Home ज्योतिर्लिंग

ज्योतिर्लिंग

पुराणों में वर्णित कथानुसार अनुसार जहाँ-जहाँ भगवान शिव स्वयं प्रगट हुए,उन सभी स्थानों पर शिवलिंग की ज्योतिर्लिंग के रूप में पूजा की जाती है। ज्योतिर्लिंगों की कुल संख्या 12 है। हिन्दू धर्म की पौराणिक कथानुसार ज्योतिर्लिंग का पूजन करने से मनुष्य को अश्वमेध यज्ञ के बराबर पुण्य मिलता है। हिन्दू धर्म की मान्यतानुसार हर रोज प्रातःकाल और संध्या के समय इन 12 ज्योतिर्लिंगों का नाम जपने से या दर्शन करने से मनुष्य के सारे पाप या कष्ट दूर हो जाते हैं।

शिव पुराण में इन 12 ज्योतिर्लिंगों के संबंध में श्लोक निम्नलिखित हैं- सौराष्ट्रे सोमनाथं च श्रीशैले मल्लिकार्जुनम्। उज्जयिन्यां महाकालं ओंकारं ममलेश्वरम्।। हिमालये च केदारं डाकिन्यां भीमशंकरम्। वाराणस्यां च विश्वेशं त्र्यम्बकं गौतमी तटे।। वैद्यनाथं चिताभूमौ नागेशं दारूकावने। सेतुबन्धे च रामेशं घुश्मेशं च शिवालये।। ऐतानि ज्योतिर्लिंगानि सायं प्रातः पठेन्नरः। सप्तजन्मकृतम पापम् स्मरनिणां विनस्यति।। यहां दिए गए निम्नलिखित श्लोकों को पढ़ते...
परिचय सोमनाथ ज्योतिर्लिंग प्रथम ज्योतिर्लिंग है। यह ज्योतिर्लिंग गुजरात के (सौराष्ट्र) प्रभास क्षेत्र के वेरावल में स्थित है। सोमनाथ ज्योतिर्लिंग एक प्राचीन ज्योतिर्लिंग है, जिसकी गिनती 12 ज्योतिर्लिंगों में सर्वप्रथम ज्योतिर्लिंग के रूप में की जाती है। पुराणों की कथाओं के अनुसार चन्द्रदेव ने सर्वप्रथम सोमनाथ महादेव का स्वर्ण मंदिर...
शिव पुराण में वर्णित कथानुसार मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग आन्ध्र प्रदेश राज्य के कृष्णा जिले में कृष्णा नदी के तट पर श्रीशैल नाम के पर्वत पर स्थित है। इस ज्योतिर्लिंग को ‘दक्षिण का कैलाश’ भी कहा जाता है। अनेक धार्मिक शास्त्र इसके धार्मिक और पौराणिक महत्व की पुष्टि करते हैं। इस...
महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग मध्य प्रदेश राज्य की धार्मिक राजधानी उज्जैन में क्षिप्रा नदी के तट पर स्थित है। यह ज्योतिर्लिंग एकमात्र दक्षिणमुखी ज्योतिर्लिंग है। यहाँ प्रतिदिन सुबह के समय की जाने वाली भस्मारती पूरी दुनिया में विख्यात है। महाकालेश्वर की पूजा दीघार्यु और आयु पर आए संकट को दूर करने...
ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग मध्य प्रदेश राज्य के खंडवा जिले में सुप्रसिद्ध शहर इंदौर के पास स्थित है। यह ज्योतिर्लिंग नर्मदा नदी के बीच मंधाता या शिवपुरी नामक द्वीप पर स्थित है। ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग का आकार औंकार अर्थात ऊं जैसा है, इसलिए इस ज्योतिर्लिंग को ओंकारेश्वर के नाम से जाना जाता...
केदारनाथ ज्योतिर्लिंग उत्तराखण्ड राज्य के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित है। केदारनाथ मंदिर एक प्रसिद्ध हिन्दू मंदिर है जो भगवान शिव को समर्पित है। हिमालय पर्वत की गोद में बसा यह मंदिर 12 ज्योतिर्लिगों में सम्मलित होने के साथ चार धाम और पंच केदार में से भी एक है। यहाँ...
भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र राज्य के पुणे जिले में भीमा नदी के किनारे सह्याद्रि पर्वत पर स्थित है। नासिक जिले से यह ज्योतिर्लिंग लगभग 180 किलोमीटर दूर है। इस ज्योतिर्लिंग को ‘मोटेश्वर महादेव’ के नाम से भी जानते हैं। इसी स्थान पर भगवान शिव ने भीमासुर राक्षस का वध किया...
काशी विश्वनाथ मंदिर प्रसिद्ध हिन्दू मंदिरों में से एक है, जो भगवान शिव को समर्पित है। काशी विश्वनाथ मंदिर उत्तर प्रदेश राज्य के वाराणसी जिले में स्थित है। यह मंदिर पवित्र नदी गंगा के पश्चिमी तट पर बना हुआ है। काशी विश्वनाथ मंदिर भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में...
त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र राज्य के नासिक जिले से 25 किलोमीटर दूर गोदावरी नदी के तट पर स्थित है। इस ज्योतिर्लिंग के सबसे अधिक नजदीक ब्रह्मागिरि नाम का पर्वत है, जहाँ से गोदावरी नदी उद्गम होती है। भगवान शिव को त्र्यंबकेश्वर नाम से भी जाना जाता है। ऐसा माना जाता...
वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग को वैद्यनाथ धाम (देवघर) के नाम से भी जाना जाता है। यह ज्योतिर्लिंग बिहार राज्य के संथाल परगना के दुमका जिले में पड़ता है। एक कथानुसार लंकापति रावण ने कठोर तपस्या से भगवान शिव को प्रसन्न कर एक शिवलिंग प्राप्त किया जिसे वह लंका में स्थापित करना...

खबरें छूट गयी हैं तो