उपसर्ग – वे शब्दांश, जो किसी शब्द के प्रारंभ में जुड़कर शब्द के अर्थ में विशेषता या परिवर्तन लाते हैं, उन्हें उपसर्ग कहते हैं।

जैसे –

अन् + आदर = अनादर
दुर + दिन = दुर्दिन
अभि + मान = अभिमान
अव + गुण = अवगुण

उपसर्ग के प्रकार – उपसर्ग तीन प्रकार के होते हैं-

उपसर्ग | Upsarg | Prefixes in Hindi

1) संस्कृत के उपसर्ग

उपसर्गअर्थशब्द रूप
नहीं, अभावअजर, अमर, अधर्म, अनाथ
अतिअधिकअत्याचार, अत्यंत, अतिरिक्त
अनुसमान, पीछेअनुराग, अनुकरण, अनुज
अधिऊपरअध्यक्ष, अधिकार, अधिपति
अभिसामनेअभिमान, अभिनेता, अभिलाषा

2) हिन्दी के उपसर्ग

उपसर्गअर्थशब्द रूप
अनअभाव, निषेधअनपढ, अनमोल, अनजान
कुबुराकुकर्म, कुपुत्र, कुरूप
चौचारचौराहा , चौपाई , चौमासा
भरपूराभरपेट, भरपूर, भरमार
अधआधाअधपका, अधमरा, अधकचरा

3) उर्दू के उपसर्ग

उपसर्गअर्थशब्द रूप
कमथोड़ाकमजोर, कमबख्त, कमसिन
से, के साथबनाम, बखूबी, बदौलत
हमसाथहमसफर, हमजोली, हमराही
सरमुख्यसरकार, सरदार, सरताज
हरप्रत्येकहरसाल, हरदिल, हरतरफ