शक्तिपीठों की तालिका | List of Shaktipeeth in Hindi

722

हिन्दू धर्म में पुराणों के अनुसार जहाँ-जहाँ देवी सती के शरीर के अंग या आभूषण गिरे, वहाँ-वहाँ उनके शक्तिपीठ बन गये। ये शक्तिपीठ बहुत ही पावन तीर्थ कहलाये, जो पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में फैले हुए हैं। ये शक्तिपीठ धार्मिक दृष्टि से बहुत ही महत्त्वपूर्ण हैं। देवी पुराण में 51 शक्तिपीठों का वर्णन किया गया है। इन 51 शक्तिपीठों में से कुछ विदेशों में भी हैं। वर्तमान में भारत में 42, पाकिस्तान में 1, बांग्लादेश में 4, श्रीलंका में 1, तिब्बत में 1 तथा नेपाल में 2 शक्तिपीठ हैं।

शक्ति पीठ बनने की कथा-

पुराणों के अनुसार माता सती के 51 शक्तिपीठों के बनने की कथा इस प्रकार है-

भगवान शिव के ससुर राजा दक्ष ने एक यज्ञ का आयोजन किया था, जिसमें राजा दक्ष ने भगवान शिव और माता सती को निमंत्रण नहीं भेजा था क्योंकि राजा दक्ष भगवान शिव को अपने बराबर का नहीं समझते थे। यह बात माता सती को काफी बुरी लगी। वह बिना बुलाए यज्ञ में पहुंच गयीं। यज्ञ स्‍थल पर भगवान शिव का काफी अपमान किया गया जिसे माता सती सहन नहीं कर पायीं और वह वहीं हवन कुण्ड में कुद गयीं। भगवान शंकर को जब ये बात पता चली, जिसके बाद वे वहाँ पर पहुँच गए और माता सती के शरीर को हवनकुण्ड से निकालकर तांडव करने लगे, जिसके कारण सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड में उथल-पुथल मच गई। सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड को इस संकट से बचाने के लिए भगवान विष्णु ने माता सती के शरीर को अपने सुदर्शन चक्र से 51 भागों में बाँट दिया, जो अंग जहाँ पर गिरा वह शक्तिपीठ बन गया।

यहां शक्ति या सती का मतलब माता का वह रूप है जिसकी पूजा की जाती है तथा भैरव या शिव का मतलब शिवजी का वह अवतार है जो माता के इस रूप के स्वांगी हैं।

