कुम्भलगढ़ किला | Kumbhalgarh Qila | Kumbhalgarh Fort in Hindi

1517

परिचय

कुम्भलगढ़ का किला भारत के राजस्थान राज्य के राजसमन्द जिले में अरावली पर्वतपर स्थित है। चित्तौड़गढ़ किले के बाद यह राजस्थान का दूसरा सबसे बड़ा किला है। यह किला मेवाड़ के विख्यात राजा महाराणा कुम्भा की समझदारी व प्रतिभा की अनूठी निशानी है। इस किले का निर्माण सम्राट अशोक के द्वितीय पुत्र सम्प्रति के बनाये दुर्ग के शेषभाग पर सन. 1443 से प्रारम्भ होकर सन. 1458 में पूर्ण हुआ था। दुर्ग का निर्माण कार्य सम्पूर्ण होने पर महाराज राणा कुम्भा ने सिक्के बनवाये थे, जिन पर किला और इसका नाम लिखा हुआ है। कुम्भलगढ़ महाराणा प्रताप की जन्मभूमि भी है, जोकि एक महान सम्राट और वीर योद्धा थे। चीन की दीवार (the great wall of china) के बाद यह विश्व की दूसरी सबसे लम्बी दीवार है।

निर्माण कार्य

कुम्भलगढ़ का किला उदयपुर से 70 किलोमीटर दूर स्थित है। समुद्र तल से लगभग 1088 किलोमीटर ऊँचा और 30 किलोमीटर व्यास में फैला हुआ है। इस किले का निर्माण महाराणा कुम्भा ने करवाया था। इस किले को “अजेयगढ़” कहा जाता था, क्योंकि इस किले पर विजय प्राप्त करना कष्टसाध्य था। इस किले में ऊँचे स्थानों पर मंदिर, महल व आवासीय इमारतें बनायी गयी हैं और समतल भूमि का उपयोग कृषि कार्य के लिया किया गया है। वहीँ ढलान वाले भागों का उपयोग जलाशयों के लिए किया, इस किले को यथासम्भव स्वाबलंबी बनाया गया। इस किले के अन्दर लगभग 360 मंदिर बने हुए हैं, जिनमें से 300 मंदिर जैन धर्म के तथा बाकी के मंदिर हिन्दू धर्म के हैं। कुम्भलगढ़ किले की दीवार 36 किलोमीटर लम्बी है, जो विश्व की दूसरी सबसे लम्बी दीवार है।

इस किले के अन्दर एक और गढ़ है, जिसे “कटारगढ़” के नाम से जाना जाता है। यह गढ़ सात विशाल द्वारों व सुद्रढ़ प्राचीरों से सुरक्षित है। इस गढ़ के शीर्ष भाग पर बादल महल है तथा कुम्भा महल सबसे ऊपर है। महाराणा प्रताप की जन्म- स्थली कुम्भलगढ़ एक तरह से मेवाड़ की संकटकालीन राजधानी रही है। महाराणा कुम्भा से लेकर महाराणा राज सिंह के समय तक मेवाड़ पर हुए आक्रमणों के समय राजपरिवार इसी दुर्ग में रहा था। यहीं पर पृथ्वीराज और महाराणा सांगा का बचपन व्यतीत हुआ था। महाराणा उदय सिंह को भी पन्नाधाय ने इसी दुर्ग में छिपाकर पालन-पोषण किया था। हल्दी घाटी के युद्ध में हार के बाद महाराणा प्रताप भी काफी समय तक इसी दुर्ग में रहे। पौराणिक कथा के अनुसार इसके निर्माण की कहानी बहुत ही दिलचस्प है। सन. 1443 में राणा कुम्भा ने इसका निर्माण प्रारम्भ करवाया पर निर्माण कार्य आगे नहीं बढ़ पाया।

इसके निर्माण कार्य में बहुत रुकावट आने लगी। राजा इस बात से काफी चिंतित हो गये। संत ने बताया कि यह काम तभी आगे बढ़ेगा, जब कोई मनुष्य स्वेच्छा से बलि देने के लिए तैयार हो। राजा इस बात से चिंतित होकर सोचने लगे कि आखिर कौन इसके लिए आगे आएगा। तभी संत ने कहा कि वह खुद बलिदान के लिए तैयार है और इसके लिए राजा से आज्ञा मांगी। संत ने कहा कि उसे पहाड़ी पर चलने दिया जाए और जहाँ पर वो रुके वहीं उसे मार दिया जाए और वहाँ पर एक देवी का मंदिर बनाया जाए। ठीक ऐसा ही किया गया और वह 36 किलोमीटर तक चलने के बाद रुक गया और उसका सिर धड़ से अलग कर दिया गया। जहाँ पर उसका सिर गिरा वहाँ पर मुख्य द्वार “हनुमान पोल” है और जहाँ पर उसका शरीर गिरा वहाँ पर दूसरा मुख्य द्वार है।

