मैसूर | Mysore in Hindi

156

मैसूर कर्नाटक राज्य का दूसरा सबसे बड़ा शहर है, जो अपने राजसी महलों के लिए जाना जाता है। यहां पर स्थित मैसूर का महल पूरे विश्व में विख्यात है। इस महल को अंबा विला के नाम से भी जाना जाता है। यह बंगलौर से लगभग 150 कि.मी. दक्षिण में तमिलनाडु की सीमा पर बसा हुआ है। मैसूर महलों, बगीचों और मंदिरों का शहर है। मैसूर में किले, पहाड़ियाँ और झीलें भी हैं, जो पर्यटन की दृष्टि से काफी महत्त्वपूर्ण हैं। आज भी इसकी खूबसूरती बनी हुई है। इन्हीं आकर्षणों के कारण मैसूर को पर्यटकों का स्वर्ग कहा जाता है। यहां पर सूती और रेशमी कपड़े, क्रेप सिल्क की साड़ियाँ, चंदन का साबुन, चंदन का तेल, चंदन की लकड़ी से बने सामान, बटन और अन्य कलात्मक वस्तुएं भी बनाई जाती हैं। मैसूर वुडयार वंश के शासनकाल में उनकी राजधानी हुआ करता था। वुडयार राजा कला और संस्कृति प्रेमी थे। उन्होंने अपने 150 वर्ष के शासनकाल में कला और संस्कृति को बहुत बढ़ावा दिया। उस समय मैसूर दक्षिण की सांस्कृतिक बन गया था। मैसूर कर्नाटक संगीत और नृत्य का एक प्रमुख केन्द्र है। दक्षिण भारत का यह प्रसिद्ध पर्यटन स्थल अपने वैभव और शाही परिवेश के लिए पहचाना जाता है। मैसूर शहर की पुरानी चमक-दमक, हवेलियां, खूबसूरत गार्डन आदि यहां आने वाले पर्यटकों को लुभाती हैं। यहां ऐतिहासिक महत्त्व की जगहों से अलग भी ऐसी बहुत सी जगह हैं, जहां पर्यटक भ्रमण कर सकते हैं।

मैसूर कैसे जाएं

मैसूर हवाई मार्ग, रेल मार्ग और सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। हवाई मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 1819 कि.मी. है। रेल मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 2554 कि.मी. है और सड़क मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 2293 कि.मी. है। मैसूर घूमने के लिए अक्टूबर से मार्च का महीना सबसे उपयुक्त है। मैसूर हवाई मार्ग, रेल मार्ग और सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। हवाई मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 1819 कि.मी. है। रेल मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 2554 कि.मी. है और सड़क मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 2293 कि.मी. है। मैसूर घूमने के लिए अक्टूबर से मार्च का महीना सबसे उपयुक्त है। मैसूर हवाई मार्ग, रेल मार्ग और सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। हवाई मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 1819 कि.मी. है। रेल मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 2554 कि.मी. है और सड़क मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 2293 कि.मी. है। मैसूर घूमने के लिए अक्टूबर से मार्च का महीना सबसे उपयुक्त है। ,मैसूर हवाई मार्ग, रेल मार्ग और सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। हवाई मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 1819 कि.मी. है। रेल मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 2554 कि.मी. है और सड़क मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 2293 कि.मी. है। मैसूर घूमने के लिए अक्टूबर से मार्च का महीना सबसे उपयुक्त है। मैसूर हवाई मार्ग, रेल मार्ग और सड़क मैसूर हवाई मार्ग, रेल मार्ग और सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। हवाई मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 1819 कि.मी. है। रेल मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 2554 कि.मी. है और सड़क मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 2293 कि.मी. है। मैसूर घूमने के लिए अक्टूबर से मार्च का महीना सबसे उपयुक्त है।

मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। हवाई मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 1819 कि.मी. है। रेल मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 2554 कि.मी. है और सड़क मार्ग द्वारा दिल्ली से मैसूर की दूरी लगभग 2293 कि.मी. है। मैसूर घूमने के लिए अक्टूबर से मार्च का महीना सबसे उपयुक्त है।