शक्तिपीठों की तालिका :-

क्रम संख्या शक्तिपीठ का नाम शक्तिपीठ का स्थान अंग या आभूषण शक्ति / सती का नाम भैरव / शिव का नाम
1 हिंगुल या हिंगलाज शक्तिपीठ बलूचिस्तान, पाकिस्तान ब्रह्मरंध्र (सिर का ऊपरी हिस्सा या कपाल) कोट्टरी भीमलोचन
2  मानस शक्तिपीठ कैलाश पर्वत, मानसरोवर, तिब्ब्त के पास एक शिला दायां हाथ दाक्षायनी अमर
3  लंका या इन्द्राक्षी शक्तिपीठ त्रिकोणेश्वर मंदिर के निकट, जाफना, श्रीलंका पायल (नूपुर) इन्द्राक्षी राक्षसेश्वर
4  गुह्येश्वरी शक्तिपीठ निकट पशुपतिनाथ मंदिर, नेपाल दोनों घुटने महाशिरा कपाली
5 गण्डकी शक्तिपीठ गण्डकी नदी के तट पर, पोखरा, नेपाल मस्तक गंडकी चंडी चक्रपाणि
6 सुगंधा शक्तिपीठ सुगंध नदी के तट पर, बरिसाल, बांग्लादेश नासिका (नाक) सुनंदा त्रयंबक
7  यशोर शक्तिपीठ यशोर, ईश्वरीपुर, खुलना, बांग्लादेश हाथ और पैर के तलवे यशोरेश्वरी चंदा (चन्द्र)
8  करतोयाघाट शक्तिपीठ करतोया नदी के तट पर, भवानीपुर, बांग्लादेश बायां पायल (नूपुर) अपर्णा वामन
9 चट्टल शक्तिपीठ सीताकुंड स्टेशन के पास, चटगांव, बांग्लादेश दांयी भुजा भवानी चंद्रशेखर
10 ज्वाला जी शक्तिपीठ ज्वालामुखी, कांगड़ा, हिमाचल प्रदेश जीभ सिद्धिदा (अंबिका) उन्मत्त
11 वैद्यनाथ शक्तिपीठ देवघर , गिरिडीह, झारखण्ड हृदय  (दिल) जयदुर्गा वैद्यनाथ
12 रामगिरि शक्तिपीठ चित्रकूट, उत्तर प्रदेश दायां वक्ष शिवानी चण्ड
13 कन्याकुमारी शक्तिपीठ कन्याकुमारी, तमिल नाडु देह का पृष्ठभाग (पीठ) श्रवणी निमिष
14  शुचीन्द्रम शक्तिपीठ कन्याकुमारी-तिरुवनंतपुरम मार्ग, तमिलनाडु ऊपरी दाड़ (ऊर्ध्वदंत) नारायणी संहार
15  त्रिपुर सुंदरी शक्तिपीठ माताबाढ़ी पर्वत शिखर, निकट राधाकिशोरपुर गाँव, उदरपुर, त्रिपुरा दायां पैर त्रिपुर सुंदरी त्रिपुरेश
16 मगध शक्तिपीठ पटनेश्वरी देवी, पटना, बिहार दाहिनी जंघा सर्वानन्दकरी व्योमकेश
17 उमा या मिथिला शक्तिपीठ जनकपुर रेलवे स्टेशन के पास, (भारत-नेपाल सीमा पर) बिहार बायां स्कंध (कंधा) महादेवी महोदर
18 रत्नावली शक्तिपीठ रत्नाकर नदी तट, हुगली, पश्चिम बंगाल दायां स्कंध (कंधा) कुमारी शिव
19 भैरव पर्वत शक्तिपीठ क्षिप्रा नदी तट, उज्जयिनी, मध्य प्रदेश उध्र्वोष्ठ (ऊपरी होठ) अवंति लंबकर्ण
20 श्री शैल शक्तिपीठ हैदराबाद से 250 कि.मी. दूर कुर्नूल के पास, आंध्र प्रदेश गला (ग्रीवा) महालक्ष्मी संवरानंद अथवा ईश्वरानंद
21 नलहाटी शक्तिपीठ नलहाटी, बीरभूम, पश्चिम बंगाल उदरनली (गले की नली) कालिका (दुर्गा) योगीश
22 जुगाड्या शक्तिपीठ क्षीरग्राम, बर्दमान, पश्चिम बंगाल दाहिने पैर का अंगूठा जुगाड्या क्षीर खंडक
23 मंगल चंडिका शक्तिपीठ उज्जनि, बर्दमान, पश्चिम बंगाल दायीं कलाई मंगल चंडिका कपिलांबर
24 विभाष शक्तिपीठ तामलुक, पूर्व मेदिनीपुर जिला, पश्चिम बंगाल बायीं एड़ी (टखना) कपालिनी (भीमरूप) शर्वानंद
25 किरीट शक्तिपीठ लालबाग कोर्ट रोड स्टेशन, मुर्शीदाबाद, पश्चिम बंगाल शिराभूषण या मुकुट विमला संवर्त
26 मणिवेदिका शक्तिपीठ गायत्री पर्वत, निकट पुष्कर, अजमेर, राजस्थान दो पहुंचियां (मणिबंध / कलाइयां या दो कंगन) गायत्री सर्वानंद
27 भ्रामरी या त्रिसोता शक्तिपीठ सालबाढ़ी, बोडा मंडल, जलपाइगुड़ी, पश्चिम बंगाल बायां पैर भ्रामरी अंबर
28 विशालाक्षी शक्तिपीठ मणिकर्णिका घाट, वाराणसी, उत्तर प्रदेश दाहिने कान की बाली विशालाक्षी काल भैरव
29 प्रयाग शक्तिपीठ संगम, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश दोनों हाथों की उंगलियां ललिता भव
30 पंच सागर शक्तिपीठ वाराणसी, उत्तर प्रदेश निचली दाड़ (अधोदन्त) वाराही महारुद्र
31 प्रभास शक्तिपीठ वेरावल स्टेशन, निकट सोमनाथ मंदिर, जूनागढ़, गुजरात पेट या आमाशय चंद्रभागा वक्रतुंड
32 देवीकूप शक्तिपीठ द्वैपायन सरोवर के पास थानेसर, कुरुक्षेत्र, हरियाणा एड़ी (टखने की हड्डी) सावित्री स्थानु
33 नन्दीपुर शक्तिपीठ सैंथिया रेलवे स्टेशन, बीरभूम, पश्चिम बंगाल गले का हार (कण्ठहार) नंदिनी नंदिकेश्वर
34 गोदावरी तट शक्तिपीठ कोटिलिंगेश्वर मंदिर, गोदावरी तट, आंध्रप्रदेश गाल रुक्मणी /

