लालू प्रसाद यादव की जीवनी | Lalu Prasad Yadav Biography in Hindi

738

परिचय

लालू प्रसाद यादव एक भारतीय राजनीतिज्ञ एवं राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के अध्यक्ष हैं। वे सन 1990 से लेकर 1997 तक बिहार राज्य के मुख्यमंत्री रहे। उन्हें सन 2004 से 2009 तक केंद्र की संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (UPA- United Progressive Alliance) सरकार में रेल मन्त्री का कार्यभार भी सौंपा गया। उनके व्यक्तित्व एवं बोलने के तरीके ने उन्हें भारत में प्रचलित किया। वे न केवल बिहार, बल्कि पूरे देश के एक महत्वपूर्ण राजनीतिक व्यक्ति हैं।

लालू प्रसाद यादव छात्र नेता भी रह चुके हैं। उनकी सहज नेतृत्व क्षमता और अद्भुत राजनीतिक समझ ने उन्हें बिहार की सबसे चहेती राजनीतिक हस्ती बना दिया। लालू प्रसाद यादव 7 साल तक बिहार राज्य के मुख्यमंत्री रहे। सबसे अधिक समय तक किसी राजनीतिक दल के अध्यक्ष बने रहने के लिए उनका नाम ‘लिम्का बुक ऑफ़ रिकार्ड्स’ में शामिल किया। रेल मंत्री के रूप में उन्हें भारतीय रेल के प्रबंधन और प्रशासन को एक नए स्तर पर ले जाने के लिए जाना जाता है।

लालू प्रसाद यादव का नाम चारा घोटाले जैसे भ्रष्टाचार के मामलों में भी आया। उन्हें बहुचर्चित चारा घोटाला मामले में रांची स्थित केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) की अदालत ने 3 अक्टूबर 2013 को 5 साल कारावास की सजा सुनाई और 25 लाख रुपये के जुर्माने की सजा दी। वे 2 महीने तक जेल में रहे, जिसके बाद 13 दिसम्बर को सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया।

शुरूआती जीवन

लालू प्रसाद यादव का जन्म बिहार राज्य के गोपालगंज कस्बा के फुलवरिया नामक गाँव में 11 जून 1948 को एक किसान परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम ‘कुंदन राय’ तथा इनकी माता का नाम ‘मराछिया देवी’ था। इन्होंने अपनी शुरूआती पढ़ाई गोपालगंज से ही की और आगे की पढ़ाई के लिए पटना चले गए। पटना के ‘बी. एन कॉलेज’ से इन्होंने लॉ में स्‍नातक तथा राजनीति शास्‍त्र में स्‍नातकोत्‍तर की पढ़ाई पूरी की।

राजनीतिक जीवन

लालू प्रसाद यादव छात्र राजनीति में बहुत तेज थे और यहीं से उन्होंने राजनीति के क्षेत्र में प्रवेश किया। वे पटना विश्वविद्यालय के सन 1970 में छात्र संघ के महासचिव नियुक्त किए गए। वे सत्येन्द्र नारायण सिन्हा, राज नरेन, जय प्रकाश नारायण और कर्पूरी ठाकुर जैसे नेताओं के काफी नजदीकी रहे थे। सत्येन्द्र नारायण सिन्हा, जो बिहार स्टेट जनता पार्टी के अध्यक्ष और बिहार के भूतपूर्व मुख्यमंत्री रहे, उन्हीं की मदद से लालू प्रसाद यादव ने लोक सभा का चुनाव जीता और भारतीय संसद में पहली बार 29 वर्ष की आयु में पहुंचे।

लालू प्रसाद यादव बिहार की राजनीति में मात्र 10 वर्षों के अंदर एक प्रभावशाली व्यक्ति बन गए और बिहार के भूतपूर्व मुख्यमंत्री ‘राम सुन्दर दास’ को हराकर मुख्यमंत्री बने। जनता दल से असत्ता होने की वजह से उन्होंने सन 1997 में राष्ट्रीय जनता दल नाम से एक अलग राजनीतिक दल का गठन किया। वे 7 वर्ष तक बिहार के मुख्यमंत्री रहे और ‘चारा घोटाले’ में गिरफ्तारी निश्चित हो जाने के पश्चात मुख्यमन्त्री पद से त्यागपत्र दे दिया और अपनी पत्नी ‘राबड़ी देवी’ को बिहार का मुख्यमन्त्री बना दिया।

लालू प्रसाद यादव ने ‘छपरा’ और ‘मधेपुरा’ से लोकसभा का चुनाव जीता और UPA सरकार में केन्द्रीय रेल मंत्री का पद संभाला। लालू प्रसाद यादव ने घाटे में चल रही रेलवे को एक फायदेमंद संगठन बना दिया। लालू प्रसाद यादव द्वारा लाया गया रेल का यह परिवर्तन भारत के प्रमुख प्रबन्धन संस्थानों के साथ-साथ विश्व के बिजनेस स्कूलों में एक शोध का विषय बन गया।

