नितीश कुमार की जीवनी | Nitish Kumar Biography in Hindi

475

परिचय

नीतीश कुमार भारतीय राजनेता और भारत के बिहार राज्य के मुख्यमंत्री हैं। वे सन 2005 से 2014 तक बिहार के मुख्यमंत्री रहे और सन 2015 से 2017 तक उन्होंने भारत सरकार में रेल मंत्री के तौर पर काम किया। वे जनता दल यू के मुख्य नेताओं में से हैं।

उन्होंने 17 मई 2014 को भारतीय आम चुनाव में अपने पार्टी के खराब प्रदर्शन की जिम्मेदारी संभालने से इनकार कर दिया और वे ‘जीतन राम मांझी’ के पद पर रहे। लेकिन वे बिहार में राजनीतिक संकट से फरवरी 2015 में कार्यालय में लौट आया और नवंबर 2015 की बिहार विधान सभा चुनाव 2015 जीता। वे 10 अप्रैल 2016 को अपनी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर चुनी गई। सन 2019 के आगामी चुनाव में सहित कई राजनेताओं ‘लालू प्रसाद यादव’, ‘तेजसवी यादव’ और अन्य ने भारत में प्रधानमंत्री पद के लिए उन्हें प्रस्तावित किया लेकिन उन्होंने ऐसी आकांक्षाओं से इनकार किया है उन्होंने 26 जुलाई 2017 को बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में गठबंधन सहयोगी RJD (Rashtriya Janata Dal) के बीच मतभेद के साथ फिर से त्यागपत्र दे दिया था, CBI (Central Bureau of Investigation) द्वारा FIR (First Information Report) में उपमुख्यमंत्री और लालू प्रसाद यादव के पुत्र तेजस्वी यादव के नामकरण के कारण। कुछ घंटे बाद वे NDA (National Democratic Alliance) गठबंधन में शामिल हो गए, जो इस प्रकार अब तक विरोध कर रहे थे, और विधानसभा में बहुमत हासिल कर लेते थे, अगले दिन ही मुख्यमंत्री पद को छोड़ रहे थे।

शुरूआती जीवन

नीतीश कुमार का जन्म 1 मार्च 1951 को बिहार के पटना जिले के बख्तियारपुर में हुआ था। उनके पिता का नाम  ‘राम लखन सिंह’ तथा उनकी माता का नाम ‘परमेस्वरी देवी’ था। उनके पिता एक आयुर्वेदिक वैद्य और स्वतंत्रता सेनानी थे। नीतीश कुमार ने सन 1972 में बिहार कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से विद्युत इंजीनियरिंग में डिग्री हासिल की। वे बिहार राज्य बिजली बोर्ड में शामिल हुए और बाद में राजनीति में चले गए।

राजनैतिक करियर

नीतीश कुमार बिहार अभियांत्रिकी महाविद्यालय के छात्र रहे हैं जो अब राष्ट्रीय तकनीकी संस्थान, पटना के नाम से जाना जाता हैं। वहाँ से उन्होंने विद्युत अभियांत्रिकी में उपाधि हासिल की थी। वे 1974 एवं 1977 में जयप्रकाश बाबू के सम्पूर्ण क्रांति आंदोलन में शामिल रहे थे एवं उस समय के महान समाजसेवी एवं राजनेता सत्येन्द्र नारायण सिन्हा के काफी करीबी रहे थे।

वे पहली बार बिहार विधानसभा के लिए सन 1985 में चुने गये थे। सन 1987 में वे युवा लोकदल के अध्यक्ष बने। 1989 में उन्हें बिहार में जनता दल का सचिव चुना गया और उसी वर्ष वे 9वी लोकसभा के सदस्य भी चुने गये थे।

1990 में वे पहली बार केन्द्रीय मंत्रीमंडल में बतौर कृषि राज्यमंत्री शामिल हुए। 1991 में वे एक बार फिर लोकसभा के लिए चुने गये और उन्हें इस बार जनता दल का राष्ट्रीय सचिव चुना गया तथा संसद में वे जनता दल के उपनेता भी बने। सन 1989 और 2000 में उन्होंने बाढ़ लोकसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया। 1998-1999 में कुछ समय के लिए वे केन्द्रीय रेल एवं भूतल परिवहन मंत्री भी रहे और अगस्त 1999 में गैसाल में हुई रेल दुर्घटना के बाद उन्होंने मंत्रीपद से अपना इस्तीफा दे दिया।

सन 2000 में वे बिहार के मुख्यमंत्री बने लेकिन उन्हें सिर्फ 7 दिनों में इस्तीफा देना पड़ा। उसी वर्ष वे फिर से केन्द्रीय मंत्रीमंडल में कृषि मंत्री बने। मई 2001 से 2004 तक वे बाजपेयी सरकार में केन्द्रीय रेलमंत्री रहे। 2004 के लोकसभा चुनावों में उन्होंने बाढ़ एवं नालंदा से अपना पर्चा दाखिल किया लेकिन वे बाढ़ की सीट हार गये।

नवंबर 2005 में राष्ट्रीय जनता दल की बिहार में 15 वर्ष पुरानी सत्ता को उखाड़ फेंकने में सफल हुए और मुख्यमंत्री के रूप में उनकी ताजपोशी हुई। सन 2010 के बिहार विधानसभा चुनावों में अपनी सरकार द्वारा किये गये विकास कार्यों के आधार पर वे भारी बहुमत से अपने गठबंधन को जीत दिलाने में सफल रहे और पुनरू मुख्यमंत्री बने। सन 2014 में उन्होनें अपनी पार्टी की संसदीय चुनाव में खराब प्रदर्शन के कारण मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया।

व्यक्तिगत जीवन

नीतीश कुमार का विवाह सन 1973 में ‘मंजू कुमारी सिन्हा’ के साथ हुआ। मंजू कुमारी सिन्हा पटना में एक स्कूल में अध्यापिका थीं। मंजू कुमारी सिन्हा का निधन सन 2007 में हो गया था।