“कंप्यूटर एक विद्युतचलित यंत्र/उपकरण है, जो उपयोगकर्ता द्वारा दी गई जानकारी को दिये गए निर्देशानुसार पूरा करता है।”

कंप्यूटर की परिभाषा | Definition of Computer 

कंप्यूटर शब्द लैटिन भाषा के “Computer” से लिया गया है जिसका अर्थ होता है गणना (Calculate) करना, इसीलिए इसे गणक या कंप्यूटर भी कहा जाता है। इसका आविष्कार Calculation करने के लिए हुआ था। कंप्यूटर एक तेज, सटीक और कभी ना थकने वाला यंत्र है।

शुरूआत में कंप्यूटर का इस्तेमाल केवल Calculation करने के लिए किया जाता था परंतु आजकल इसका उपयोग Document बनाने, e-mail भेजने,Music सुनने व Video देखने, games खेलने के साथ-साथ बैंकों में, शैक्षिणिक संस्थानों में, कार्यालयों में, घरों और दुकानों आादि में अत्याधिक रूप से किया जा रहा है।

कंप्यूटर एक programmable electronic device है। कंप्यूटर केवल वही काम करता है जो हम उसमें command देते हैं। जो व्यक्ति कंप्यूटर को चलाता है उस User कहते हैं और जो व्यक्ति कंप्यूटर के लिए प्रोग्राम बनाता है उसे programmer कहते हैं।

ऐसा माना जाता है कि Analytical Engine ही प्रथम कंप्यूटर था। इसका आविष्कार Charles Babbage ने सन् 1837 में किया था। Charles Babbage को कंप्यूटर का जनक माना जाता है।


कंप्यूटर क्या है

कंप्युटर के जनक चार्ल्स बैवेज ने कंप्यूटर का अविष्कार लंदन में किया था। क्योंकी कंप्यूटर का अविष्कार गणना करने के
लिए किया गया था इसलिए इस लैटिन भाषा पर आधारित compute शब्द जिसका अर्थ है गणना करना । आजकल
कंप्यूटर का उपयोग डाक्यूमेंट बनाने, ईमेल, ऑडियो, वीडियो, डेटाबेस, गेम्स, मूवीस के साथ-साथ घरों, दुकानों, स्कूल,
कालेज, बैंक तथा क‌ई कार्यालयों में किया जा रहा है।
कंप्यूटर हमारे दिये हुए commands (निर्देशों) को ही पूरा करता है, वह स्वयं कोई काम नहीं कर सकता। कंप्यूटर को
चलाने वाले व्यक्ति को user (यूज़र), एवं कंप्यूटर पर प्रोग्राम बनाने वाले व्यक्ति को प्रोग्रामर कहा जाता है।
कंप्यूटर को सही तरीके से काम करने के लिए साफ्टवेयर एवं हार्डवेयर दोनों की ही समान आवश्यकता होती है, कंप्यूटर
में उपयोग होने वाले हार्डवेयर को चलाने के लिए साफ्टवेयर के अंदर डाली गई होती है। कंप्यूटर के CPU से क‌ई प्रकार
के हार्डवेयर जोड़े जाते हैं। हार्डवेयर सॉफ्टवेयर एवं सीपीयू के बीच तालमेल बिठाने का काम ऑपरेटिंग सिस्टम का होता
है।

कंप्यूटर कैसे कार्य करता है?


1) इनपुट : हम किसी भी इंफॉर्मेशन को इनपुट डिवाइस इस्तेमाल करके कंप्यूटर में डाल सकते हैं। यह इंफॉर्मेशन
कुछ भी हो सकती है जैसे कि कोई लेटर पिक्चर, वीडियो कैलकुलेशन आदि।
2) प्रोसेस : प्रोसेस एक इंटरनल प्रक्रिया है ,जिसमें इनपुट किए गए डाटा को इंस्ट्रक्शन के अनुसार प्रोसेस किया
जाता है।
3) आउटपुट : इस प्रक्रिया में जो डाटा पहले से प्रोसेस हो चुका है , उसका रिजल्ट दिखाया जाता है हम इस रिजल्ट
को मेमोरी में सेव करके रख सकते हैं।

