इंदिरा गाँधी भारत की अब तक की एकमात्र पहली महिला प्रधानमंत्री रहीं। उन्होंने सन. 1966 से 1977 तक भारत देश की सेवा की और उसके उपरांत सन. 1980 से लेकर सन. 1984 में उनकी राजनीतिक हत्या होने तक वह भारत देश की सेवा में समर्पित रहीं। इंदिरा का गाँधी परिवार से कोई रिश्ता नहीं था, उनका गाँधी उपनाम उन्हें अपने पति फ़िरोज़ गाँधी के द्वारा मिला।

इंदिरा गाँधी का जन्म 19 नवंबर सन. 1917 को भारत देश के इलाहाबाद में नेहरु परिवार में हुआ था। उनकी माता का नाम कमला नेहरु था और उनके पिता का नाम जवाहर लाल नेहरु था। जवाहर लाल नेहरू देश के पहले प्रधानमंत्री हुए। उनका परिवार वैभव संपन्न था। उनकी माता कमला नेहारु बीमार होने के कारण बिस्तर पर ही रहती थीं और उनके पिता राज्य कार्य में व्यस्त रहते थे। इस वजह से इंदिरा गाँधी का बचपन अकेलेपन में गुज़रा और उन्हें पूर्ण रूप से कभी भी माता-पिता का प्यार ना मिल सका।

इंदिरा गाँधी के प्रमुख कोट्स:

“सवाल करने की ताकत मानव उन्नति का आधार है।”
“कभी भी किसी दीवार को तब तक ना गिराओ, जब तक आपको ये ना पता हो कि यह किस लिए खड़ी की गई थी।”
“शहीद होने से कुछ खत्म नहीं होता, ये तो एक शुरुआत है।”
“इच्छा के बिना प्यार संभव नहीं है।”
“यदि देश की सेवा करते हुए मेरी मृत्यु भी हो जाये तो मुझे इसका गर्व होगा। मुझे पूरा विश्वास है कि मेरे खून का एक-एक कतरा राष्ट्र के विकास में योगदान और इसे सुदृढ़ और उर्जावान बनाएगा।”
“लोग अपने कर्तव्य भूल जाते हैं, लेकिन अपने अधिकार उन्हें याद रहते हैं।”
“आप भींची मुट्ठी से हाथ नहीं मिला सकते।”
“प्रश्न कर पाने की क्षमता ही मानव प्रगति का आधार है।”
“आपको आराम के समय किर्याशील रहना चाहिए और आपको गतिविधि के समय स्थिर रहना सीख लेना चाहिए।”
“यह कभी मत भूलों कि जब हम चुप हैं, तो हम एक हैं और जब हम बात करते हैं तो हम दो हैं।”
“क्रोध कभी बिना तर्क के नहीं होता, लेकिन कभी-कभार ही एक अच्‍छे तर्क के साथ होता है।”
“शहादत कुछ ख़त्म नहीं करती, वो महज़ शुरआत है।”
“मेरे पिता एक राजनेता थे, मैं एक राजनीतिक औरत हूँ, मेरे पिता एक संत थे। मैं नहीं हूँ।”
“उन मंत्रियों से सावधान रहना चाहिए जो बिना पैसों के कुछ नहीं कर सकते, और उनसे भी जो पैसे लेकर कुछ भी करने की इच्छा रखते हैं।”
“अपने आप को खोजने का सबसे अच्‍छा तरीका यह है कि आप अपने आप को दूसरों की सेवा में खो दें।”
“संतोष प्राप्ति में नहीं, बल्कि प्रयास में होता है। पूरा प्रयास पूर्ण विजय है।”
“जब मैं सुर्यास्‍त पर आश्‍चर्य या चाँद की खुबसूर‍ती की प्रशंसा कर रही होती हूँ, उस समय मेरी आत्‍मा इन्‍हें बनाने वाले की पूजा कर रही होती है।”
“देशों के बीच के शांति, व्‍यक्तियों के बीच प्‍यार की ठोस बुनियाद पर टिकी होती है।”
“क्षमा वीरों का गुण है।”
“एक राष्ट्र की शक्ति उसकी आत्मनिर्भरता में है, दूसरों से उधार लेकर काम चलाने में नहीं।”