बबूल | Babool in Hindi

509
हिंदी नाम अंग्रेजी नाम (English Name) वैज्ञानिक नाम (Scientific Name)
बबूल बबूल (Babool) वाशेलिया निलोटिका (Vachellia nilotica)

 

बबूल का वैज्ञानिक नाम वाशेलिया निलोटिका (Vachellia nilotica) है। बबूल की पत्तियों को पीसकर एक्जिकमा (Eczema), टॉन्सिेल (Tonsil), कंजक्टिवाइटिस (Conjunctivitis), घाव और जले पर लगाने से लाभ मिलता है

बबूल के फायदे

  1. बबूल की पत्तियों को सफेद और काले जीरे के साथ पीसकर सेवन करने से दस्त (Diarrhea) रोग ठीक होता है।
  2. बबूल का दातून करने से मसूड़े मज़बूत और स्वस्थ रहते हैं।
  3. बबूल की पत्तियों को पीसकर एक्जिड़मा (Eczema) रोग पर लगाने से लाभ मिलता है।
  4. बबूल की छाल के गर्म काढ़े में काला नमक मिलाकर कुल्ला करने से टॉन्सिंल (Tonsil) रोग ठीक होता है।
  5. बबूल के पत्तों को पीसकर कंजक्टिमवाइटिस (Conjunctivitis) रोग वाली आँख पर लगाने से लाभ मिलता है।
  6. बबूल की पत्तियों को पानी में अच्छे से उबालकर उस पानी से आँख धोने से आँख से पानी आने की समस्या ठीक होती है।
  7. बबूल की नर्म पत्तियों को पानी में उबालकर उस पानी का सेवन करने से खाँसी और सीने के दर्द में लाभ मिलता है।
  8. बबूल की पत्तियों को पीसकर घाव और जले पर लगाने से उसका त्वचा पर दाग नहीं रहता।