कंप्यूटर की मुख्य इकाइयां

किसी भी कंप्यूटर केस के अंदर कई छोटे-छोटे कंपोनेंट्स होते हैं ,जो कि बहुत ज्यादा कॉम्प्लिकेटेड देखते हैं , पर असल में
वे उतने कॉम्प्लिकेटेड नहीं होते।
1) मदरबोर्ड : मदर बोर्ड किसी कंप्यूटर का मुख्य सर्किट बोर्ड होता है, एक पतली सी प्लेट की तरह दिखने वाला
यह बहुत सी चीजों को धारण किए हुए होता है ,जैसे सीपीयू मेमोरी,कनेक्टर्स हार्ड ड्राइव और ऑप्टिकल ड्राइव
के लिए एक्सपेंशन कार्ड वीडियो और ऑडियो को कंट्रोल करने के लिए, मदर बोर्ड कंप्यूटर के सभी पार्ट्स के
साथ डायरेक्टली या इनडायरेक्टली जुड़ा होता है।
2) सीपीयू प्रोसेसर : सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट कंप्यूटर केस के अंदर मदरबोर्ड में होता है यह कंप्यूटर का दिमाग
कहलाता है किसी कंप्यूटर के अंदर हो रहे सारे गतिविधियों पर नजर रखता है , कंप्यूटर में होने वाली प्रोसेसिंग
की स्पीड प्रोसेसर पर ही निर्भर करती है।
3) रैम : रैम यानी रेंडम एक्सेस मेमोरी सिस्टम का शॉर्ट टर्म मेमोरी होता है। कंप्यूटर में जब भी कोई कैलकुलेशन
किया जाता है तब यह टेंपरेरिली उस रिजल्ट को रैम में सेव करता है इस बीच कंप्यूटर अगर बंद हो जाए तो वह
डाटा खो जाता है यदि कोई डॉक्यूमेंट लिखा जा रहा है तो उसे नष्ट होने से बचाने के लिए बीच-बीच में से करते रहना चाहिए सेव करने से डाटा हार्ड ड्राइव में सेव हो जाता है जोकि लंबे समय तक रह सकता है। रैम मेगा
बाइट और गीगाबाइट इकाइयों में मापा जाता है रैम का ज्यादा होना हमारे लिए अच्छा होता है।
4) हार्ड ड्राइव : सॉफ्टवेयर डाक्यूमेंट्स और दूसरी फाइल को सेव करने वाली इकाई को हार्ड ड्राइव कहते हैं ,इसमें
डाटा को लंबे समय के लिए स्टोर किया जाता है।
5) पावर सप्लाई यूनिट : पावर सप्लाई यूनिट मेन पावर यूनिट सप्लाई से पावर लेकर उसे दूसरे कंपोनेंट्स में उनके
जरूरत के हिसाब से सप्लाई करती है।
6) एक्सपेंशन कार्ड : हर कंप्यूटर में एक्सपेंशन स्लॉट होते हैं जिसमें की कोई भी एक्सपेंशन कार्ड को ऐड किया
जाता है इन्हें पीसीआई पेरीफेरल कॉम्पोनेंट्स इंटरकनेक्ट कार्ड भी कहा जाता है लेकिन आजकल मदर बोर्ड में
इन बिल्ड ही कई स्लॉट्स होते हैं।

