़ताल के चलते 1500 ट्रकों के चक्के जाम हो गए। पहले दिन 10 करोड़ रुपये का कारोबार प्रभावित होने का अनुमान व्यक्त किया गया है। अनिश्चितकालीन हड़ताल का कानपुर और आस-पास के जिलों में अच्छा-खासा असर देखने को मिल रहा है। बुकिंग न होने से व्यापारी माल भेजने को परेशान हो रहे हैं। अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मंडल ने हावड़ा-दिल्ली मुख्य रेलमार्ग पर खपरा मोहाल-शांतिनगर क्रासिंग के पास सुपरफास्ट ट्रेन अनन्या एक्सप्रेस को दस मिनट तक रोककर प्रदर्शन किया है। हड़ताल के कारण 18 हजार से अधिक ट्रक जहाँ-तहाँ खड़े रहे हैं।