पराली जलाने से दिल्ली-NCR के 2.5 करोड़ से अधिक लोगों को खतरा

389

पंजाब और हरियाणा के किसानों ने खेतों में पराली जलाना शुरू कर दिया है तथा पराली जलाने की तस्वीरें भी सामने आ रही हैं। दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार ने हरियाणा और पंजाब में पराली जलाने की तस्वीरें जारी की हैं। इसी के साथ आम आदमी पार्टी की सरकार ने हरियाणा और पंजाब से मांग की है कि पराली जलाने से रोकने के लिए कदम उठाए जाएं, जिससे दिल्ली के लोगों को वायु प्रदूषण की समस्या का सामना नहीं करना पड़े।

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री इमरान हुसैन ने आस-पास के राज्यों में पराली जलाए जाने की तस्वीरें जारी की हैं। मंत्री इमरान हुसैन ने कहा कि हरियाणा एवं पंजाब में पराली जलाया जा रहा है। दिल्ली से चंडीगढ़ जाने वाले रास्ते में पराली जलाई जा रही है। उन्होंने आगे कहा कि पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में पराली जलाने से दिल्ली की आबोहवा पर खराब असर पड़ता है। इससे दिल्ली में वायु प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुंच सकता है। अगर ऐसा हुआ तो दिल्ली NCR के 2.5 करोड़ लोगों को भारी समस्या का सामना करना पड़ेगा।

केजरीवाल के मंत्री ने पंजाब और हरियाणा पर साधा निशाना

उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा व राजस्थान सरकार ने पराली जलाने से रोकने के लिए पर्याप्त कदम नहीं उठाए हैं। पर्यावरण मंत्री इमरान हुसैन ने केंद्र सरकार को घेरते हुए यह भी कहा कि किसानों को पराली नहीं जलाने के लिए पर्याप्त सब्सिडी की व्यवस्था नहीं की जा सकी है। आग्रह के बावजूद केन्द्र सरकार ने सभी संबंधित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बैठक भी नहीं बुलाई है। गंभीर वायु प्रदूषण का सीधा असर बच्चों, बूढ़ों, महिलाओं और सांस के रोगियों पर पड़ता है। जानकारी के अनुसार दिल्ली-चंडीगढ़ नेशनल हाईवे के किनारे किसानों ने फिर से पराली जलाना तेज कर दिया है। इससे दिल्ली की हवा में धुआं भर रहा है। इससे पहले इसका असर अमृतसर, अंबाला, करनाल, सिरसा और हिसार के आसमान में दिखाई दे रहा है, यहां पर धुएं का गुबार बनना शुरू हो गया है।

दिल्ली की आबोहवा खराब

इस बीच एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI- Air Quality Index) के अनुसार, दिल्ली के आनंद विहार में हवा बेहद खराब व खतरनाक स्तर तक पहुंच गई है। पिछले 5 दिनों से लगातार दिल्ली की हवा खराब हो रही है। सप्ताह की शुरुआत में 9 अक्टूबर को दिल्ली में एयर क्वालिटी इंडेक्स 256 था, जबकि शनिवार को यह 699 पहुंच गया। एयर क्वालिटी इंडेक्स वह पैरामीटर है, जिसमें सांस के रूप में ली जाने वाली ऑक्सीजन की शुद्धता मापी जाती है।

दिल्ली NCR में प्रदूषण की समस्या एक गंभीर चिंता का विषय है, खासकर सर्दियों के मौसम में जब पराली जलाई जाती है। इस प्रदूषित हवा में सांस लेते हुए कई सावधानियों की ज़रूरत है। ये प्रदूषण सबसे पहले बच्चों और बुजुर्गों को अपना शिकार बनाता है, ऐसे में 5 साल से कम उम्र के बच्चों और 65 साल से अधिक उम्र के बुजुर्गों का खास ध्यान रखना चाहिए। बच्चों को इस तरह की प्रदूषित हवा में कम से कम बाहर निकलना चाहिए।