पल्स पोलियो – दो बूंद जिन्दगी की स्लोगन | Pulse Polio – Do Boond Zindagi Ki Slogan

1643

‘दो बूंद जिन्दगी की’ यह वो नारा है, जिसने भारत को बदल दिया। 13 जनवरी सन 2014 की यह तारीख महाशक्ति बनने की तरफ बढ़ रहे भारत के लिए “मील का पत्थर” है। इस दिन पोलियो मुक्त भारत के 7 साल पूरे हो गये हैं। सन 2005 के बाद तजाकिस्तान, सीरिया, मिस्र और इजराइल में पोलियो फिर से पनप रहा है। भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान और अफगानिस्तान में अभी भी पोलियो खत्म नहीं हुआ है। भारत को सतर्क रहना होगा कि इन देशों से पोलियो का वायरस देश में ना पनप सके।

‘दो बूंद जिन्दगी’ के विषय पर आधारित स्लोगन निम्नलिखित हैं।

स्लोगन.1

बच्चों को बचाना है, तो पोलियो की दवा पिलाना है।

स्लोगन.2

जब आये पोलियो की बारी, माता–पिता की है ये जिम्मेदारी।

स्लोगन.3

पोलियो की दवा पिलाना है, देश को बचाना है।

स्लोगन.4

हम हैं पोलियो के सिपाही, अब ना होगी पोलियो से तबाही।

स्लोगन.5

पोलियो की दवा पिलाओ, देश को बचाओ।

स्लोगन.6

आइये हम सब मिलकर पोलियो को मिटायें।

स्लोगन.7

पूरा तभी है आपका प्यार, जब मिले बच्चों को वक्त पर पोलियो का खुराक।

स्लोगन.8

उठो पोलियो बूथ चलो।

स्लोगन.9

समय पर प्रतिरक्षण, बच्चों को दें सुरक्षित जीवन।

स्लोगन.10

पोलियो का इलाज़ नहीं है, दो बूंद हर बार बचाव सही है।