कब्ज

0
17

कब्ज एक आम रोग है, जो किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता है। इस रोग में पेट ठीक से साफ नही होता और मल त्याग करने में बहुत परेशानी होती है। इस रोग से पीड़ित व्यक्ति जो भी खाता है वो ठीक से पच नहीं पाता और आतों में शुष्क मल के रूप में इक्कठा हो जाता है।

मुख्य लक्षण

  • ठीक से पेट साफ ना होना।
  • मल का सख्त हो जाना।
  • जीभ सफेद या मटमैली हो जाना।
  • पेट में गैस बनना और भूख कम लगना।
  • मल त्याग करने में तकलीफ या दर्द होना।
  • पेट फूल जाना और दर्द या मितली होना।
  • ऐसा महसूस होना जैसे आतों में कुछ जमा हो गया हो।
  • मुंह का स्वाद खराब होना और मुंह से बदबू आना।

मुख्य कारण

  • पानी कम पीना, सही समय पर खाना ना खाना।
  • भोजन अच्छी तरह से चबाकर ना खाना।
  • बासी, अधिक चिकनाई वाला या मिर्च-मसालेदार भोजन करना।
  • आंत या लीवर से सम्बंधित रोग से भी कब्ज हो सकता है।
  • शराब, चरस या अन्य नशीले पदार्थों का सेवन करना।
  • गरम दवाइयों का अधिक सेवन करना।
  • मधुमेह या इसके जैसी बीमारी से पीड़ित होना।
  • खाना खाने के बाद तुरंत सो जाना।

कब्ज से बचाव

  • चाय, कोफी, धूम्रपान और शराब इत्यादि का अघिक सेवन ना करें।
  • बेड-टी की आदत ना डालें।
  • नियमित रूप से व्यायाम करें और भोजन करने के बाद टहलने के लिए जाएँ।
  • नियमित रूप से पानी पियें और भोजन अच्छी तरह से चबाकर खाएं।

घरेलू उपचार

दवा के अलावा कुछ घरेलू नुस्खे आजमाकर भी कब्ज का उपचार किया जा सकता है। कुछ आसान एवं कारगर घरेलू उपचार निम्नलिखित हैं।

  • निम्बू पानी: एक गिलास गुनगुने पानी में उपयुक्त मात्रा में निम्बू का रस और नमक डालकर सुबह खाली पेट पियें।
  • त्रिफला चूर्ण: त्रिफला चूर्ण का रात को सोने से पहले पानी के साथ सेवन करें।
  • इसबगोल भूसी: इसबगोल भूसी के एक दो चम्मच का दूध या दही के साथ सेवन करे।
  • काला नमक: एक गिलास गुनगुने पानी में एक चुटकी काला नमक मिलाकर सुबह खाली पेट पीने के बाद 10 से 15 मिनट तक टहलने जायें।
  • अंजीर: दो-तीन बादाम और कुछ सूखे अंजीर लेकर इन्हे कुछ घंटों के लिए पानी में भिगोकर रख दें। इसके बाद बादाम के छिलके निकालकर बादाम और अंजीर का पेस्ट बना लें। रात को सोने से पहले इस पेस्ट को शहद के साथ खाएं।
  • अरंडी का तेल: एक गिलास संतरे के रस में एक चम्मच अरंडी का तेल मिलाकर सुबह खाली पेट पीयें। रात को सोने से पहले भी एक गिलास दूध में एक चम्मच अरंडी का तेल डालकर पीया जा सकता है।
  • अलसी: एक चम्मच अलसी के बीज के पाउडर को दही में मिलाकर रात को सोने से पहले खाएं। अलसी के बीजों को सुबह गरम पानी के साथ खाली पेट भी खाया जा सकता है।
  • अंगूर / किशमिश: एक कटोरी अंगूर या इसके जूस का नियमित रूप से सेवन करें। इसके अलावा 10 से 12 किशमिश को रात में पानी में भिगोकर रख दें और सुबह खाली पेट इसका सेवन करें।
  • पालक: पालक की सब्जी का नियमित रूप से सेवन करें। यदि कब्ज ज्यादा है तो आधा गिलास पालक के जूस में आधा गिलास पानी मिलाकर पीया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here