जसप्रीत बुमराह की जीवनी | Jasprit Bumrah Biography in Hindi

0
60

परिचय

जसप्रीत बुमराह भारतीय क्रिकेट टीम के दाएँ हाथ के तेज मध्यम गेंदबाज हैं। जसप्रीत बुमराह का परिवार सिख धर्म को मानने वाला है। जसप्रीत बुमराह ने भारतीय क्रिकेट में बहुत योगदान दिया है। जसप्रीत बुमराह अपने अलग बॉलिंग एक्शन के लिए भी प्रसिद्ध हैं, जो गुजरात और आईपीएल में मुंबई इंडियंस के लिए क्रिकेट खेलते हैं।

जन्म व बचपन

जसप्रीत बुमराह का पूरा नाम जसप्रीत जसबीर सिंह बुमराह है। इनका जन्म गुजरात के अहमदाबाद में 6 दिसंबर सन. 1993 में हुआ था। जसप्रीत बुमराह का परिवार सिख धर्म के रमगढिया गोत्र के अन्तर्गत आता है। उनके पिता का नाम स्वर्गीय जसबीर सिंह तथा उनकी माता का नाम दलजीत कौर है। जसप्रीत बुमराह के पिता जसबीर सिंह बुमराह बिजनेसमैन थे, जो एक कैमिकल फैक्ट्री चलाया करते थे और माँ दलजीत कौर ‘निर्माण हाई स्कूल’, अहमदाबाद की प्रिन्सिपल हैं। जसप्रीत बुमराह जब 7 वर्ष के थे, तो पिता का देहांत हो गया, उसके बाद उनकी देख-भाल और घर का सारा बोझ माँ दलजीत कौर ने संभाला था।

शिक्षा

जसप्रीत बुमराह ने प्रारम्भिक शिक्षा ‘निर्माण हाई स्कूल’, अहमदाबाद से प्राप्त की, जहां उनकी माँ दलजीत कौर प्रिन्सिपल थी। फिर भी जसप्रीत बुमराह पढ़ाई के बजाय क्रिकेट को ज्यादा चाहते थे।

करियर

जसप्रीत बुमराह जब 12 साल के थे, तो वे समझने लगे कि उनका यह क्रिकेट एक सपना बन गया था, ना की एक शौक। जसप्रीत बुमराह बॉलिंग को लेकर गंभीर हो चुके थे और बॉलिंग में ज्यादा चाहत रखते थे। जब भी क्रिकेट खेलने जाते दिन-रात, घर-पड़ोस, स्कूल-क्लब और सड़क-गली जहां भी उन्हें थोड़ी सी भी जगह मिलती, वहीं वे बैग से अपना बॉल निकालकर शुरु हो जाते थे।

जसप्रीत बुमराह ने अपना पहला मैच (4 अप्रैल सन. 2013) रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ 32 रन देकर 3 विकेट लिए और मुंबई इंडियंस के लिए अपने पहले मैच की शुरुआत की।
‘विजय हजारे ट्रॉफी’ के लिए शानदार प्रदर्शन किया और सीरिज में सबसे अधिक विकेट लेने वाले खिलाड़ी बनें।
सैयद ‘मुश्ताक अली ट्रॉफी’ सीरिज के मैच में पंजाब के खिलाफ लाजवाब प्रदर्शन कर अपनी टीम को जीत दिलाई और ‘मैन ऑफ द मैच’ भी हासिल किया।
सन. 2016 जनवरी में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मोहम्मद शमी की जगह जसप्रीत बुमराह को टी-20 अंतरराष्ट्रीय श्रृंखला में खेलने के लिए भारत की टीम में जगह मिली।

पहला एकदिवसीय मैच

IPL में मुंबई इंडियंस के लिए और रणजी ट्राफी में गुजरात के लिए लगातार श्रेष्ठ प्रदर्शन का जसप्रीत बुमराह को सम्मान मिला। भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार के घायल होने के कारण और सन. 2015-16 के ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए भारतीय क्रिकेट टीम में जगह मिली। हालाँकि, जसप्रीत बुमराह को खेलने का मौका नहीं मिला, लेकिन तीसरे एक दिवसीय मैच से पहले मोहम्मद शमी के घायल होने पर उन्हें टीम की अंतिम एकादश में शामिल किया गया।
इस प्रकार जसप्रीत बुमराह को अपना पहला एकदिवसीय मैच 23 जनवरी 2016 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलने का मौका मिला। सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर हुए इस मैच में जसप्रीत बुमराह ने 10 ओवर में 40 रन देकर 2 विकेट लिए। इंडिया टीम में इस मैच की ओर से जसप्रीत बुमराह ने सबसे सफल गेंदबाजी की थी।
जसप्रीत बुमराह की अच्छी गेंदबाजी से एक समय 350 के स्कोर करती दिख रही ऑस्ट्रेलिया की टीम 330 रन तक ही पहुंच सकी और बाद में भारत ने यह मैच 4 विकेट से जीता। जसप्रीत बुमराह ने एक दिवसीय सीरीज में सर्वाधिक 15 विकेट लेने का ऐतिहासिक रिकॉर्ड भी बनाया।

