मूली | Muli ke Fayde | Benefits of Radish in Hindi

270
हिंदी नाम अंग्रेजी नाम (English Name) वैज्ञानिक नाम (Scientific Name)
मूली रेडिश (Radish) रफ़ानस सैटिवास (Raphanus sativus)

 

मूली का वैज्ञानिक नाम रफ़ानस सैटिवास (Raphanus sativus) है। मूली का सेवन करने से पीलिया रोग, मूत्र संबंधी समस्याओं, बवासीर (Piles), निर्जलन (Dehydration) और रक्तचाप (Blood Pressure) आदि बीमारियों में राहत मिलती है।

मूली के फायदे

  1. मूली से दांत मज़बूत होते हैं और हड्डियों का घनत्व भी बढ़ता है।
  2. पीलिया रोग में मूली का सेवन करना लाभदायक होता है।
  3. मूली का ताजा रस पीने से मूत्र संबंधी समस्याओं में राहत मिलती है।
  4. मूली का बवासीर (Piles) बीमारी में सेवन करना लाभप्रद होता है।
  5. मूली खाने से वजन कम करने में मदद मिलती है।
  6. गुर्दे, कॉलन, पेट और मौखिक कैंसर में मूली का सेवन करना लाभप्रद होता है।
  7. मूली के सेवन से श्वसन तंत्र (Respiratory System) दुरुस्त रहता है।
  8. मूली शरीर के रक्तचाप (Blood Pressure) को नियंत्रित करता है।
  9. मूली के सेवन से रक्त में शर्करा का स्तर नियंत्रित रहता है।
  10. मूली को चेहरे पर लगाने से मुहाँसे, दरारें और चकत्ते जैसे त्वचा के विकार ख़त्म होते हैं।
  11. मूली का नियमित सेवन करने से निर्जलन (Dehydration) की समस्या नहीं होता।
  12. मूली शरीर की रोग प्रतिरौधक शक्ति को बढ़ाती है।
  13. मूली का सेवन करने से जिगर (Kidney) और पित्ताशय (Gall bladder) की थैली संक्रमण और अल्सर से सुरक्षित रहती है।
  14. मूली के रस का सेवन करने से बुखार के कारण शरीर का तापमान और सुजन कम होती है।

मूली के नुकसान

  1. मूली के सेवन के पश्चात दूध का सेवन करना हानिकारक हो सकता है।
  2. मूली का अधिक सेवन करने से भूख में कमी, मुँह व गले में दर्द और सूजन आदि तकलीफ हो सकती हैं।