ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे।।
अकालमृत्युहरणं सर्वव्याधिविनाशनम्। विष्णोः पादोदकं पीत्वा पुनर्जन्म न विद्यते।।
ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम। उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्।।
ॐ शैलपुत्री मैया रक्षा करो। ॐ जगजननि देवी रक्षा करो। ॐ नव दुर्गा नमः। ॐ जगजननी नमः।। ॐ ब्रह्मचारिणी मैया रक्षा करो। ॐ भवतारिणी देवी रक्षा करो। ॐ नव दुर्गा नमः। ॐ जगजननी नमः।। ॐ चंद्रघणटा चंडी रक्षा करो। ॐ भयहारिणी मैया रक्षा करो। ॐ नव दुर्गा नमः। ॐ जगजननी नमः।। ॐ कुषमाणडा तुम ही रक्षा करो। ॐ शक्तिरूपा मैया रक्षा करो। ॐ...
ॐ ब्रह्मा मुरारिस्त्रिपुरान्तकारी, भानुः शशी भूमिसुतो बुधश्च। गुरुश्च शुक्रः शनिराहु केतवः, सर्वे ग्रहा शान्तिकरा भवन्तु।।
अग्रत: चतुरो वेदा: पृष्‍ठत: सशरं धनु:। इदं ब्राह्मं इदं क्षात्रं शापादपि शरादपि।।
यानि कानि च पापानि जन्मान्तरकृतानि च। तानि तानि प्रणश्यन्ति प्रदक्षिण पदे पदे।।
ॐ वागीश्वर्यै विद्महे वाग्वादीन्ये दीमहे तन्नः सरस्वती प्रचोदयात या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवः सदा पूजिता सा मां पातु सरस्वति भगवती निःशेषजाड्यापहा॥१॥ दोर्भिर्युक्ता चतुर्भिं स्फटिकमणिनिभैरक्षमालान्दधान सरस्वती मूल मंत्र ॐ सं सरस्वथाये नमः
वन्दे हं शीतलां देवी रासभस्थां दिगम्बराम्। मार्जनीकलशोपेतां शूर्पालङ्कृतमस्तकाम्।।
त्वमेव माता च पिता त्वमेव। त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव। त्वमेव विद्या द्रविणं त्वमेव। त्वमेव सर्व मम देवदेव।। विष्णु मूल मंत्र ॐ नमोः नारायणाय. ॐ नमोः भगवते वासुदेवाय।।

खबरें छूट गयी हैं तो