शराब | Sharab | Alcohol

766

शराब का अगर नियमित रूप से सीमित मात्रा में सेवन किया जाए, तो वह शरीर को लाभ देती है। मगर इसकी लत लोगों को आसानी से लग जाती है,जो उन्हें को बर्बाद कर देती है। अधिक शराब की लत से व्यक्ति काबू से बहार हो जाए, तो वो केवल शराबी व्यक्ति के लिए ही नहीं, बल्कि उसके परिवार के लिए भी नुकसानदायक है। आज की दुनिया में इसे भी एक रोग ही समझा जाता है। शराब की लत से पीड़ित इन्सान को ऐसा लगता है,जैसे बिना शराब के उसका शरीर ठीक ढंग से काम नहीं करेगा। शराब की लत होने के चेतावनी संकेत कभी-कभी यह जानना आसान है कि आपको शराब की लत है या नहीं, मगर कभी-कभी यह जानना बहुत मुश्किल हो जाता है। अगर शराब की लत का पहले ही पता चल जाता है, तो उसे रोकना आसान होता है।

यहाँ कुछ शराब की लत होने के चेतावनी संकेत हैं-

  • शराब के सेवन पर काबू ना होना।
  • शराब को अपनी सभी जिम्मेदारियों से उपर रखना।
  • शराब को पीने की जरुरत महसूस होना।
  • शराब पर जरुरत से ज्यादा पैसे उड़ाना।
  • शराब पीने के बाद स्वभाव में परिवर्तन होना।

कारण

  • बचपन में घटित कोई हादसा, जिसको भुलाना मुश्किल हो, उसकी वजह से भी इन्सान शराब पीना शुरू कर सकता है।
  • शराब पीने की एक वजह साथियों का दबाव भी है।
  • शराब बहुत आसानी से मिल जातीहै, इस वजह से लोगोंको शराब पीना और ज्यादा पसंद है।
  • ऐसे लोगों के साथ रहना जो शराब पीते हैं।
  • आमतौर पर लोग शराब को किसी वजह से 1 या 2 बार पीते हैं, मगर वह लत कब बन जाती है, इसका किसी को भी पता ही नहीं चलता।
  • तनाव से राहत के लिए भी लोग इसका सेवन शरू कर देते हैं और फिर इसको रोक नहीं पाते।

नुकसान

  • शराब पीने वाले व्यक्ति को शराब शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से नुकसान पहुंचाती है।
  • शराब से शरीर के कुछ हिस्सों जैसे- गुर्दे, पेट आदि पर बहुत बुरा असर पड़ता है। शराब कैंसर की वजह भी बन सकती है।
  • शराब की वजह से पाचन-तंत्र में भी रूकावट आ सकती है।
  • शराब भी तनाव और व्यवहार में परिवर्तन पैदा कर सकती है। यह अपने व्यक्तिगत जीवन और दोस्तों और परिवार के साथ उनके रिश्तों को प्रभावित कर सकती है।
  • शराब आसानी से किसी भी इन्सान में शराब की लत पैदा कर सकती है।
  • शराब पीनेके बाद लोग अपने काबू में नहीं रहते, यह बात सबके लिए खतरनाक है।

हल

  • ऐसी बहुत सारी संस्थाएं हैं, जो शराब के खिलाफ़ काम करती हैं और लोगों को इससे बचाने की कोशिश कर रही हैं।
  • यह बहुत महत्वपूर्ण है कि मरीज शराब की आदत छोड़ने को तैयार है। अन्यथा कोई भी ‘ड़िटोक्सीफिकेशन’ (Detoxification) या ‘पुनर्वास’ भी शराब की लत की समस्या को हल करने में सक्षम नहीं होगा।
  • शराब की लत को छोड़ने के लिए उनके परिवार को भी योगदान देना होगा।
  • सरकार जानती है कि शराब कितनी हानिकारक है। इसीलिए सरकार ने कई क्षेत्रों में शराब को बंद करा दिया है। सरकार लोगों को शराब के चंगुल में फंसने से रोक रही है।