संज्ञा – किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान या भाव के नाम को संज्ञा कहते हैं।

उदाहरण – मथुरा, कानपुर, जल, राधा, लक्ष्मीबाई, नदी आदि।

संज्ञा | Sangya | Noun in Hindi

संज्ञा के प्रकार – संज्ञा के प्रकार निम्नलिखित हैं-

1) व्यक्तिवाचक संज्ञा – जब एक ही व्यक्ति या वस्तु का ज्ञान होता है तो उसे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते हैं।

उदाहरण – राम, सीता, गंगा, दिल्ली, नोएडा इत्यादि।

2) जातिवाचक संज्ञा – जब संपूर्ण जाति का ज्ञान होता है तो उसे जातिवाचक संज्ञा कहते हैं।

उदाहरण – आदमी, नारी, शत्रु, नदी, गाय, वृक्ष, पहाड़ इत्यादि।

(1) समूहवाचक संज्ञा – जब किसी पदार्थ, प्राणी तथा व्यक्ति के समूह का ज्ञान होता है तो उसे समूहवाचक संज्ञा कहते हैं।

उदाहरण – सम्मेलन, कक्षा, परिवार, दौड़, भीड़, सेना इत्यादि।

(2) द्रव्यवाचक संज्ञा – किसी द्रव्य या धातु का ज्ञान होता है तो उसे द्रव्यवाचक संज्ञा कहते हैं।

उदाहरण – सोना, चाँदी, पीतल, पनीर, दूध, चना, कोयला इत्यादि।

3) भाववाचक संज्ञा – किसी वस्तु के गुण, स्वभाव, अवस्था, दशा इत्यादि को ज्ञान होता है तो उसे भाववाचक संज्ञा कहते हैं।

उदाहरण – वफादार, बेईमान, जवानी, बुढ़ापा इत्यादि।