विश्वेश्वरी

वत्सनाभ /

दंडपाणि

35 शोण शक्तिपीठ अमरकंटक, नर्मदा के उद्गम पर, मध्य प्रदेश दायां नितंब (कूल्हा) नर्मदा / शोणाक्षी भद्रसेन
36 श्री पर्वत शक्तिपीठ लद्दाख / सिलहट से 4 कि.मी. दक्षिण-पश्चिम (नैऋत्यकोण) में जौनपुर, असम दक्षिण तल्प (कनपटी) श्री सुंदरी सुंदरानंद
37 विराट या अम्बिका शक्तिपीठ विराट, निकट भरतपुर, राजस्थान बाएँ पैर की उंगलियां अंबिका अमृतेश्वर
38 जालंधर या त्रिपुरमालिनी शक्तिपीठ निकट जालंधर रेलवे स्टेशन, पंजाब बांया वक्ष (छाती) त्रिपुरमालिनी भीषण
39 अंबाजी शक्तिपीठ गब्बर पर्वत शिखर, बनासकांठा, गुजरात हृदय अम्बाजी बटुक भैरव
40 बिराज शक्तिपीठ बिराज, जाजपुर, भुवनेश्वर, ओडिशा नाभि विमला जगन्नाथ
41 जनस्थान शक्तिपीठ नासिक के पंचवटी में स्थित, महाराष्ट्र ठोड़ी (ठुड्डी) भ्रामरी विकृताक्ष
42 कात्यायनी शक्तिपीठ वृंदावन, भूतेश्वर महादेव मंदिर, निकट मथुरा, उत्तर प्रदेश केशपाश / केश गुच्छ /

चूड़ामणि

उमा भूतेश
43 नैना देवी शक्तिपीठ नैनादेवी मंदिर, बिलासपुर, हिमाचल प्रदेश आँख महिष मर्दिनी क्रोधीश
44 कश्मीर या अमरनाथ शक्तिपीठ अमरनाथ, पहलगाम, जम्मू और कश्मीर गला (कंठ)

 

महामाया त्रिसंध्येश्वर
45 बाहुला शक्तिपीठ अजेय नदी तट, केतुग्राम, कटुआ, वर्धमान, पश्चिम बंगाल बायां हाथ बाहुला भीरुक
46 कामाख्या शक्तिपीठ कामगिरि, नीलांचल पर्वत, गुवाहाटी, असम योनि (प्रजनन अंग) कामाख्या उमानंद
47 कालीघाट शक्तिपीठ काली मन्दिर, कालीघाट, कोलकाता, पश्चिम बंगाल दायें पैर का अंगूठा कालिका नकुलीश
48 जयन्ती शक्तिपीठ जयंतिया पहाड़ी, मेघालय बायीं जंघा जयन्ती क्रमादीश्वर
49 कंकाली ताला शक्तिपीठ कोप्पई नदी के तट पर, बोलपुर स्टेशन, बीरभूम, पश्चिम बंगाल अस्थि (कंकाल) देवगर्भ रुरु

 

50 कालमाधव शक्तिपीठ शोन नदी तट पर एक गुफा में, अमरकंटक, शहडोल, मध्य प्रदेश बायां नितंब (कूल्हा)

 

काली

 

असितांग

 

51 अट्टहास शक्तिपीठ अट्टहास, लाबपुर स्टेशन, बीरभूम, पश्चिम बंगाल नीचे का होंठ (ओष्ठ) फुल्लरा

 

विश्वेश