हिदी व्याकरण | Hindi Vyakaran | Hindi Grammer in Hindi

भाषा के नियम को व्याकरण कहते हैं! हिंदी व्याकरण सही प्रकार से हिंदी सीखने के लिए आवश्यक है! व्याकरण को इंग्लिश में ग्रामर (Grammar) कहते हैं! आप हमारी हिंदी व्याकरण पाठ्यक्रम से आसानी से व्याकरण सीख सकते हैं! इस हिंदी व्याकरण पाठ्यक्रम में भाषा, लिपि, बोली, संधि,...

भाषा | Bhasha | Language in Hindi

भाषा – भाषा वह माध्यम है, जिसके द्वारा मनुष्य बोलकर या लिखकर अपने भावों तथा विचारों का आदान-प्रदान कर सकता है। भाषा के भेद – भाषा के दो रूप होते हैं- 1) मौखिक भाषा – बोल-चाल की भाषा को मौखिक भाषा कहते हैं। 2) लिखित भाषा – जिस भाषा को लिपिबद्ध...

व्याकरण | Vyakaran | Grammer in Hindi

सामान्यतः किसी भाषा की नियमावली को उसका व्याकरण कहते हैं। व्याकरण भाषा का एक नियमबद्ध समूह है, जिनके द्वारा हम भाषा को व्यवहारिक रूप में बोल पाते हैं। व्याकरण के ज्ञान से ही भाषा का सही उच्चारण संभव हो सकता है। भाषा को शुद्ध बोलना एवं लिखना भी व्याकरण के द्वारा संभव...

वर्ण-विचार | Varn Vichar | Characterization in Hindi

वर्ण-विचार – वर्ण भाषा की वह छोटी सी इकाई है, जिसके और टुकड़े नहीं हो सकते। वर्णो के क्रमबद्ध समूह को वर्णमाला कहा जाता है। वर्ण भाषा के मौखिक और लिखित दोनों रूपों के प्रतीक हैं। वर्ण को अक्षर भी कहा जाता है। वर्ण के भेद हिन्दी वर्ण मुख्यतः दो भागों में बँटे हुऐ...

शब्द-विचार | Shabd Vichaar | Word-Idea in Hindi

शब्द – अक्षरों के मेल से बने सार्थक समूह को शब्द कहते हैं। जैसे – आदमी, घर, दुकान, मकान, पुस्तक, कपड़े आदि। शब्दों के प्रकार – शब्दों को कई दृष्टिकोण से विभाजित किया गया है। 1) उत्पत्ति के आधार पर – ये चार प्रकार के होते हैं। (क) तत्सम (संस्कृत...

संधि-विच्छेद | Sandhi Vichchhed in Hindi

संधि – निकटवर्ती दो वर्णो के पारस्परिक मेल से जो विकार उत्पन्न होता है, उसे ‘संधि’ कहते हैं संधि-विच्छेद – संधि युक्त वर्णो को अलग करके, संधि से पूर्व की अवस्था में लाना ‘संधि-विच्छेद’ कहलाता है। संधि के प्रकार – संधियाँ तीन...

उपसर्ग | Upsarg | Prefixes in Hindi

उपसर्ग – वे शब्दांश, जो किसी शब्द के प्रारंभ में जुड़कर शब्द के अर्थ में विशेषता या परिवर्तन लाते हैं, उन्हें उपसर्ग कहते हैं। जैसे – अन् + आदर = अनादर दुर + दिन = दुर्दिन अभि + मान = अभिमान अव + गुण = अवगुण उपसर्ग के प्रकार – उपसर्ग तीन प्रकार के...

प्रत्यय | Pratyay | Suffix in Hindi

वे शब्दांश जो किसी शब्द के अंत में जुड़कर शब्द के अर्थ में विशेषता या परिवर्तन लाते हैं, उन्हें प्रत्यय कहते हैं। जैसे – कवि + त्व = कवित्व गरीब + ई = गरीबी हर्ष + इत = हर्षित श्री + मान = श्रीमान् प्रत्यय के प्रकार प्रत्यय दो प्रकार के होते हैं| 1) कृदन्त...

समास | Samas | Compound in Hindi

दो या दो से अधिक शब्दों के मेल से नए शब्द बनाने की क्रिया को ‘समास’ कहते हैं। समास के प्रकार – समास छः प्रकार के होते हैं- 1) तत्पुरूष समास – तत्पुरूष समास में अंतिम पद प्रधान होता है और समस्त पद में कर्ता को छोड़कर अन्य कारकों में से कोई एक...

एकार्थी शब्द | Ekarthi Shabd in Hindi

एकार्थी शब्द उन्हें कहते हैं, जिनका वाच्यार्थ एक ही होता है। शब्द एकार्थी अभिनेता कलाकार अपराध जुर्म आराधना तपस्या अनुराग प्रेम अर्चना पूजा अपयश बदनामी अहंकार घमंड आसक्ति गहरी चाह उत्तम श्रेष्ठ, अच्छा इष्ट इच्छित छात्र विद्यार्थी कलंक घब्बा (बदनामी) तरूण जवान कृति...

