बजरंग पुनिया की जीवनी | Bajrang Punia Biography in Hindi

257

बजरंग पुनिया का जन्म 26 फ़रवरी को झज्जर जिले के  खुडन गांव, हरियाणा राज्य में हुआ था। बजरंग पुनिया ने 7 साल की उम्र में कुश्ती शुरू की और उन्हें उनके पिता ने इस खेल को आगे बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित किया।

2015 में बजरंग पुनिया का परिवार सोनीपत में रहने लग गया, ताकि वे भारत के खेल प्राधिकरण के क्षेत्रीय केंद्र में भाग ले सके। वर्तमान में बजरंग पुनिया टीटीई (TTE) (यात्रा टिकट परीक्षक) के पद पर भारतीय रेलवे में तैनात हैं।

करियर-

2013 एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप

2013 में एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप सेमीफाइनल में भारत, नई दिल्ली में, बजरंग पुनिया ने दक्षिण कोरिया के ‘ह्वांग रियॉन्ग-हाक’ को 3-1 से हराकर पुरुष फ्री स्टाइल 60 किलो वर्ग में कांस्य पदक जीता।

16वें राउंड में, बजरंग पुनिया ने जापान के ‘शोगो मेदा’ का सामना किया और उन्हें 3-1 से हराया। क्वार्टर फाइनल में उनके प्रतिद्वंद्वी ईरान के ‘मोराद हसन’ थे, बजरंग पुनिया ने सेमीफाइनल में जाने के लिए अपने प्रतिद्वंद्वी  ‘मोराद हसन’ को 3-1 से हराया।

2013 वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप

बुडापेस्ट, हंगरी में, बजरंग पुनिया ने पुरुषों की फ्रीस्टाइल कुश्ती में 60 किलो वर्ग में ब्रोंज (Bronze) मेडल जीता था।

2014 वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप

16वें राउंड में, बजरंग पुनिया ने इंग्लैंड के ‘साशा मद्यार्किक’ का सामना किया और उन्हें 4-0 से हराया। उन्होंने क्वार्टर फाइनल में दक्षिण अफ्रीका के ‘मार्नो प्लाजाजी’ का सामना किया और 4-1 से जीत दर्ज की। नाइजीरियाई पहलवान ‘अमास डैनियल’ सेमीफाइनल में बजरंग पुनिया के प्रतिद्वंद्वी थे और ‘अमास डैनियल’ ने 3-1 से बजरंग पुनिया को हराया। इस प्रकार इन्हें 2014 की वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप में सिल्वर मेडल जीता।

2014 एशियन गेम्स

दक्षिण कोरिया के इचियन में, बजरंग पुनिया ने ईरान के ‘मसूद एस्मेलिपूरजौबारी’ से मुकाबला किया और 1-3 से ‘मसूद एस्मेलिपूरजौबारी’ को हराकर पुरुषों की फ्रीस्टाइल 61 किलोग्राम वर्ग में सिल्वर मेडल जीता।

16वें राउंड में बजरंग पुनिया ने मंगोलिया के ‘तुविन्तिल्गा तुमेनबिलग’ का सामना किया और उन्हें 3-1 से हराया। बजरंग पुनिया के क्वार्टर फाइनल में विरोधी ताजिकिस्तान के ‘फखोदी उस्मोन्जोदा’ थे, जिन्हें बजरंग पुनिया ने सेमीफाइनल में जाने के लिए 4-1 से हराया। सेमीफाइनल में जापान के नोरियुकी तकात्सुका को 4-1 से हराकर पदक को देश के लिए पक्का कर दिया।

2014 एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप

  • कज़ाखस्तान, अस्थाना में, बजरंग पुनिया ने पुरुषों की फ्रीस्टाइल 61 किलोग्राम वर्ग में सिल्वर मेडल जीता, क्योंकि वे  ईरान के ‘मसूद एस्मेलिपूरजौबारी’ से 0-4 से हार गए थे।
  • 16वें राउंड में, बजरंग पुनिया ने दक्षिण कोरिया के ‘सेंग-चुल ली’ जो बजरंग पुनिया के प्रतिद्वंद्वी थे, ‘सेंग-चुल ली’   को बजरंग पुनिया ने 3-1 से हराया।
  • क्वार्टर फाइनल में, बजरंग पुनिया ने जापान के ‘नोरियुकी तकात्सुका’ का सामना किया और बजरंग पुनिया ने 3-1 से सेमीफाइनल में जाने के लिए‘नोरियुकी तकात्सुका’ को हराया।
  • सेमीफाइनल में बजरंग पुनिया के प्रतिद्वंद्वी मंगोलिया के ‘नाज़मंदख लमगर्मा’ थे, जिन्हें बजरंग पुनिया ने 3-1 से हराया।

2015 वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप

अपने साथी नरसिंह यादव के विपरीत, बजरंग पुनिया लास वेगास में टूर्नामेंट में पदक जीतने में कामयाब नहीं हो पाए और 5वें स्थान पर रहे।

32वें राउंड में मंगोलिया के ‘बैटबोल्डिन नोमिन’ बजरंग पुनिया के प्रतिद्वंद्वी थे,, जिन्होंने बजरंग पुनिया को 10-0 से हराया।

2017 एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप

मई 2017 में, बजरंग पुनिया ने दिल्ली में आयोजित एशियाई रेसलिंग चैंपियनशिप में ‘गोल्ड मेडल’ जीता।

2018 कॉमनवेल्थ गेम्स

ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में, बजरंग पुनिया ने पुरुषों की फ्रीस्टाइल 65 किलोग्राम श्रेणी में गोल्ड मेडल जीता। उन्होंने स्वर्ण पदक जीतने के वेल्स के ‘केन चरिग’ को हराया।

2018 एशियन गेम्स

19 अगस्त में, बजरंग पुनिया ने पुरुषों की फ्रीस्टाइल 65 किलोग्राम रेसलिंग में गोल्ड मेडल जीता। उन्होंने जापानी पहलवान ‘तकातनानी दाची’ को 11-8 से हराया, स्कोर पहले राउंड के बाद 6-6 पर अटक गया था।