निर्गुण्डी | Nirgundi in Hindi

316
हिंदी नाम अंग्रेजी नाम (English Name) वैज्ञानिक नाम (Scientific Name)
निर्गुण्डी निर्गुण्ड (Nirgundi) विटेक्स नेगंडो (Vitex Negundo)

 

निर्गुण्डी का वैज्ञानिक नाम विटेक्स नेगंडो (Vitex Negundo) है। निर्गुण्डी से मोच, गले की सुजन, हाथ पैर की जलन, दमा (Asthma), निमोनिया (Pneumonia), माइग्रेन (Migraine) जैसी आदि समस्याओं में लाभ मिलता है।

निर्गुण्डी के फायदे

  1. निर्गुण्डी के पत्तों को पीसकर हाथ और पैरों पर लगाने से हाथ और पैर की जलन में लाभ मिलता है।
  2. निर्गुण्डी के पत्तों पीसकर पानी के साथ सेवन करने से गले की सुजन में लाभ मिलता है।
  3. निर्गुण्डी के पत्तों को गर्म करके मोच पर बाँधने से लाभ होता है।
  4. निर्गुण्डी के पत्तों के रस से दमा (Asthma), निमोनिया (Pneumonia) जैसे रोग ठीक होते हैं।
  5. निर्गुण्डी के पत्तों का रस दूध के साथ सेवन करने से खांसी में लाभ मिलता है।
  6. निर्गुण्डी पाचन तंत्र में सुधार लाती है और पाचन तंत्र को दुरुस्त बनाए रखती है।
  7. निर्गुण्डी की जड़ का काढ़ा बनाकर कुल्ला करने से टॉन्सिल (Tonsils) ठीक हो जाती है।
  8. निर्गुण्डी के पत्तों का रस सेवन करने से हृदय की सुजन में लाभ मिलता है।
  9. निर्गुण्डी के सेवन से त्वचा जवान और सुन्दर बनी रहती है।
  10. निर्गुण्डी महिलायों में बांझपन (Infertility) को दूर करती है।
  11. निर्गुण्डी के पत्तों का लेप बनाकर माथे पर लगाने से माइग्रेन (Migraine) रोग में आराम मिलता है।
  12. निर्गुण्डी के पत्तों का काढ़ा सेवन करने से साइटिका (Sciatica) रोग में लाभ होता है।
  13. निर्गुण्डी के तेल को गठिया रोग पर लगाने से गठिया के दर्द और सुजन में लाभ होता है।
  14. निर्गुण्डी का तेल बालों का गिरना बंद करके बालों को प्राकृतिक काला करता है और जूं, रुसी को भी खत्म करता है।

निर्गुण्डी के नुकसान

  1. गर्म तासीर के व्यक्ति को निर्गुण्डी से हानि हो सकती है।
  2. निर्गुण्डी का अधिक सेवन करने से सर दर्द और गुर्दे (Kidney) पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है।