बीमारी

मनुष्य के शरीर में किसी अंग का या शारीरिक क्रिया का सही तरह से काम नहीं करने की अवस्था को बीमारी कहते हैं। बीमारी स्वास्थ्य की खराब अवस्था होती है। बीमारी किसी विशिष्ट अंग को प्रभावित करती है। बीमारी का उपचार करने के लिए या उसके लक्षणों को कम करने के लिए औषधि का सेवन किया जाता है।

खसरा एक संक्रामक अथवा छूत का रोग है जो एक प्रकार के वायरस से होता है। इस रोग को रुबोला (Rubeola) के नाम से भी जाना जाता है। खसरा होने पर रोगों से लड़ने की क्षमता (इम्युनिटी) कम हो जाती है। यह रोग सबसे ज्यादा बच्चों में फैलता है। इसलिए किसी बच्चे को...
डेंगू एक वायरल रोग है जो संक्रमित मादा एडीज एजिप्टी मच्छर के काटने से फैलता है। यह मच्छर ज्यादातर दिन में काटते हैं। डेंगू के लक्षण मच्छर के काटने के 5 से 15 दिनों के बाद दिखाई देने लगते हैं। यह एक जानलेवा रोग है इसलिए अगर आपको डेंगू...
व्यक्ति के शरीर में किसी कारणवश या एक विशेष प्रकार के वायरस के संक्रमण से रक्त में बिलीरुबिन की मात्रा बढ़ जाए और शारीर का रंग पीला पड़ जाए तो उसे पीलिया रोग कहते हैं। इस रोग में बिलीरुबिन का खून से लीवर और लीवर से आतों की ओर...
मलेरिया एक तरह का बुखार है जो संक्रमित मादा ऐनोफ्लीज मच्छर के काटने से होता है। यह मच्छर गंदे पानी में रहते हैं और आमतौर पर दिन ढलने के बाद ही काटते हैं। मुख्य लक्षण बुखार होना और एक दिन छोड़कर बहुत तेज बुखार आना। जी मिचलाना, सिरदर्द होना, मांसपेशियों...
पतला दस्त आना या बिना मरोड के मल का बार-बार आना दस्त, अतिसार या डायरिया कहलाता है। यह एक आम रोग है जो बच्चों, जवानों और बूढों किसी को भी हो सकता है। एस रोग में शारीर में पानी और खनिज लवण की कमी हो जाती है, जिससे व्यक्ति...
पाचन तंत्र के कमजोर होने या अन्य किसी प्रकार की गड़बड़ी के कारण भोजन ना पचने को अजीर्ण या अपच कहते हैं। अपच कोई बहुत बड़ा रोग नहीं है परन्तु इसके कारण कई गंभीर रोग हो सकते हैं। मुख्य लक्षण पेट में या पेट के ऊपरी हिस्से में जलन रहना। ...
कब्ज एक आम रोग है, जो किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता है। इस रोग में पेट ठीक से साफ नही होता और मल त्याग करने में बहुत परेशानी होती है। इस रोग से पीड़ित व्यक्ति जो भी खाता है वो ठीक से पच नहीं पाता और...
किसी व्यक्ति के खून में अगर आयरन की कमी हो जाए तो उसका हीमोग्लोबिन भी कम हो जाता है। खून में आयरन और हीमोग्लोबिन की इस कमी को एनीमिया रोग कहा जाता है। यह रोग पुरषों की अपेक्षा महिलाओं में अधिक पाया जाता है। मुख्य लक्षण आखें, नाखून और त्वचा...
वायरल बुखार एक तरह का मौसमी बुखार होता है, जो वायरस के संक्रमण से होता है। वायरल बुखार का वायरस गले में सुप्तावस्था में रहता है। ठंडा पानी पीने या ठंडे वातावरण के संपर्क में आने से यह वायरस सक्रिय हो जाता है और हमारे प्रतिरक्षा तंत्र को प्रभावित...
अस्थमा या दमा श्वसन तंत्र से सम्बंधित रोग है। इस रोग में श्वसन मार्ग मे सूजन आ जाती है, जिसकी वजह से श्वसन मार्ग संकुचित हो जाता है और साँस लेना मुश्किल हो जाता है। यह रोग किसी भी उम्र में हो सकता है। मुख्य लक्षण सूखी खांसी होना। दौरा...

खबरें छूट गयी हैं तो