आज का जमाना बहुत ही तेज गति से बदल रहा है। इसी के साथ-साथ लोगों की सोच का नजरिया भी बदल रहा है। आज के जमाने में अधिकतर लोग पढ़ाई करते हैं, लेकिन कुछ लोगों को बड़ों का सम्मान करना नहीं आता। ध्यान देने वाली बात यह है कि जब बड़ों का सम्मान करना ही नहीं आता तो इस पढ़ाई का क्या मतलब रहा? हम सभी बचपन से किताबों में पढ़ते हैं कि बड़ों का सम्मान करना चाहिए, लेकिन अगर हम इस बात को अनदेखा करते हैं तो यह छोटी सी गलती जिन्दगी भर के लिए पछतावा बन सकती है। अगर हमको जीवन में आगे बढ़ना है तो हमें बड़ों का आदर करना होगा।

‘बुजुर्गों का सम्मान’ के विषय पर आधारित स्लोगन निम्नलिखित हैं।

स्लोगन.1

वृद्धों का सम्मान करें, मर्यादा का ध्यान रखें।

स्लोगन.2

बड़े-बुजुर्गों की करें मदद, आशीर्वाद मिले वही बड़ी दौलत।

स्लोगन.3

जो सिखाये हमें व्यावहारिक ज्ञान, करें ज्येष्ठ लोगों का सम्मान।

स्लोगन.4

बुद्धिमत्ता से ही नहीं होता है कोई महान, जीवन अनुभव और व्यवहारिकता से बने महान इंसान।

स्लोगन.5

मूर्ख हैं वो लोग जो न करे बुजुर्गों का सम्मान, समझ लेना उनमें नहीं है शिष्टाचार का ज्ञान।

स्लोगन.6

माना कि बुजुर्गों को कम है नवीनतम, प्रौद्योगिकी की जानकारी,
बताएँ उन्हें ऐसा होता है, नीचा दिखाने में नहीं है कोई समझदारी॥

स्लोगन.7

ज्ञान का आदान-प्रदान, दें बुजुर्गों को सम्मान।

स्लोगन.8

विनम्रता से पेश आएँ, सभी से आप आदर पाएँ।

स्लोगन.9

सड़क पार करवाएँ करें बुजुर्गों की मदद, अंदर से अच्छा लगेगा भले ही लगे थोड़ा वक़्त।