Home व्याकरण

व्याकरण

भाषा के नियम को व्याकरण कहते हैं!

हिंदी व्याकरण सही प्रकार से हिंदी सीखने के लिए आवश्यक है! व्याकरण को इंग्लिश में ग्रामर (Grammar) कहते हैं!

आप हमारी हिंदी व्याकरण पाठ्यक्रम से आसानी से व्याकरण सीख सकते हैं! इस हिंदी व्याकरण पाठ्यक्रम में भाषा, लिपि, बोली, संधि, संधि-विच्छेद, विलोम शब्द, पर्यायवाची शब्द, वाक्यांश के लिए एक शब्द, समरूपी भिन्नार्थक शब्द, संज्ञा, लिंग, वचन, कारक, सर्वनाम, विशेषण, क्रिया, काल, वाच्य, उपसर्ग, प्रत्यय व समास दिए गए हैं!

हिंदी व्याकरण सीखने के लिए आपको हिंदी का थोड़ा ज्ञान होना आवश्यक है| इस हिंदी व्याकरण में आपको कोई गलती नहीं मिलेगी| अगर आपको कोई त्रुटि या गलती मिलती है, तो आप उसे ईमेल कर सकते हैं|

भाषा के नियम को व्याकरण कहते हैं! हिंदी व्याकरण सही प्रकार से हिंदी सीखने के लिए आवश्यक है! व्याकरण को इंग्लिश में ग्रामर (Grammar) कहते हैं! आप हमारी हिंदी व्याकरण पाठ्यक्रम से आसानी से व्याकरण सीख सकते हैं! इस हिंदी व्याकरण पाठ्यक्रम में भाषा, लिपि, बोली, संधि, संधि-विच्छेद, विलोम शब्द, पर्यायवाची शब्द, वाक्यांश...

भाषा

भाषा - भाषा वह माध्यम है, जिसके द्वारा मनुष्य बोलकर या लिखकर अपने भावों तथा विचारों का आदान-प्रदान कर सकता है। भाषा के भेद - भाषा के दो रूप होते हैं- 1) मौखिक भाषा - बोल-चाल की भाषा को मौखिक भाषा कहते हैं। 2) लिखित भाषा - जिस भाषा को लिपिबद्ध किया जा सकता है, अर्थात् लेखक...
सामान्यतः किसी भाषा की नियमावली को उसका व्याकरण कहते हैं। व्याकरण भाषा का एक नियमबद्ध समूह है, जिनके द्वारा हम भाषा को व्यवहारिक रूप में बोल पाते हैं। व्याकरण के ज्ञान से ही भाषा का सही उच्चारण संभव हो सकता है। भाषा को शुद्ध बोलना एवं लिखना भी व्याकरण के...
वर्ण-विचार - वर्ण भाषा की वह छोटी सी इकाई है, जिसके और टुकड़े नहीं हो सकते। वर्णो के क्रमबद्ध समूह को वर्णमाला कहा जाता है। वर्ण भाषा के मौखिक और लिखित दोनों रूपों के प्रतीक हैं। वर्ण को अक्षर भी कहा जाता है। वर्ण के भेद हिन्दी वर्ण मुख्यतः दो भागों में...
शब्द - अक्षरों के मेल से बने सार्थक समूह को शब्द कहते हैं। जैसे - आदमी, घर, दुकान, मकान, पुस्तक, कपड़े आदि। शब्दों के प्रकार - शब्दों को कई दृष्टिकोण से विभाजित किया गया है। 1) उत्पत्ति के आधार पर - ये चार प्रकार के होते हैं। (क) तत्सम (संस्कृत शब्द) - संस्कृत भाषा के वे शब्द, जो...
संधि - निकटवर्ती दो वर्णो के पारस्परिक मेल से जो विकार उत्पन्न होता है, उसे 'संधि' कहते हैं संधि-विच्छेद - संधि युक्त वर्णो को अलग करके, संधि से पूर्व की अवस्था में लाना 'संधि-विच्छेद' कहलाता है। संधि के प्रकार - संधियाँ तीन प्रकार की होती हैं- स्वर संधि व्यंजन संधि विसर्ग संधि 1) स्वर...
उपसर्ग - वे शब्दांश, जो किसी शब्द के प्रारंभ में जुड़कर शब्द के अर्थ में विशेषता या परिवर्तन लाते हैं, उन्हें उपसर्ग कहते हैं। जैसे - अन् + आदर = अनादर दुर + दिन = दुर्दिन अभि + मान = अभिमान अव + गुण = अवगुण उपसर्ग के प्रकार - उपसर्ग तीन प्रकार के होते हैं- 1)...
वे शब्दांश जो किसी शब्द के अंत में जुड़कर शब्द के अर्थ में विशेषता या परिवर्तन लाते हैं, उन्हें प्रत्यय कहते हैं। जैसे - कवि + त्व = कवित्व गरीब + ई = गरीबी हर्ष + इत = हर्षित श्री + मान = श्रीमान् प्रत्यय के प्रकार प्रत्यय दो प्रकार के होते हैं| 1) कृदन्त प्रत्यय वे प्रत्यय...

समास

दो या दो से अधिक शब्दों के मेल से नए शब्द बनाने की क्रिया को 'समास' कहते हैं। समास के प्रकार - समास छः प्रकार के होते हैं- 1) तत्पुरूष समास - तत्पुरूष समास में अंतिम पद प्रधान होता है और समस्त पद में कर्ता को छोड़कर अन्य कारकों में से कोई एक...
एकार्थी शब्द उन्हें कहते हैं, जिनका वाच्यार्थ एक ही होता है। शब्द एकार्थी अभिनेता कलाकार अपराध जुर्म आराधना तपस्या अनुराग प्रेम अर्चना पूजा अपयश बदनामी अहंकार घमंड आसक्ति गहरी चाह उत्तम श्रेष्ठ, अच्छा इष्ट इच्छित छात्र विद्यार्थी कलंक घब्बा (बदनामी) तरूण जवान कृति रचना निधन मृत्यु निंदा बुराई निपुण कुशल प्रणय दाम्पत्य प्रेम बली बलवान यातना कष्ट सम्राट राजा शस्त्र हथियार। अधिक ज्यादा अभिमान घमंड मृत्यु निधन ग्रंथ धार्मिक पुस्तक निर्णय फैसला भय डर शक संदेह ईष्र्या द्वेष न्याय इंसाफ स्वभाव प्रकृति स्वाभिमान आत्म सम्मान सेवा सुश्रुषा अमूल्य बहुमूल्य श्रद्धा भक्ति पर्याप्त पूर्ण तृप्ति संतोष उपहार भेंट आजादी स्वतंत्रता स्नेह वात्सल्य शिक्षा विद्या आधि मानसिक रोग व्याधि शारीरिक रोग स्त्री महिला पत्नी विवाहिता पाप अपराध अगम दुर्गम स्वागत अभिनंदन किराया भाड़ा

स्पेशल स्टोरी

खबरें छूट गयी हैं तो