कंप्यूटर के प्रकार

आज के समय में विभिन्न शेप्स साइज के अनुसार कई प्रकार के कंप्यूटर्स बाजार में उपलब्ध है, जैसे एटीएम या स्केनर
केलकुलेटर यह सभी विभिन्न प्रकार के कंप्यूटर है।
1) डेस्कटॉप : डेस्कटॉप कंप्यूटर का उपयोग अधिकतर घरों स्कूलों तथा अपने पर्सनल काम के लिए करते हैं इस कंप्यूटर
सिस्टम को डेस्क पर रखा जा सकता है इसके बहुत से पार्ट्स होते हैं जैसे मॉनिटर, कीबोर्ड,माउस कंप्यूटर केस।
2) लैपटॉप : लैपटॉप एक पोर्टेबल कंप्यूटर सिस्टम है जोकि बैटरी पावर होते हैं ,इन्हें कहीं भी आसानी से ले जाया
जा सकता है।
3) टेबलेट : टेबलेट एक प्रकार का हैंडहेल्ड कंप्यूटर भी कहा जा सकता है, इसका आकार इतना छोटा होता है कि
इसे हम आसानी से हाथों में पकड़ सकते हैं, इसमें कीबोर्ड माउस नहीं होते बस एक टच सेंसिटिव क्रीम होती है
जिससे टाइपिंग और नेविगेशन के लिए इस्तेमाल किया जाता है आईपैड इसका एक उदाहरण है।
4) सर्वर : कुछ इस प्रकार के कंप्यूटर जिन्हें हम इंफॉर्मेशन के आदान-प्रदान के लिए इस्तेमाल करते हैं सर्वर कहलाते
हैं। जब भी हम कोई चीज इंटरनेट पर खोजते हैं वे सभी सर्वर में ही स्टोर होती हैं।

इनके अलावा स्मार्टफोन गेम, कंसोल टीवी, स्मार्ट वॉच, फिटनेस ट्रैकर आदि भी कंप्यूटर के ही प्रकार है।

कंप्यूटर का उपयोग


कंप्यूटर का उपयोग शिक्षा के क्षेत्र में बहुत ही उपयोगी है विद्यार्थी कंप्यूटर की मदद से किसी भी जानकारी को कुछ ही
समय में हासिल कर सकते हैं रिसर्च से पता चला की स्टूडेंट्स के लर्निंग परफॉर्मेंस में काफी बढ़त देखी गई है आजकल घर बैठे ही ऑनलाइन क्लासेस की मदद से बच्चे अपनी पढ़ाई कर सकते हैं।
कंप्यूटर का उपयोग हेल्थ एंड मेडिसिंस के लिए एक वरदान है आजकल मरीजों का इलाज इसकी मदद से बहुत ही
आसान हो गया है सभी चीजें डिजिटल होने से बड़ी आसानी से रोगों के बारे में पता चल जाता है और उसी प्रकार उसका
इलाज भी आसानी से पता किया जा सकता है।
कंप्यूटर साइंस की ही देन है रिसर्च इससे बहुत आसानी से होती है आजकल को लेबोरेटरी का समय है जिससे दुनिया के
सभी साइंटिस्ट एक साथ मिलकर काम कर सकते हैं।

कंप्यूटर के लाभ

कंप्यूटर की इनक्रेडिबल स्पीड एक्यूरेसी और स्टोरेज की मदद से आज का जीवन बहुत ही सहज बन गया है कंप्यूटर में
जब चाहे सब सेव कर सकते हैं कुछ भी सर्च कर सकते हैं ,कंप्यूटर एक वर्सेटाइल मशीन है यह बहुत फ्लैक्सिबिलिटी से
अपने जॉब करता है।

कंप्यूटर से हानि: वायरस और हैकिंग अटैक्स

वायरस एक डिस्ट्रक्टिव प्रोग्राम होता है और हैकिंग उस अनऑथराइज्ड एक्सेस को कहते हैं जिसमें आपको ऑनर के बारे
में पता नहीं होता। वायरस को आसानी से ईमेल अटैचमेंट के द्वारा फैलाया जा सकता है कभी-कभी यूएसबी से या किसी
इनफेक्टेड वेबसाइट्स से भी यह आपके कंप्यूटर तक पहुंच सकते हैं एक बार आपके कंप्यूटर तक यह पहुंच जाएं तब आपके कंप्यूटर को बर्बाद कर देता है।

Computer Fundamental Index

  1. What is Computer?
  2. History of Computer
  3. Types of Computer
  4. Parts of Computer
  5. Computer Input Devices
  6. Computer Output Devices
  7. Computer CPU
  8. What is Computer Hardware?
  9. What is Computer Software?
  10. Computer Memory
  11. Computer: Register Memory
  12. Computer: Cache Memory
  13. Computer Primary Memory
  14. Computer Secondary Memory
  15. Computer Memory Unit
  16. Computer Network
  17. Computer virus
  18. Computer Number System
  19. What is Internet?
  20. What is Intranet?
  21. What is Extranet?
  22. What is Website?