अंधविश्वास | Andhvishwas | Superstition

1051

किसी भी चीज़ पर बिना सोचे-समझे, उसे बिना जाँचे और परखे, जरुरत से ज्यादा यकीन करना ‘अंधविश्वास’ कहलाता है। चाहे वह भगवान की भक्ति हो या किसी इंसान की भक्ति, कई बार लोग भगवान की भक्ति में इतना खो जाते हैं, कि उन्हें सही और गलत में कोई अंतर नजर नहीं आता। उन लोगों से भगवान के नाम पर कुछ भी कराया जा सकता है।अंधविश्वास गलत चीजों को बढ़ावा देता है। अंधविश्वास पूरे देश को प्रभावित करने वाले प्रमुख सामाजिक मुद्दों में से एक है। दुनिया में ऐसी बहुत सारी अंधविश्वास की चीज़ें हैं। इंसानी आदत है कि वो अच्छी चीजों से पहले बुरी चीजों पर ज्यादा यकीन करता है।

अंधविश्वास के उदाहरण

अंधविश्वास कई प्रकार के होते हैं। कुछ अंधविश्वास किसी को नुकसान नहीं पहुंचाते और कुछ अंधविश्वास नुकसान पहुंचाते हैं। यहाँ कुछ अंधविश्वास निम्नलिखित हैं-

3 नंबर और 13 नंबर अशुभ होते हैं

कई लोग इन दोनों संख्याओं को अशुभ मानते हैं और इन संख्याओं पर कोई शुभ काम नहीं करते। यहाँ तक की कई लोग 3 रोटीयां 13 रोटी तक नहीं खाते हैं। लोग इन दोनों संख्याओं से हमेशा दूर भागते हैं।

बिल्ली का रास्ता काटना

बिल्ली द्वारा रास्ता काटने पर कुछ लोग रूक जाते हैं, तथा कुछ दूर वापस लौटकर दोबारा जाते हैं।

छींक आने पर रुकना

कई लोग ‘छींक’ को बहुत बुरा शगुन मानते हैं। अगर कोई कुछ काम करने जा रहा है और तभी कोई छींक दे, तो लोग उसे बुरा शगुन मानकर वहीं रुक जाते हैं।

कांच का टूटना

लोग कहते हैं कि कांच के टूटने से बुरी खबर आती है। अगर कांच टूट गया है, तो कुछ बुरा अपशकुन होने वाला है।

कौवे की आवाज आना

यह भी एक अंधविश्वास का कारण है। लोग कौवे की आवाज को सुनकर यह समझते हैं कि उनके यहाँ कोई मेहमान आने वाला है। इस अंधविश्वास से किसी का नुकसान नहीं होता, मगर यह भी एक अंधविश्वास ही है।

हथेली में खुजली

लोगो का मानना है कि अगर आपकी हथेली में खुजली हो रही है, तो आप पर धन वर्षा होने वाली है। ऐसे और भी कई अंधविश्वास हैं, जो लोगों के दिमाग में अपना घर बना चुके हैं।

कारण

  • डर हर चीज़ की वजह है। यह इंसानों का डर ही है, जिसकी वजह से अंधविश्वास बढ़ रहा है।
  • जानकारी की कमी की वजह से भी देश में अंधविश्वास बढ़ता है।
  • धर्म, परंपरा और सामाजिक प्रथाओं की वजह से भी अंधविश्वास को बढ़ावा मिलता है।

नुकसान

  • लोग अंधविश्वास की वजह से सोचना कम कर देते हैं और ड़रना ज्यादा शुरूकर देते हैं। यह ड़र केवल उनको ही नहीं उनके परिवार को भी मुसीबत में ड़ाल देता है।
  • लोग इसके पीछे अपना बहुत सा समय बर्बाद कर देते हैं।
  • जब भी लोग छींकते हैं, कुछ सेकंड तक रुकते हैं। ये सभी मानव डर और कल्पना के कारण उत्पन्न होते हैं।

हल

इसका सबसे अच्छा इलाज शिक्षा है। शिक्षा से हमें सही और गलत के बीच का फर्क पता चलेगा और इन्सान के दिमाग में से डर कम होगा, जिसकी वजह से अंधविश्वास बढ़ता है। अच्छा-अच्छा सोचकर भी लोग इससे छुटकारा पा सकते हैं।