पहले टी-20 मैच में सर्वाधिक विकेट

जसप्रीत बुमराह ने अपना पहला टी-20 मैच भी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला। 26 जनवरी सन. 2016 को ऑस्ट्रेलिया के ‘एडीलेड ओवल’ में हुए इस मैच में जसप्रित बुमरा ने 3.3 ओवर में 23 रन देकर 3 विकेट लिये। इस मैच में भारतीय क्रिकेट टीम की ओर से जसप्रित बुमराह ने सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी का प्रदर्शन किया। भारतीय क्रिकेट टीम ने यह मैच भी 37 रन से जीत लिया और मैन ऑफ द मैच भी हासिल किया। हालाँकि, इसके बाद सन. 2016 में 27 और 28 अगस्त को वेस्टइंडीज के खिलाफ होने वाले दो टी-20 मैचों की सीरीज के दौरान जसप्रीत बुमराह ने मैच में 2 विकेट हासिल करके कीर्तिमान रच दिया। जसप्रीत बुमराह के बाद दूसरे नंबर पर रविचंद्रन अश्विन का भी नाम आता हैं।

जसप्रीत बुमराह वर्तमान में भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य तेज गेंदबाजों में से एक हैं। बुमराह ने साल 2016 टी-20 क्रिकेट में 28 विकेट ले लिए थे और वह एक साल में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज बन गए थे। जसप्रित बुमराह ने सर्वाधिक 28 वि​केट लेने की उपलब्धि अपने नाम की। इसके पहले यह रिकॉर्ड आस्ट्रेलिया के डर्क ननेस के नाम था। सन. 2017 जनवरी में इंग्लैंड टीम के भारतीय दौरे में भी जसप्रीत बुमराह का प्रदर्शन काबिल-ए-गौर रहा और टी-20 सीरीज के दूसरे मैच में जसप्रीत बुमराह ने अपने कोटा के 4 ओवरों में मात्र 20 रन देकर और दो विकेट झटककर इंडिया की टीम को जीतने में मददगार बने और मैच के अंतिम ओवर में जबकि इंग्लैंड को जीतने के लिए 8 रन कि जरूरत थी, जसप्रित बुमराह ने सिर्फ 2 रन दिए और दो विकेट भी लिए। जसप्रीत बुमराह को इस मैच में ‘मैन ऑफ द प्लेयर‘ का अवार्ड भी दिया गया।

न्यूजीलैंड के खिलाफ रिकॉर्ड

29 अक्टूबर सन. 2017 को भारत और न्यूजीलैंड के तीन मैचों की वनडे एकदिवसीय सीरीज का तीसरा व आखिरी मैच कानपुर के ‘ग्रीन पार्क स्टेडियम’ में खेला जा रहा था। तो पहला मैच न्यूजीलैंड ने जीता था और दूसरा मैच भारत ने जीता था। इस प्रकार दोनों टीमें एक-एक मैच जीत के साथ बराबरी पर थीं। अंतिम और तीसरा मैच जो टीम जीतेगी, सीरीज उसके नाम हो जाएगी। बल्लेबाजी के लिए मुफीद पिच पर भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए रोहित शर्मा और विराट कोहली के शतकों की बदौलत 337 रन का मजबूत स्कोर खड़ा किया और जवाब में न्यूजीलैंड ने भी मजबूती से कदम बढ़ाने शुरू किए। उस मैच में 45 ओवर पूरे हो चुके थे और उस मैच में भारत की मुट्ठी से फिसलने की संभावना बढ़ रही थी। 47 ओवर के बाद आखिरी 3 ओवरों में न्यूजीलैंड को मात्र 30 रन बनाने थे और उसके पास 5 विकेट भी शेष थे। न्यूजीलैंड के लिए 337 रन का लक्ष्य मुश्किल नहीं था। 48वें ओवर में जसप्रीत बुमराह को लेकर आए। जसप्रीत बुमराह के आखिरी ओवर में न्यूजीलैंड ने न सिर्फ एक विकेट खोया, बल्कि मात्र 5 रन बनाकर खुद पर दबाव बढा लिया। जसप्रीत बुमराह की कसी गेंदबाजी के आगे न्यूजीलैंड ने घुटने टेके थे। भारत ने सांसें रोक देने वाली जीत हासिल कर सीरीज अपने नाम कर ली। न्यूजीलैंड की टीम निर्धारित 50 ओवर में 7 विकेट खोकर 331 रन ही बना पाई।

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ

सन. 2017 नवंबर में जब दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भारतीय क्रिकेट टीम की घोषणा की गई, तो जसप्रीत बुमराह का नाम भी पांचवें तेज गेंदबाज के रूप में शामिल था। दक्षिण अफ्रीका की तेज व उछाल लेती पिचों पर माना जा रहा था कि जसप्रीत बुमराह की गेंदे टीम के मजबूत हथियार के रूप में होंगी। जसप्रीत बुमराह के चयन पर भारत की एक दिवसीय टीम के उपकप्तान रोहित शर्मा का कहना था कि जसप्रीत बुमराह को टीम में जगह मिलना युवा क्रिकेटरों के लिए सबक है कि कड़ी मेहनत से जीवन में कुछ भी पाया जा सकता है। डेथ ओवरों के सर्वश्रेष्ठ भारतीय गेंदबाज जसप्रीत बुमराह का भी नाम आता है। जसप्रीत बुमराह अपने अलग बॉलिंग एक्शन के लिए प्रसिद्ध भी हैं। जसप्रीत बुमराह के जज्बे को देखकर यह अनुमान है कि आने वाले दिनों में वो एक बेहतरीन गेंदबाजी के रूप में सामने आयेंगे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here