मनजीत सिंह की जीवनी | Manjit Singh Biography in Hindi

58

परिचय

‘मनजीत सिंह’ एक भारतीय मध्यम दूरी के रनर (एथलीट) हैं, जो 800 मीटर और 1500 मीटर की दौड में माहिर हैं। उन्होंने 2018 एशियाई खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया और जकार्ता में 800 मीटर की दौड में ‘गोल्ड मेडल’ जीता।

जीवन

मनजीत सिंह का जन्म 1 सितंबर 1989 को उझाना गांव, जिला- जिंद, हरियाणा में हुआ था। मनजीत सिंह का पूरा नाम मनजीत सिंह चहल है। मनजीत सिंह के पिता का नाम रणधीर चहल और माता का नाम बिमला देवी है। मनजीत सिंह ने खेल के प्रति जुनून अपने पिता की वजह से पाया, मनजीत सिंह के पिता रणधीर चहल ‘डिस्कस थ्रो’ और ‘शॉट पुट’ के एथलीट थे। मनजीत सिंह की शादी हो चुकी है, उनकी पत्नी का नाम किरण है, उनका एक बेटा भी है, जिसका नाम अभीर है। मनजीत सिंह अपने खाली समय में डेयरी, मवेशी और खेती के कार्यों में अपने पिता की मदद भी करते हैं। उन्होंने 2013 से 2016 तक ONGC के साथ अनुबंध तौर पर काम भी किया है।

करियर: 2013 से 2017

2013 में मनजीत सिंह ने पुणे में आयोजित 2013 एशियाई एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में अपने पहले अंतरराष्ट्रीय आयोजन में भाग लिया, जहां उन्होंने पुरुषों की 800 मीटर दौड को 1: 49.70 मिनट में ख़त्म किया और वे चौथे स्थान पर रहे।

2014 में, मनजीत सिंह ने ‘फेडरेशन कप’ में 800 मीटर में एक ‘सिल्वर मेडल’ जीता, लेकिन राष्ट्रमंडल खेलों और एशियाई खेलों के लिए क्वालीफाई करने में नाकाम रहे। ढाई साल तक लंबी चोट के बाद, मनजीत सिंह ने ‘राष्ट्रीय इंटर-स्टेट चैंपियनशिप’ में हैदराबाद में भाग लिया, जहाँ इन्होंने सिल्वर मेडल जीता और फिर गुंटूर में भी इन्होंने ‘सिल्वर मेडल’ जीता था।

2018

7 मार्च 2018 को ‘पटियाला फेडरेशन कप’ में मनजीत सिंह ने 800 मीटर और 1500 मीटर दोनों दौडों में हिस्सा लिया और 1500 मीटर से 3: 42.24 के अपनी टाइमिंग को बेहतर बनाया और 2018 एशियाई खेलों में 1500 मीटर के लिए क्वालीफाई किया।

27 अगस्त 2018 को मनजीत सिंह ने भारत को 36 साल बाद एशियाई खेलों में पुरुषों की 800 मीटर दौड में गोल्ड मेडल जीतने के लिए साथी ‘जीन्सन जॉनसन’ और अन्य को भी हराया, जहां उन्होंने 1: 46.15 के समय में दौड को पूरा किया। यह उनका व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ रिकॉर्ड था।