प्रताप रेड्डी की जीवनी | Prathap Reddy Biography in Hindi

664

परिचय

डॉ प्रताप रेड्डी भारत के पहले कॉर्पोरेट अस्पताल समूह ‘अपोलो अस्पताल’ के संस्थापक हैं। वे एक हृदय रोग विशेषज्ञ हैं और भारत में उन्हें स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में क्रांति लाने के लिए जाना जाता है। उन्होंने अपने इस कदम से कई और लोगों को प्रेरित किया, जिसके फलस्वरूप भारत में लगभग 750 से भी अधिक कॉर्पोरेट अस्पताल हैं।

डॉ प्रताप रेड्डी ने चेन्नई के ‘स्टैनले मेडिकल कॉलेज’ से मेडिकल की डिग्री हासिल की और बाद में ब्रिटेन और संयुक्त राज्य अमेरिका में एक हृदय रोग विशेषज्ञ के रूप में प्रशिक्षण प्राप्त किया। उन्होंने मैसाचुसेट्स जनरल अस्पताल, बोस्टन से अपना फैलोशिप किया और सन 1978 में भारत लौटने से पहले कई वर्षों तक मिसौरी राज्य चेस्ट हॉस्पिटल, संयुक्त राज्य अमेरिका में कई शोध कार्यक्रमों के प्रमुख के तौर पर काम किया।

अमेरिका के वोरसेंटर सिटी हॉस्पिटल में चीफ रेजिडेंट के तौर पर काम करने के बाद डॉ प्रताप रेड्डी भारत वापस लौट आये और मद्रास शहर में छोटे स्तर पर अभ्यास करना शुरू किया। डॉ प्रताप रेड्डी को अपोलो अस्पताल समूह स्थापित करने का विचार तब आया, जब एक मरीज अपने ओपन हार्ट सर्जरी के लिए टेक्सास नहीं पहुँच पाया और उसकी मृत्यु हो गयी। इस घटना ने डॉ प्रताप रेड्डी को भारत में ही विश्व स्तरीय अस्पताल खोलने के लिए प्रेरित किया। डॉ प्रताप रेड्डी एक ऐसा अस्पताल बनाना चाहते थे, जो आम लोगों के लिए और अधिक सुलभ और किफायती हो।

डॉ प्रताप रेड्डी का सपना सन 1983 में साकार हुआ जब ‘अपोलो अस्पताल समूह’ का पहला केंद्र चेन्नई में स्थापित हुआ। 150 बिस्तरों वाले अस्पताल से शुरूआत करने के बाद अपोलो अस्पताल समूह ने लगातार उत्कृष्ट प्रदर्शन करते हुए चिकित्सा नवाचार, नैदानिक सेवाओं और अत्याधुनिक अनुसंधान के क्षेत्र में नेतृत्व को बनाए रखा है।

भारत के विभिन्न स्थानों पर करीब 50 अस्पतालों 8500 बेड्स उच्च श्रेणी के 4 हजार चिकित्सकों और 65 हजार से अधिक पेशेवर कर्मचारियों के साथ अपोलो अस्पताल समूह दुनिया में सबसे बड़ा अस्पताल समूहों में से एक है। लगातार उन्नत चिकित्सा सेवाओं के लिए इन अस्पतालों को दुनिया के सबसे अच्छे अस्पतालों में गिना जाता है। इन अस्पतालों ने 120 देशों के करीब 26 लाख लोगों की सेवा की है। उनमें से सात अस्पतालों को प्रतिष्ठित जेसीआई मान्यता (अक्क्रेडिटेशन) प्राप्त है।

डॉ प्रताप रेड्डी ने निजी स्वास्थ्य सेवा के बुनियादी ढांचे में संस्थागत परिवर्तन लाने के दिशा में अग्रणी काम शुरू किया है। इसके तहत उन्होंने पोस्ट ग्रेजुएट मेडिकल और नर्सिंग शिक्षा, अस्पताल प्रशासन, फिजियोथेरेपी, क्लीनिकल रिसर्च और पैरामेडिकल कार्यक्रमों के लिए अपोलो संस्थानों की स्थापना की है। अपोलो टेलीमेडिसिन नेटवर्किंग फाउंडेशन, स्वास्थ्य सुपर हाईवे अपोलो DKV इंश्योरेंस कंपनी और अपोलो रीच अस्पताल की स्थापना के साथ अपोलो समूह आज अगली पीढ़ी के समावेशी स्वास्थ्य समाधान का एक अग्रणी प्रदाता है।

अवार्ड एवं पुरस्कार

  • उन्हें मदर टेरेसा ‘सिटीजन ऑफ़ द ईयर’ पुरस्कार से भी सम्मानित किया।
  • उन्हें हार्वर्ड स्कूल प्रकाशन द्वारा स्वास्थ्य उद्योग में अग्रणी प्रयासों के लिए सम्मानित किया गया।
  • होस्पिमेडिका इंटरनेशनल द्वारा ‘लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड’ प्रदान किया गया।
  • दक्षिणी कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय द्वारा ‘एशिया प्रशांत बायो बिजनेस लीडरशिप अवार्ड’ प्राप्त हुआ।
  • ICICI समूह द्वारा ‘माँडर्न मेडिकेयर एक्सीलेंस अवार्ड’ दिया गया।
  • भारत सरकार ने एक डाक टिकट के रिलीज करके अपोलो अस्पताल समूह के स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में योगदान को नवम्बर 2009 सम्मानित किया।
  • भारत सरकार ने डॉ प्रताप सी रेड्डी को देश का दूसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘पद्म विभूषण’ अवार्ड से मार्च 2010 में सम्मानित किया।

जीवन घटनाचक्र

  • सन 1933 में मद्रास प्रेसीडेंसी के अरागोंदा में जन्म हुआ।
  • अमेरिका से भारत वापस सन 1978 में लौटे।
  • अपोलो अस्पताल समूह का पहला केंद्र चेन्नई में सन 1983 में स्थापित हुआ।
  • सन 1991 में ‘पद्म भूषण’ से सम्मानित किया गया।
  • भारत सरकार ने एक डाक टिकट जारी करके अपोलो अस्पताल को सन 2009 में सम्मानित किया।
  • सन 2010 में मार्च 2010 में भारत सरकार ने डॉ प्रताप सी रेड्डी को ‘पद्म विभूषण’ से सम्मानित किया।