सन 2005 में बिहार विधानसभा चुनाव में लालू प्रसाद यादव की पार्टी हारकर सत्ता से बाहर हो गयी और सन 2009 के लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी के मात्र 4 सांसद ही जीत सके और लालू प्रसाद यादव को केन्द्र सरकार में कोई जगह नहीं मिल पायी। सन 2005 से लेकर अभी तक उनकी पार्टी राज्य में सत्ता से बाहर है। उनके राजनीतिक प्रतिद्वंदी नितीश कुमार ने BJP के साथ मिलकर दो सरकारों का नेतृत्व किया। जब नितीश कुमार NDA से अलग हो गए, तब एक समय के प्रतिद्वंदी लालू प्रसाद यादव और ‘नितीश कुमार’ ने एक-दूसरे से हाथ मिलाया।

जब लालू प्रसाद यादव रेल मंत्री थे, तब भारतीय रेल घाटे से निकल कर उन्नति की तरफ वापस आई। रेलवे की इस महत्वपूर्ण उपलब्धि के कारण कई मैनेजमेंट स्कूलों ने उनके मार्ग दर्शन की तारीफ करते हुए उन्हें हार्वर्ए व्हार्टन और अन्य प्रतिष्ठित संस्थानों के सैकड़ों विद्यार्थियों को सम्बोधत करने के लिए आमंत्रित किया। रेलवे की इस प्राप्ति को ध्यानपूर्वक देखना ‘इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट’ अहमदाबाद के विद्यार्थियों द्वारा भी किया गया।

निजी जीवन

लालू प्रसाद यादव ने 1 जून 1973 को ‘राबड़ी देवी’ से एक परम्परागत तरीके से विवाह किया। दंपत्ति ने नौ बच्चों- 2 बेटे और 7 बेटियों को जन्म दिया।

  • उनके बड़े बेटे ‘तेज प्रताप यादव’ बिहार राज्य में ‘स्वास्थ्य मंत्री’ रहे।
  • उनके छोटे बेटे ‘तेजस्वी यादव’ पूर्व क्रिकेटर तथा बिहार के उपमुख्यमंत्री रहे।
  • उनकी सबसे बड़ी बेटी ‘मीसा भारती देवी’ ने एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर ‘शैलेश कुमार’ के साथ विवाह किया।
  • उनकी दूसरी बेटी ‘रोहिणी आचार्य’ ने ‘राव समरेश सिंह’ के साथ मई 2002 में शादी की।
  • उनकी तीसरी बेटी ‘चंदा सिंह’ ने ‘विक्रम सिंह’ के साथ सन 2006 में विवाह किया, वे ‘इंडियन एयरलाइंस’ में पायलट हैं।
  • उनकी चौथी बेटी ‘रागिनी यादव’ ने ‘राहुल यादव’ के साथ विवाह किया, जो गाजियाबाद से सांसद विधायक रहे, अब कांग्रेस पार्टी के सदस्य हैं।
  • उनकी पांचवीं बेटी ‘हेमा यादव’ ने ‘विनीत यादव’ के साथ विवाह किया, जो एक राजनीतिक परिवार के वंशज हैं।
  • उनकी छठी बेटी अनुष्का राव ने ‘चिरंजीव राव’ के साथ विवाह किया।
  • उनकी सबसे छोटी बेटी ‘राजलक्ष्मी सिंह’ ने उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ‘मुलायम सिंह यादव’ के भाई पौत्र ‘तेज प्रताप सिंह यादव’ से 26 फरवरी 2015 को विवाह किया, जो मैनपुरी से सांसद है।

जीवन घटनाचक्र

  • लालू प्रसाद यादव का जन्म सन 1948 में हुआ।
  • उन्होंने सन 1977 में ‘लोक सभा’ चुनाव जीता।
  • वे सन 1989 में राज्य विधान सभा में विपक्ष के नेता नियुक्त किए गए।
  • वे सन 1990 में बिहार राज्य के मुख्यमंत्री बने।
  • उन्हें 23 सितम्बर 1990 को ‘लालकृष्ण आडवानी’ की रथयात्रा के समय गिरफ्तार करने का आदेश दिया।
  • उन पर सन 1996 में एक बड़े घोटाले (चारा घोटाला) का आरोप लगा।
  • उन्होंने सन 1997 में ‘राष्ट्रीय जनता दल’ की स्थापना की।
  • उन्होंने सन 1997 में मुख्यमंत्री पद से त्यागपत्र दे दिया और अपनी पत्नी ‘राबड़ी देवी’ को मुख्यमंत्री बना दिया।
  • वे सन 2004 में ‘केन्द्रीय रेल मंत्री’ बने।
  • उन्होंने सन 2009 में ‘लोक सभा’ का चुनाव जीता।
  • उन्हें सन 2013 में चारा घोटाले में न्यायालय ने 3 अक्टूबर 2013 को 5 वर्ष कारावास की सजा सुनाई और 25 लाख रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई।