अयोध्या, दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला के स्वागत के लिए सज-धज कर है तैयार

46

अयोध्या में भव्य दिवाली समारोह में हिस्सा लेने आ रहीं दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला ‘किम जुंग-सूक’ के स्वागत के लिए शहर को खूब सजाया गया है और सड़कें एवं धरोहर इमारतें रोशनी से नहाई हुई हैं। सरयू नदी के घाट पर भगवान राम और भगवान हनुमान की मूर्ति लगाई गई है, जबकि मुख्य कार्यक्रम के आयोजन स्थल के पास भव्य तोरण द्वार बनाया गया है।

नदी के घाट के पास के मंदिरों को रंग-बिरंगी रोशनियों से सजाया गया है और घाट की सीढ़ियों पर लाखों दीये लगाए गए हैं। दीवाली समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर शिरकत करने वालीं किम जुंग-सूक के स्वागत में मंगलवार को दीये जलाए जाएंगे। इतने अधिक दीयों को जलाने का एक मकसद इसे ‘गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड’ में दर्ज कराना भी है।

अयोध्या की मुख्य सड़कें जग-मग करती रोशनियों से नहाई हुई हैं। कार्यक्रम के लिए कई इमारतों को रोशनी से सजाया गया है। कार्यक्रम आयोजित कर रही टीम के एक सदस्य ने कहा, ‘‘नदी के दोनों तटों पर कल करीब 3.35 लाख दीये जलाने की योजना है। अवध विश्वविद्यालय के विभिन्न कॉलेजों के छात्र और अन्य लोग इन दीयों को जलाने आए हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘विश्वविद्यालय के कई छात्र नदी के तटों पर रामायण थीम पर रंगारंग रंगोलियां भी तैयार कर रहे हैं।’’

किम जुंग-सूक 4 दिन की यात्रा पर रविवार को भारत पहुंचीं। सोमवार को उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की, जबकि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने किम से मुलाकात की। दिल्ली से रवाना होने के बाद किम जुंग-सूक लखनऊ पहुंचीं, जहां मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनका स्वागत किया। मंगलवार को किम जुंग-सूक ‘चिकनकारी’ करने वाले कारीगरों से मुलाकात करेंगी और फिर अयोध्या में स्मारक के भूमि पूजन समारोह एवं दीपोत्सव में शामिल होंगी।