मेक इन इण्डिया | Make In India in Hindi

149

‘मेक इन इण्डिया’ माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू की गई एक नई योजना है। इसके अंतर्गत भारत में वैश्विक निवेश और विनिर्माण को आकर्षित करने की योजना बनाई गई और 25 सितंबर 2014 को इस मुहिम की शुरूआत की गयी।

भारत में बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर पैदा करने और अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए ‘मेक इन इण्डिया’ अभियान शुरू किया गया। यह देश के युवाओं के लिए रोजगार का एक सफल रास्ता तैयार कराता है, जो निश्चित ही भारत में गरीबी के स्तर को कम करने और दूसरे सामाजिक मुद्दों में मदद करेगा।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा पूरे विश्व के प्रमुख निवेशकों के लिए मेक इन इण्डिया एक निमंत्रण है कि भारत आओ और यहाँ उत्पादों के निर्माण के द्वारा अपने व्यापार को बढ़ाओ। प्रधानमंत्री जी ने निवेशकों से कहा कि इससे कोई मतलब नहीं है कि आप किस देश में अपने सामान को बेच रहे हैं, यद्यपि आपको भारत में उत्पादन करना चाहिए।

लक्ष्य को पाने के लिए भारत के लोगों में प्र्याप्त मात्रा में योग्यताकौशलअनुशासन और प्रतिबद्धता है। मेक इन इण्डिया को सफल बनाने के लिए 500 धनी कंपनियों के प्रमुख 40 CEO से भारत के प्रधानमंत्री ने मुलाकात की। “इन्वेस्ट इण्डिया” नाम से वाणिज्य मंत्रालय में एक विशेष ईकाई है जो नियामक अनापत्ति को प्राप्त करने में सहयोग करने के साथ ही नियामक और नीतिगत मुद्दे के संबंध में सभी प्रमुख विदेशी निवेशकों का मार्गदर्शन करता है।

मेक इन इण्डिया की कोशिश है कि भारत एक आत्मनिर्भर देश बने। इसका एक उद्देश्य देश में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को अनुमति देना और घाटे में चल रही सरकारी कंपनियों की हालत को सुधारना भी है। मेक इन इण्डिया अभियान पूरी तरह से केन्द्र के अधीन है और सरकार ने ऐसे 25 सेक्टरों की पहचान की है, जिनमें ग्लोबल लीडर बनने की क्षमता है। निवेशकों पर से किसी भी प्रकार का बोझ घटाने के लिए भारतीय सरकार एक बड़ा प्रयास कर रही है। वेब पोर्टल makeinindia.com के द्वारा व्यापारिक कंपनियों के सभी सवालों का जवाब देने के लिए एक टीम भारतीय सरकार ने बनाई है।