कच्चे केले की खस्ता मसाला पूरी | Kacche Kele Ki Khasta Masala Poori Recipe in Hindi

कच्चे केले की खस्ता मसाला पूरी कैसे बनाएं कच्चे केले की खस्ता मसाला पूरी बनाने के लिए आवश्यक सामग्री- गेहूं का आटा – 1 ½ कप (225 ग्राम) कच्चा केला – 6 पीस (500 ग्राम) हल्दी पाउडर – ½ छोटी चम्मच अजवायन – ½ छोटी चम्मच हरी मिर्च – 2 पीस  (बारीक कटी हुई) लाल...

घर का वास्तु | Vastu of Home

घर के निर्माण के समय वास्तु का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। वास्तु के अनुसार मकान का निर्माण करवाया जाए, तो घर में कष्ट, रोग नहीं आते हैं। घर बनवाते समय निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए- घर में हवा और प्राकृतिक रोशनी की सही व्यवस्था होनी चाहिए। टाॅयलेट पश्चिम दिशा में ही...

दुकान का वास्तु | Vastu of Shop

वर्तमान समय में सभी व्यापारी चाहते हैं कि दुकान में खूब सफलता मिले, कई बार परिश्रम के बावजूद भी दुकान में सफलता नहीं मिलती। इसका एक कारण दुकान और व्यापारिक स्थल का वास्तु दोष हो सकता है। वास्तु शास्त्र में दुकान की शुरूआत करने के लिए विशेष नियम बताए गए हैं। दुकान...

बैडरूम का वास्तु | Vastu of Bedroom

घर निर्माण में वास्तु का महत्वपूर्ण योगदान है। वास्तु के अनुसार घर बना हो, तो हम शांति एवं खुशहाली से अपना जीवन व्यतीत कर सकते हैं। बैडरूम बनवाते समय निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए-  घर की दक्षिण दिशा में बड़े-बुजुर्गों का बैडरूम और उत्तर-पश्चिम या उत्तर दिशा में...

9 March की प्रमुख घटनाएं, जन्मदिन, और इतिहास

भारत और विश्व के इतिहास में 9 मार्च का अपना एक खास स्थान है। 9 मार्च को भारत और विश्व में कई महत्वपूर्ण घटनाएँ घटित हुईं, जिनका जिक्र आज भी इतिहास के पन्नों में किया जाता है। आज 9 मार्च के दिन देश और दुनियाँ की कुछ महत्वपूर्ण बातें निम्नलिखित हैं- 9 मार्च 1776 में...

धोंडो केशव कर्वे का जीवन परिचय | Dhondo Keshav Karve Biography in Hindi

परिचय डॉ. धोंडो केशव कर्वे को ‘महर्षि कर्वे’ के नाम से भी जाता है, उन्हें आधुनिक भारत का सबसे बड़ा समाज सुधारक और उद्धारक माना जाता है। उन्होंने अपना पूरा जीवन संघर्षों से लड़ने तथा समाज सेवा करते हुए समाप्त कर दिया। धोंडो केशव कर्वे ने अपने कथन ‘जहाँ...

प्लाॅट का वास्तु | Vastu of Plot

प्लाॅट बनवाते या खरीदते वक्त प्लाॅट का आकार, दिशा जैसी बातों का ध्यान रखना चाहिए। प्लाॅट बनवाते समय निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए- शमशान या कूड़ा वाली जगह पर घर नहीं बनाना चाहिए। नुक्कड़ तथा चहल-पहल वाली जगह पर घर नहीं होना चाहिए। ऐसी जगह दुकान के लिए अच्छी है।...

पूजा घर का वास्तु | Vastu of Puja Ghar

हर घर में पूजा करने का एक स्थान जरूर होता है, लेकिन अनजाने में घर में मंदिर या पूजा घर बनवाते समय बिना वास्तु की जानकारी के गलती हो जाती है। घर के पूजा घर में देवी-देवताओं की मूर्ति स्थापित करते समय सावधानी बरतनी चाहिए। घर में पूजा घर बनवाते समय निम्न बातों का ध्यान...

रसोई का वास्तु | Vastu of Kitchen

वास्तु शास्त्र में रसोई (किचन) का महत्वपूर्ण स्थान है। किचन में स्टोव, चूल्हा, फ्रिज आदि को सही दिशा में रखना चाहिए। किचन (रसोई) में निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए-     घर में किचन (रसोई) दक्षिण-पूर्व दिशा में बनाना अच्छा होता है। किचन यदि दक्षिण-पूर्व दिशा में बनाना...

8 March की प्रमुख घटनाएं, जन्मदिन, और इतिहास

भारत और विश्व के इतिहास में 8 मार्च का अपना एक खास स्थान है। 8 मार्च को भारत और विश्व में कई महत्वपूर्ण घटनाएँ घटित हुईं, जिनका जिक्र आज भी इतिहास के पन्नों में किया जाता है। आज 8 मार्च के दिन देश और दुनियाँ की कुछ महत्वपूर्ण बातें निम्नलिखित हैं- 8 मार्च 1534 में...

