दिल्ली UP समेत 13 राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट जारी

683

भारतीय मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार आज दिल्ली NCR के साथ-साथ बिहार, जम्मू-कश्मीर और उत्तर प्रदेश के अलावा अन्य 13 राज्यों में अगले 48 घंटों में झमा-झम बारिश होने का अनुमान व्यक्त किया है। बारिश की चिंता को देखते हुए सरकार ने राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF) की 89 टीमों को हाई अलर्ट पर रखा है। इसके साथ ही बाढ़ की आशंका वाले इलाकों में 45 टीमों को तैनात कर दिया गया है। विभाग ने समय से पहले ही मछुआरों के लिए अलर्ट जारी कर रखा है कि वे बाढ़ वाले स्थान पर न जाएं।

मौसम विभाग ने आज से लेकर अगल्रे 3 दिन तक गोवा एवं कोंकण में कुछ स्थानों पर मूसलाधार बारिश होने की बात कही है। इसके साथ ही साथ महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, तेलंगाना, गुजरात, विदर्भ, छत्तीसगढ़, मराठवाड़ा क्षेत्र, कर्नाटक के तटीय और भीतरी इलाकों एवं पूर्वोत्तर के कुछ स्थानों पर भारी बारिश के आसार हैं। आईएमडी ने तटीय आंध्र प्रदेश,  तमिलनाडु, रायलसीमा, कनार्टक और तेलंगाना में कुछ स्थानों पर तूफान और तेज हवाओं के साथ बारिश की आशंका जताई है।

आपको बता दें कि इस वक्त पूरे भारत में मानसून छा चुका है, उत्तर प्रदेश में मानसून लगभग पूरी तरह सक्रिय हो गया है और पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में अनेक स्थानों पर बारिश हुई है। आंचलिक मौसम केन्द्र की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य के पूर्वी हिस्सों में कुछ स्थानों, जबकि पश्चिमी भागों में अनेक स्थानों पर बारिश हुई है। आपको बता दें कि किस स्थान पर कितनी बारिश दर्ज की गई है जैसे- बलरामपुर और इगलास में सबसे ज्यादा नौ-नौ सेंटीमीटर वर्षा हुई, इसके अलावा बहराइच में सात, महराजगंज में पांच, ककरही, बांसी और गोरखपुर में चार-चार तथा फतेहगढ़, रिगौली, सिधौली, खलीलाबाद, कैसरगंज, इटावा और मुजफ्फरनगर में दो-दो सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गयी। आज देश के हर इलाके में अच्छी-खासी बारिश होने के आसार भी है। उत्तरी राज्यों में हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर और हरियाणा के कुछ इलाकों में कहीं हल्की और कहीं तेज बारिश का दौर जारी है।

जम्मू-कश्मीर में खराब मौसम और बारिश की वजह से अमरनाथ यात्रा शुक्रवार को लगातार तीसरे दिन भी स्थगित रही। तीर्थयात्रियों को जम्मू से घाटी में बालटाल और पहलगाम आधार शिविरों की ओर जाने की मंजूरी नहीं दी गई। अधिकारियों ने बताया कि आज मौसम में सुधार हुआ है, लेकिन चिंता अभी भी बरक़रार है। पहले स्थिति की समीक्षा की जाएगी, फिर उसके बाद इस पर फैसला लिया जाएगा। इस साल अब तक 68 हजार तीर्थयात्री अमरनाथ की यात्रा कर चुके हैं। मौजूदा समय में 30 हजार से अधिक तीर्थयात्री शिविरों सहित विभिन्न स्थानों पर फंसे हुए हैं। अमरनाथ में भूस्खलन की वजह से बालटाल रूट के बराड़ी मार्ग पर 5 पांच यात्रियों की मौत हो गई, जिसमें चार पुरुष व एक महिला शामिल है और 3 यात्री घायल हो गए।  इस बार खराब मौसम के चलते अमरनाथ यात्रा कई बार प्रभावित हुई है।

एक पुलिस ऑफिसर ने बताया कि बालटाल में रेलपत्री और ब्रारीमर्ग लैंडस्लाइड की वजह से ये दुर्घटना हुई हैं। अधिकारी ने बताया कि मृतकों और घायल लोगों की पहचान अभी तक नहीं हो पाई है है। शवों को बालटाल अस्पताल लाया जा रहा है, उन्होंने बताया कि पुलिस, सुरक्षा एजेंसियां और मेडिकल रिस्पॉन्स टीम पूरी तरह से अलर्ट है।