DM कैसे बने – 

DM  का मतलब District Magistrate होता है। इस पद पर हर युवा कार्य करना चाहता है । DM का पद मामूली नहीं होता है बल्कि यह बहुत ही सम्मानजनक पद होता है । DM के पास ऐसे बहुत से अधिकार होते हैं जो और किसी दूसरे पद के पास नहीं होते हैं । DM का मतलब है यह एक ऐसा पद होता है जिसके पास पूरे जिले कि मुख्य अधिकार और प्राशासनिक और राजस्व से संबंधित अधिकार प्राप्त होते हैं । जो पूरे जिले में काम करने का अधिकार रखता है । तथा जिले के बाकि सभी अधिकारियों का भी अधिकारी होता है और पूरे जिले को अपनी सेवाएं प्रदान करता है ।‌ DM का किया जिले की सुरक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी भी होती है अर्थात DM को जिले का मुखिया भी कहा जाता है । जिला मजिस्ट्रेट का प्रमुख कार्य होता है अपने जिले की कानून व्यवस्था को सुचारू रूप से बनाए रखना । तथा अपने निचले स्तर पर काम करने वाले कर्मचारियों पर भी जिला मजिस्ट्रेट का अधिकार होता है । 

DM kaise bane

जिला मजिस्ट्रेट बनने हेतु योग्यता   

* जिला मजिस्ट्रेट बनने के लिए आपके पास किसी भी विषय से मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय की graduation की Degree होना आवश्यक है । स्नातक के बाद आप IAS की परीक्षा में शामिल हो सकते हो ‌।‌

* IAS बनने के लिए भारत का नागरिक होना आवश्यक है ।

जिला मजिस्ट्रेट बनने के लिए आयु – 

जिला मजिस्ट्रेट बनने के लिए सबसे पहले आपको IAS की परीक्षा पास करनी होती है ।‌और IAS की परीक्षा के लिए सभी वर्गों के लिए अलग अलग आयु सीमा रखी गई है । 

* General वर्ग वालों की आयु सीमा 21 से 30 वर्ष रखी गई हैं । 

* OBC वर्ग वालों के लिए यहां 3 साल की छूट दी गई हैं । 

* SC/ST वर्ग वालों के लिए यहां 5 साल की छूट दी गई हैं ।

जिला मजिस्ट्रेट की चयन प्रक्रिया – 

जिला मजिस्ट्रेट बनने के लिए सबसे पहले आपको UPSC के आयोजित की जाने वाली परीक्षा CSE (civil Service exam )  देना होगा । और इस परीक्षा को पास करने के बाद ही आप IAS बन पाओगे । और  जब आपका IAS में promotion होगा तब कहीं जाकर आप DM बन‌ पाओगे । IAS exam तीन चरणों में सम्पन्न होती है । 

* प्रारंभिक परीक्षा 

CES में भाग लेने के लिए का यह पहला चरण होता है जो एक लिखित परीक्षा होती है । इस परीक्षा में दो पेपर होते हैं पहले में आपसे 100 प्रश्न पूछे जाते हैं और दूसरे पेपर में आपसे 80 प्रश्न पूछे जाएंगे । ये दोनों ही पेपर 200- 200 नंबर के होते हैं । IAS exam के दूसरे चरण में जाने के लिए आपको पहला चरण पास करना होगा । 

* मुख्य परीक्षा –  

जो विद्यार्थी प्रारंभिक परीक्षा को पास करते हैं उनको ही दूसरे चरण की परीक्षा में शामिल होने का मौका मिलता है । मुख्य परीक्षा में आपके कुल 9 पेपर होते हैं जो  सभी लगभग 1750 नंबर होंगे । पर आपका Section 7 पेपरों के नंबर के हिसाब से ही होगा । और यदि आपने IAS exam के Main exam को भी पास कर लिया तो इसके बाद आपके तीसरे चरण के लिए बुलाया जाएगा । 

* साक्षात्कार – 

तीसरे चरण में उन्हीं को शामिल किया जाएगा जिन्होंने मुख्य परीक्षा को अच्छे अंकों से पास किया हो । यह चरण सबसे महत्वपूर्ण चरण होता है जिसमें आपसे कुछ अधिकारी अलग-अलग तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं जिनके उत्तर आपको देना होता है अगर आपने इस तीसरे चरण को भी पास कर लिया तो आपको IAS Officer के पद पर नियुक्त कर दिया जाता है । IAS अधिकारी बनने तथा उसके 1,2 promotion के बाद आपको DM बना दिया जाता है । और आप कौन से राज्य के DM बनना चाहते हैं इसका चयन आप खुद कर सकते हैं । इस Interview में कुछ ध्यान रखने योग्य बातें –

* इस Interview में आपकी कितनी knowledge है यह देखा जाता है । 

* Interview में लगभग 400-450 Candidate शामिल हो पाते । 

IAS की परीक्षा पास करने के बाद आपको IAS की Training के लिए भेजा जाता है और Training पूरी होने के बाद ही आपका Promotion करके DM का पद दिया जाता है । 

DM का वेतन – 

जिला मजिस्ट्रेट का वेतन 1से 1.5 लाख रूपए तक होता है। तथा इसके अलावा जिला मजिस्ट्रेट को अन्य सुविधाएं भी दी जाती है जैसे – गाड़ी, बंगला, फोन, और सुरक्षागार्ड । इसके साथ साथ जिला मजिस्ट्रेट को वेतन के अलावा कई भत्ते में मिलते हे ।