अनेकार्थी शब्द | Anekarthi Shabd | Anonymously in Hindi

जिन शब्दों के अनेक अर्थ होते हैं, उन्हें अनेकार्थी शब्द कहते हैं। शब्द अनेकार्थी कक्षा परिधि, समूह, छात्रों का समूह काम इच्छा, कामदेव, कार्य, वासना अरूण लाल, सूर्य, सिंदूर काल समय, मृत्यू अंक गिनती के अंक, चिन्ह्, नाटक के अध्याय अंग शरीर, टुकड़ा, भेद, पक्ष, सहायक, भाग,...

वाक्यांश के लिए एक ही शब्द | Vakyaansh Ke Liye Ek Hi Shabdh in Hindi

प्रत्येक भाषा में ऐसे अनेक शब्द होते हैं जिनके लिए एकाधिक शब्दों का प्रयोग किया जाता है। जैसे- अनेक शब्द एक शब्द जिसे जीता न जा सके अजेय जिसका कोई शत्रु न हो अजातशत्रु जिसके आने की तिथि निश्चित न हो अतिथि जिसकी तुलना न की जा सके अतुलनीय बड़ा भाई अग्रज अवसर के अनुसार...

विलोम शब्द | Vilom Shabd | Antonyms in Hindi

जो शब्द एक दूसरे के विपरित अर्थ प्रकट करते हैं, उन्हें विलोम या विपरीतार्थक शब्द कहते हैं। जैसे- शब्द विलोम अमृत विष कीर्ति अपकीर्ति उर्वरा ऊसर राजा रंक अल्पायु दीर्घायु अन्त आदि आधुनिक प्राचीन कृतज्ञ कृतघ्न कटु मधु गणतन्त्र राजतन्त्र ज्येष् कनिष्ठ दुर्लभ सुलभ मूक...

पर्यायवाची या समानार्थी शब्द | Paryayvachi Shabad Ya Samanarthi Shabad | Synonym Words in Hindi

एक अर्थ को प्रकट करने वाले अनेक शब्दों को पर्यायवाची या समानार्थी शब्द कहते हैं। शब्द पर्यायवाची इच्छा आकांक्षा, मनोरथ, कामना, चाह, लालसा, अभिलाषा पक्षी खग, विहग, नभचर, पखेरू असुर दैत्य, दानव, राक्षस, निशाचर, तमीचर, दनुज वायु समीर, अनिल, पवन, हवा अमृत पीयूष, सुधा,...

समरूपी भिन्नार्थक शब्द | Samrupi Bhinaarthak Shabd in Hindi

वे शब्द जो पढने और सुनने में समान प्रतीत होते हैं, पर इनके अर्थो में पर्याप्त भिन्नता होती है, उन्हें समरूपी भिन्नार्थक शब्द कहते हैं। पहला शब्द अर्थ दूसरा शब्द अर्थ अर्क सूर्य अर्घ पूजा का जल आकर खान आकार आकृति, शक्ल अंगना स्त्री अँगना आँगन अगम दुर्लभ, अगम्य आगम...

संज्ञा | Sangya | Noun in Hindi

संज्ञा – किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान या भाव के नाम को संज्ञा कहते हैं। उदाहरण – मथुरा, कानपुर, जल, राधा, लक्ष्मीबाई, नदी आदि। संज्ञा के प्रकार – संज्ञा के प्रकार निम्नलिखित हैं- 1) व्यक्तिवाचक संज्ञा – जब एक ही व्यक्ति या वस्तु का ज्ञान होता है...

लिंग | Ling | Gender in Hindi

लिंग – पुरूष या स्त्री जाति का ज्ञान कराने वाले शब्दों को लिंग कहते हैं। लिंग दो प्रकार के होते हैं। 1) पुल्लिंग – पुरूष जाति का ज्ञान कराने वाले शब्दों को पुल्लिंग कहते हैं। उदाहरण – मोर, बालक, पुरूष, पिता, मुर्गा, शिष्य, सेठ इत्यादि। 2)...

वचन | Vachan | Promise in Hindi

वचन – शब्द के जिस रूप से एक या अनेक होने का पता चलता है, उसे वचन कहते हैं। उदाहरण -लड़का-लड़के, कुर्सी-कुर्सियाँ, लड़की-लड़कियाँ इत्यादि। वचन के प्रकार – वचन दो प्रकार के होते हैं- 1) एकवचन – शब्द के जिस रूप से एक वस्तु, व्यक्ति या एक प्राणी के होने का...

कारक | Karak | Factor in Hindi

कारक – शब्द का दूसरे शब्दों से सम्बन्ध बताने वाला रूप कारक कहलाता है। उदाहरण – राम ने खाना खाया अर्थात इसमें राम का सम्बन्ध खाना क्रिया से (कर्ता) है। कारक के प्रकार – कारक आठ प्रकार के होते हैं- 1) कर्ता कारक – क्रिया करने वाले को कर्ता कहा...

सर्वनाम | Sarvnaam | Pronoun in Hindi

सर्वनाम – जिन शब्दों का संज्ञा के स्थान पर प्रयोग किया जाता है, उन्हें सर्वनाम कहते हैं। उदाहरण – वह, मैं, तुम, आप, वे, यह, ये, कौन, कोई इत्यादि। सर्वनाम के प्रकार – सर्वनाम छः प्रकार के होते हैं- पुरूषवाचक सर्वनाम निश्चयवाचक सर्वनाम अनिश्चयवाचक...