बाल मजदूरी | Bal Majduri | Child Labour

734

भारत में बाल मजदूरी बहुत तेजी से बढ़ती जा रही है। इसके बढ़ने की बहुत सारी वजह हैं और यह केवल भारत में ही नहीं, विदेशों में भी बढ़ती जा रही है। बाल मजदूरी भारत के साथ-साथ अन्य सभी देशों में भी गैर-कानूनी है। किसी भी बच्चे के बाल्यकाल  में धन या और किसी भी तरह का लोभ देकर करवाया गया काम बाल मजदूरी कहलाता है। यह पूरी तरह गैर-क़ानूनी है और हर समाज इसकी निंदा करता है। हालांकि, इसका ज्यादातर अभ्यास हम समाज वाले ही करते हैं।

बाल मजदूरी में कभी-कभी बच्चों को अपने माँ-बाप से दूर गुलामों की तरह रखा जाता है। लोग बच्चों से काम इसलिए करवाते हैं, क्योंकि बच्चे कम पैसों में काम करने के लिए मान जाते हैं और उन्हें अपने अधिकारों के बारे में पता भी नहीं होता।

बाल मजदूरी के कारण

आज के समय में केवल भारत में ही नहीं, बल्कि पूरे विश्वमें बाल मजदूरी एक बीमारी की तरह फैलती जा रही है। सरकार द्वारा चलाए गए कई नियमों के बाद भी समाज से बाल मजदूरी कम नहीं हो रही है। भारत देश की ज्यादातर आबादी गरीबी से पीड़ित है। कुछ परिवारों के लिए भर पेट खाना नसीब होना भी एक सपना सा लगता है। बाल मजदूरी के कुछ कारण नीचे दिए हुए हैं।

  • बेरोजगारी
  • गरीबी
  • कम पढ़ा-लिखा होना

अगर यह सारी समस्याएं दूर हो जाती हैं, तो हमारे देश में बाल मजदूरी कम हो सकती है। अक्सर गरीब लोगों को घर का खर्च चलाने के लिए अपने बच्चों को काम पर भेजना ही पड़ता है, ताकि उनके परिवार का पेट भर सके।माँ-बाप की बेरोजगारी की वजह से अक्सर बच्चों को अच्छी शिक्षा नहीं मिल पाती और उन्हें न चाहते हुए भी काम करना ही पड़ता है। पढ़े-लिखे माँ-बाप अपने बच्चे को छोटी उम्र में काम करने के लिए नहीं भेजते, कम पढ़े-लिखे लोगों को बाल मजदूरी से होने वाले बुरे परिणामों के बारे में भी नहीं पता होता।

प्रभाव

  • बाल मजदूरी की वजह से बच्चों को पढ़ने के लिए समय और मौके नहीं मिलते और वो अनपढ़ ही रह जाते है।
  • बाल मजदूरी का बच्चों पर गलत प्रभाव पड़ता है।
  • बाल मजदूरी की वजह से बच्चों का बचपन नष्ट हो जाताहै, इसकी वजह बच्चे नई-नई चीजों को नहीं सीख पाते हैं।
  • बाल मजदूरी की वजह से बच्चे खेल-कूद से वंचित रह जाते हैं।
  • बच्चों के कंधे पर हमारे देश का भविष्य है, उनसे बाल मजदूरी करा कर हम उन कंधो को कमजोर कर रहे हैं।

हल

  • बच्चों को सही शिक्षा देकर हम बाल मजदूरी को रोक सकते हैं।
  • अगर माँ-बाप की आय बढ़ा दी जाए, तो बच्चों को पढ़ने के लिए भेजना आसान हो जाएगा।
  • सरकार को बाल मजदूरी के खिलाफ कड़े कानून बनाने चाहिए।
  • जिन लोगों के पास नौकरी है, वो लोग जो गरीबी रेखा के उपर हैं, उनको बाल मजदूरी के खिलाफ़ सख्त कदम लेने चाहिए और बच्चों की जगह बड़े लोगों को काम पर रखना चाहिए। इससे केवल समाज का ही नहीं पूरे देश का भला होगा।