भय्यूजी महाराज का आज 3 बजे आश्रम में होगा अंतिम संस्कार, बेटी कुहू देगी मुखाग्नि

134

इंदौर के अध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज ने तनाव भारी जिन्दगी से तंग आकर खुद को गोली मारकर खुदकुशी कर ली। जानकारी मिली है कि मंगलवार को अध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। गोली लगने के तुरंत बाद ही अध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज को उनके परिजनों ने नजदीकी बाँम्बे हॉस्पिटल में भर्ती कराया। कुछ देर के बाद ही डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

मीडिया के रिपोर्ट्स के अनुसार इंदौर के अध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज की मौत के पीछे पारिवारिक विवाद ही सबसे बड़ी बजह बताई जा रही है। इसी के चलते भय्यूजी महाराज ने खुदख़ुशी कर ली। दरअसल भय्यूजी महाराज ने अपनी पहली पत्नी की मृत्यु हो जाने के बाद में दूसरा विवाह कर लिया। पहली पत्नी से उनकी एक बेटी कुहू है, जिसकी उम्र 18 साल है। कहा जा रहा है कि वे अपनी बेटी से बहुत प्रेम करते थे। उन्होंने अपनी बेटी कुहू की सही देखभाल के लिए ही दूसरा विवाह मध्य प्रदेश में शिवपुरी के डॉ0 आयुषी शर्मा से किया, लेकिन बेटी कुहू सौतेली माँ डॉ आयुषी से प्यार नहीं करती थी और उसका कहना भी नहीं मानती थी, जिसके चलते दिन-प्रतिदिन कहासुनी होती रहती थी। भय्यूजी महाराज दोनों की बहस से काफी परेशान रहते थे।

बेटी कुहू ने अपने पिता की मौत का दोषी अपनी सौतेली माँ डॉ आयुषी को ठहराया है। दूसरी ओर पत्नी आयुषी ने इन सब इल्जामों को गलत ठहराया और कहा कि ऐसा नहीं था। जब कुहू घर पर थी, तब मैं अपनी माँ के घर चली गई और जब कुहू इंदौर से पुणे चली गयी, तब मैं इंदौर वापस आ गयी। हम दोनों आराम से रह रहे थे, कुहू को मैं और मेरी बेटी अच्छी नहीं लगती थी, इसीलिए मैं यहाँ से अपनी माँ के घर चली गई थी।

अध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज के शव को 3 बजे इंदौर में उनके आश्रम में ही बेटी कुहू के द्वारा अंतिम संस्कार किया जाएगा। अंतिम संस्कार के समय सीएम शिवराज सिंह चैहान समेत अन्य VIP शामिल होंगे।