जैसलमेर वॉर म्यूजियम | Jaisalmer War Museum in Hindi

311

वॉर म्यूजियम (युद्ध संग्रहालय) भारत के राजस्थान राज्य के जैसलमेर जिले में स्थित है। जिला मुख्यालय से करीब 12 किलोमीटर की दूरी पर जोधपुर–बीकानेर मार्ग पर स्थित वॉर म्यूजियम बेहतरीन संग्रहालयों में से एक है, जो एशिया के 20 व भारत के 5 म्यूजियमों में शामिल है। जैसलमेर वॉर म्यूजियम की स्थापना लेफ्टिनेंट जनरल बॉबी मैथ्यूज़ ने की थी, तथा इसका निर्माण इंडियन आर्मी की डेजर्ट कोर ने किया। इस म्यूज़ियम को जैसलमेर में 24 अगस्त सन. 2015 में सेना की दक्षिण कमान के तत्कालीन जीओसी मेजर जनरल अशोक सिंह ने देश को समर्पित किया था। वॉर म्यूजियम में प्रवेश करने के साथ ही सामने वॉल ऑफ ऑनर पर लहराता तिरंगा शहीद जवानों की बहादुरी की सुन्दरता को प्रदर्शित करता है।

सन. 1971 में हुई दुश्मन पर जीत व शहीदों की याद के लिए वॉर म्यूजियम को बनाया गया। अपने किस्म के कमात्र इस म्यूज़ियम में भारतीय फ़ौज के गौरवशाली इतिहास को जनता के सामने लाया गया है। यहाँ इंडियन आर्मी हॉल और लोंगेवाला हॉल नाम से दो हॉल हैं, जिनमें इंडियन आर्मी के जवान और अधिकारियों की वीरगाथाएं प्रदर्शित की गई हैं। इसमें परमवीर चक्र और महावीर चक्र विजेताओं के नाम उनकी तस्वीरों के साथ लिखे गए हैं। इस म्यूजियम में पाकिस्तान से युद्ध में जीते गए 2 शेरमन और एक टी-59 टैंक, पाकिस्तान की एक रिकवरी गाड़ी रखे गए हैं।

इस म्यूजियम में भारत का एक हंटर एयरक्राफ्ट, एक टी-55 टैंक, 2 विजयंत टैंक, एक-एक एंटी एयरक्राफ्ट गन, पैक हाउस 75/24, आरसीएल गन, एयर डिफेंस राडार और बी.टी.आर. 60 को प्रदर्शित किया गया है। संग्रहालय में चल चित्र के जरिए युद्ध की यादों को ताजा किया गया है और इस प्रस्तुति में उस युद्ध के नायक मेजर कुलदीप सिंह चांदपुरी युद्धकालीन परिस्थितियों के बारे में जानकारी देते हैं। इस म्यूजियम में सुवेनिर शॉप और कैफ़े भी हैं। यह म्यूजियम सुबह 9 बजे से शाम को 7 बजे तक खुलता है।