नीरज चोपड़ा की जीवनी | Neeraj Chopra Biography in Hindi

1017

परिचय

नीरज चोपड़ा एक भारतीय ‘ट्रैक और फील्ड एथलीट’ हैं, नीरज चोपड़ा भाला फेंकने  (Javelin Throw) वाले खेल के खिलाडी हैं। अंजू बॉबी जॉर्ज पहले भारतीय थे, जिन्होंने विश्व चैम्पियनशिप स्तर पर भारत के लिए गोल्ड मेडल जीता और नीरज चोपड़ा ने भारत को विश्व चैम्पियनशिप स्तर पर गोल्ड मेडल दिलाया है।

नीरज चोपड़ा ने बायडगोसज्च्ज़, पोलैंड में आयोजित 2016 IFFC U20 विश्व चैंपियनशिप में यह गोल्ड मेडल हासिल किया था। इस पदक को जीतने के साथ-साथ नीरज चोपड़ा ने 82.23 मीटर तक भाला फेंक कर एक नया विश्व जूनियर रिकॉर्ड भी बनाया है। ऐसे बेहतरीन प्रदर्शन के बाद वे 2016 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में जगह पाने में कामयाब नहीं रहे, क्योंकि क्वालीफाई करने के लिए अंतिम तारीख 11 जुलाई थी।

नीरज चोपड़ा ने 2018 एशियन गेम्स में हिस्सा भी लिया था, जहाँ इन्होंने गोल्ड मेडल जीता, इसके साथ ही  88.06 मीटर का राष्ट्रीय स्तर का रिकॉर्ड बनाया और  राष्ट्रमण्डल खेलों (2018 Commonwealth Games) में भी गोल्ड मेडल जीता।

जीवन

नीरज चोपड़ा का जन्म 24 दिसंबर 1997 को हुआ था। नीरज चोपड़ा भारत के खंडरा गांव, पानीपत, हरियाणा से हैं। इनकी शिक्षा डीएवी कॉलेज में हुई, जो चंडीगढ़ में है। इनके पिता का नाम सतीश कुमार है, जो किसान हैं और माता का नाम सरोज देवी है, जो गृहिणी हैं। नीरज चोपड़ा संयुक्त परिवार में रहते हैं।

करियर

नीरज चोपड़ा ने 2016 के दक्षिण एशियाई खेलों (South Asian Games) में 82.23 मीटर तक भाला फेंक कर गोल्ड मेडल जीता, भाला फेंक कर उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय रिकॉर्ड की बराबरी भी की। उन्होंने पोलैंड के बाइडगोस्ज़्ज़ में 2016 IAAF विश्व U20 चैम्पियनशिप में गोल्ड मेडल जीता। उन्होंने एक विश्व जूनियर रिकॉर्ड भी स्थापित किया। नीरज चोपड़ा ने 85.23 मीटर तक भाला फेंक कर एशियाई एथलेटिक चैम्पियनशिप 2017 में एक और गोल्ड मेडल जीता।

मई 2018 में, उन्होंने ‘दोहा डायमंड लीग’ में 87.43 मीटर तक भाला फेंक कर राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ दिया। उनके वर्तमान कोच ‘उवे होह्न’ हैं। 27 अगस्त 2018 को, नीरज ने 88.06 मीटर की दूरी पर भाला फेंका और 2018 एशियाई खेलों में पुरुषों के भाला फेंकने के खेल में गोल्ड मेडल हासिल किया। ‘दोहा डायमंड लीग’ में स्थापित अपने पिछले रिकॉर्ड को तोड़ते हुए एक नया और बेहतर रिकॉर्ड स्थापित किया।