मेथी नारियल के लड्डू | Methi Nariyal Ke Laddu Recipe in Hindi

मेथी नारियल के लड्डू कैसे बनाएं मेथी नारियल के लड्डू बनाने के लिए आवश्यक सामग्री- मेथी दाने – ¾ कप (100 ग्राम) बादाम – ¾ कप (100 ग्राम) गोंद – ½ कप (100 ग्राम) गुड़ – 2 कप (400 ग्राम, बारीक तोड़ा हुआ) गेहूं का आटा – 1 कप (150 ग्राम) सूखा...

ऑफिस का वास्तु | Vastu of Office

आजकल व्यापार में स्पर्धा बहुत अधिक बढ़ गई है। अपने व्यापार को बढ़ाने के लिए लोग परिश्रम करते हैं, लेकिन परिश्रम करने के बाद भी सफलता नहीं मिलती। इसका एक वजह उनके ऑफिस का वास्तु दोष हो सकता है। ऑफिस से संबंधित कुछ वास्तु नियम निम्न हैं-   ऑफिस के बाहर एक सुंदर साइनबोर्ड...

रेस्टोरेन्ट का वास्तु | Vastu of Restaurant

आज हर शहर, कस्बे में रेस्टोरेन्ट खुल गए हैं। ज्यादातर देखा जाता है कि कुछ रेस्टोरेन्ट बहुत ही अच्छे चलते हैं, कुछ रेस्टोरेन्ट का खर्चा भी नहीं निकल पाता तथा कुछ थोड़े ही समय में बंद हो जाते हैं। इसलिए रेस्टोरेन्ट में वास्तु का निवारण करना बहुत ही आवश्यक है। रेस्टोरेन्ट...

मुख्य द्वार का वास्तु | Vastu of Main Gate

भारत की परंपरा के अनुसार लोग मुख्य द्वार को कलश, ऊँ, स्वास्तिक, केले के पत्तों से सजाते हैं। मुख्य द्वार की दिशा सही स्थिति में होना घर की खुशहाली के लिए आवश्यक है। अन्य द्वारों की अपेक्षा मुख्य द्वार को सजाकर रखना चाहिए। मुख्य द्वार से संबंधित कुछ वास्तु नियम निम्न...

7 March की प्रमुख घटनाएं, जन्मदिन, और इतिहास

भारत और विश्व के इतिहास में 7 मार्च का अपना एक खास स्थान है। 7 मार्च को भारत और विश्व में कई महत्वपूर्ण घटनाएँ घटित हुईं, जिनका जिक्र आज भी इतिहास के पन्नों में किया जाता है। आज 7 मार्च के दिन देश और दुनियाँ की कुछ महत्वपूर्ण बातें निम्नलिखित हैं- 7 मार्च 321 में रोमन...

श्यामा प्रसाद मुखर्जी का जीवन परिचय | Syama Prasad Mukherjee Biography in Hindi

परिचय डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी भारतीय शिक्षाविद, चिन्तक, राजनेता और भारतीय जनसंघ के संस्थापक थे। उन्हें एक प्रखर राष्ट्रवादी के तौर पर भी पहचाना जाता है। वे जवाहर लाल नेहरु मंत्रिमंडल में उद्योग और आपूर्ति मंत्री रहे, पर जवाहर लाल नेहरु के साथ मतभेदों के कारण...

द्वारवेध का वास्तु | Vastu of Dwarvedha

प्रवेश द्वार के सामने कोई अड़चन या रूकावट होती है, तो उसे द्वारवेध कहते हैं। घर के मुख्य प्रवेश द्वार के सामने द्वारवेध का होना सही नहीं है। द्वारवेध यदि घर की ऊँचाई से 2 गुना दूरी पर हो, तो उसका दोष नहीं लगता। द्वारवेध से संबंधित कुछ वास्तु नियम निम्न हैं-  प्रवेश...

खिड़कियों का वास्तु | Vastu of Windows

वास्तु के अनुसार घर में खिड़कियों की स्थिति का हमारे जीवन पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। खिड़की गलत दिशा में होने से घर में रहने वाले सदस्यों को बुरे प्रभावों का सामना करना पड़ता है। खिड़कियों से संबंधित कुछ नियम निम्न हैं-   खिड़कियां की संख्या सम होनी चाहिए, विषम संख्या...

सीढ़ियों का वास्तु | Vastu of Stairs

सीढ़ी का घर में महत्वपूर्ण स्थान होता है। सही दिशा में सीढ़ियों के होने से लोग तरक्की करते हें, लेकिन गलत दिशा में सीढ़ियों के होने से सदस्यों को नुकसान पहुंच सकता है। सीढ़ियों से संबंधित कुछ वास्तु नियम निम्न हैं- सीढ़ियां को घर के दक्षिण या पश्चिमी दिशा में बनाने से घर...

वी. के. कृष्ण मेनन का जीवन परिचय | V. K. Krishna Menon Biography in Hindi

परिचय वी. के. कृष्ण मेनन का पूरा नाम ‘वेंगालिल कृष्णन कृष्ण मेनन’ था। वे भारत के रक्षा मंत्री (1957 से 1962), भारतीय कूटनीतिज्ञ और राजनीतिज्ञ थे। टाइम मैगज़ीन के मुताबिक, वे जवाहरलाल नेहरु के बाद भारत में सबसे प्रभावी व्यक्ति थे। उन्होंने इंग्लैंड में एक...