Home सामाजिक मुद्दे

सामाजिक मुद्दे

सामाजिक मुद्दे यानी “सामाजिक समस्यासामाजिक बुराईऔर सामाजिक संघर्ष” जिसका संपूर्ण समाज या समाज के एक हिस्से द्वारा विरोध किया जाता है। यह एक अनचाही सामाजिक स्थिति हैइसका होना अक्सर समाज के लिए हानिकारक है। 

यह एक बहुत जरुरी मुद्दा है। लोगों को अपने आस-पास का इलाके के साथ-साथ खुद को भी साफ-सुथरा रखना चाहिए, ताकि लोग स्वस्थ रहें और दूसरों को भी कोई तकलीफ ना हो। लोगों को अपने खाना रखने की जगह को साफ़ रखना चाहिए। साफ-सफाई एक अच्छी आदत है, जो स्वच्छ...
गरीबी वह अवस्था है, जिसमें कोई इन्सान अपने जीवन की जरुरत को पूरा नहीं कर पाताहै, जैसे- खाना, पानी, कपड़े और घर का न होना गरीबी कहलाता है। जिन लोगों की आय गरीबी रेखा से नीचे होती है, वो गरीब होते हैं और उनका जीवन बहुत कठिनाई से गुजरता...
यह एक ऐसी धार्मिक प्रथा है, जो भारत में बहुत सालों से चलती आरही है। सती प्रथा के हिसाब से अगर किसी महिला के पति का देहांत हो जाए, तो उसकी पत्नी अपने पति के अंतिम संस्कार के समय उसकी चिता में आत्मत्याग (आत्महत्या) कर लेती है। 1987 में ‘रूप...
बाल विवाह वह विवाह होता है, जिसमें दूल्हा और दुल्हन दोनों की उम्र एक बताई गई उम्र से नीचे हो, भारत में शादी के लिए दुल्हे की उम्र 21 और दुल्हन की उम्र 18 या उससे ज्यादा होनी चाहिए। UNICEF ने शादी के लिए दुल्हे की उम्र 21 और दुल्हन...
भिखारी वह होता है, जो कोई काम नहीं करता और दूसरे लोगों से पैसे या खाना मांगता है। भिखारी ज्यादातर पार्क के पास, बाजार के पास या किसी आने-जाने के साधन जैसे- मेट्रो या बस अड्डे के पास मिल सकते हैं।भीख मांगना हमारे देश की एक बहुत बड़ी समस्या...
भारत में दहेज प्रथा काफी लंबे समय से चली आ रही है। दहेज का मतलब होता है- “शादी से पहले जब लड़की के परिवार वाले अपनी ‘संपत्ति और धन’ लड़के के परिवार को दे देते हैं।” दहेज लेना या देना दोनों क़ानूनी तौर पर जुर्म है। यह प्रथा पूरी तरह...
किसी भी चीज़ पर बिना सोचे-समझे, उसे बिना जाँचे और परखे, जरुरत से ज्यादा यकीन करना ‘अंधविश्वास’ कहलाता है। चाहे वह भगवान की भक्ति हो या किसी इंसान की भक्ति, कई बार लोग भगवान की भक्ति में इतना खो जाते हैं, कि उन्हें सही और गलत में कोई अंतर...
जब दो धर्मों या दो धर्मों को मानने वाले लोगों के बीच में कुछ संघर्ष होने लगता है, तो वह धार्मिक संघर्ष कहलाता है। आज के समय में यह संघर्ष खास-तौर पर हिन्दू धर्म और मुस्लिम धर्म के लोगों के बीच में होते हैं। आज के समय में धार्मिक...
शराब का अगर नियमित रूप से सीमित मात्रा में सेवन किया जाए, तो वह शरीर को लाभ देती है। मगर इसकी लत लोगों को आसानी से लग जाती है,जो उन्हें को बर्बाद कर देती है। अधिक शराब की लत से व्यक्ति काबू से बहार हो जाए, तो वो केवल...
हमारे समाज में महिलाओं को कम दर्जा दिया जाता है। पुरुषों के मुकाबले इससे हमारी पिछड़ी सोच का पता चलता है। यह लगभग पूरे देश में देखा जा सकता है, मगर खासतौर पर पिछड़े हुए इलाकों में यह ज्यादा देखने को मिलता है। समाज को महिलाओं के प्रति अपना...

खबरें छूट गयी हैं तो