इतिहास

कुम्भलगढ़ किले का निर्माण महाराणा कुम्भा ने किया था जो सिसोदिया राजपूतों के वंशज थे। कुम्भलगढ़ की वर्तमान दशा को प्रसिद्ध आर्किटेक्ट मदान ने विकसित किया था तथा इस किले को इन्हीं ने डिजायन किया था। कुम्भलगढ़ मेवाड़ और मारवाड़ को एक दूसरे से प्रथक करता है। उस समय इन किलों को मेवाड़ के शासकों द्वारा प्रयोग किया जाता था। इसकी एक प्रसिद्ध घटना यहाँ के राजकुमार उदय को लेकर घटित हुई थी, जो मेवाड़ के शिशु राजा थे। सन. 1535 में इस छोटे राजकुमार ने यहाँ तस्करी की थी। जब चित्तौड़ घेराबंदी के अधीन आ गया था। इसके बाद राजकुमार उदय ने ही उदयपुर शहर की स्थापना की थी।

गुजरात के अहमद शाह ने सन. 1457 में किले पर आक्रमण किया था, लेकिन उनकी कोशिश कामयाब नहीं हुई। स्थानीय लोगों का ऐसा मानना है कि किले में स्थापित बाणमाता देवी ही किले की सुरक्षा करती है। इसीलिए अहमद शाह किले को तोडना चाहता था।

इसके बाद सन. 1458-59 और सन. 1467 में महमूद खिलजी ने किले पर आक्रमण किया, लेकिन वह भी असफल रहा। कहा जाता है कि सन. 1576 से किले पर अकबर के सेनापति शाहबाज खान ने इस किले को अपने नियंत्रण में ले लिया।

सन. 1818 में सन्यासियों के ससक्त समूह ने किले की सुरक्षा करने का निर्णय लिया था, लेकिन टोडा द्वारा उसे आस्वस्त कर दिया गया और किले पर मराठाओं ने अधिकार कर लिया। इसके बाद किले में मेवाड़ के महाराणाओं ने कुछ बदलाव भी किये थे, लेकिन वास्तविक किले का निर्माण महाराणा कुम्भा ने करवाया था। किले की बाकी इमारतों और मंदिरों को अच्छी तरह से संरक्षित किया गया। इस किले को महाराणा प्रताप के जन्म स्थान के नाम से भी जाना जाता है।

किलों की तालिका

क्र सं किले का नाम निर्माण वर्ष निर्माणकर्ता स्थान
1 लक्ष्मणगढ़ किला सन. 1862  राजा लक्ष्मण सिंह सीकर, राजस्थान
2 गागरोन किला 12वीं शताब्दी राजा बीजलदेव झालावाड, राजस्थान
3 मदन महल किला सन. 1100 राजा मदन सिंह जबलपुर, मध्य प्रदेश
4 ग्वालियर किला 14 वीं सदी राजा मानसिंह तोमर ग्वालियर, मध्य प्रदेश
5 रणथंभोर किला सन. 944 चौहान राजा रणथंबन देव सवाई माधोपुर, राजस्थान
6 जूनागढ़ किला सन. 1594 राजा रायसिंह बीकानेर, राजस्थान
7 मेहरानगढ़ किला सन. 1459 राव जोधा जोधपुर, राजस्थान
8 लोहागढ़ किला सन. 1733 महाराजा सूरजमल  भरतपुर, राजस्थान
9 कुम्भलगढ़ किला सन. 1458 राजा महाराणा कुम्भा राजसमन्द, राजस्थान
10 भानगढ़ किला सन. 1573 राजा भगवंत दास अलवर, राजस्थान
11 आगरा किला सन. 1565 अकबर आगरा, उत्तर प्रदेश
12 लाल किला सन. 1648 शाहजहाँ दिल्ली
13 पुराना किला 16 वीं शताब्दी शेरशाह सूरी दिल्ली