अल्बर्ट आईस्टाइन कोट्स | Albert Einstein Quotes in Hindi

369

अल्बर्ट आईस्टाइन एक विश्वप्रसिद्ध वैज्ञानिक और सैद्धांतिक भौतिकशास्त्री थे, जो सापेक्षता के सिद्धांत और द्रव्यमान-उर्जा समीकरण E = mc2 के लिए पूरे विश्व भर में जाने जाते हैं। आईस्टाइन ने अपने जीवन में द्रव्यमान-उर्जा के साथ-साथ बहुत से आविष्कार भी किये हैं और इन आविष्कारों के लिए आईस्टाइन का नाम प्रसिद्ध हो गया। आईस्टाइन ने सामान्य आपेक्षिकता, सापेक्ष ब्रह्मांड, केशिकीय गति, क्रांतिक उपच्छाया और अन्य कई योगदान दिए। आईस्टाइन ने पचास से अधिक शोध-पत्र और विज्ञान से अलग किताबें लिखीं हैं। सन. 1999 में टाइम पत्रिका ने अल्बर्ट आइंस्टीन को शताब्दी-पुरूषघोषित किया। अल्बर्ट आइंस्टीन ने 300 से अधिक वैज्ञानिक शोध-पत्रों का प्रकाशन किया। अल्बर्ट आइंस्टीन को सन. 1921 में प्रकाश-विद्युत ऊत्सर्जन की खोज के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

अल्बर्ट आईस्टाइन का जन्म 14 मार्च सन. 1879 को जर्मनी के “उल्म” नामक शहर के एक यहूदी परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम हर्मन आईस्टाइन और उनकी माता का नाम पौलीन आईस्टाइन था। अल्बर्ट आईस्टाइन के पिता हर्मन आईस्टाइन एक इंजीनियर और सेल्समैन थे। आईस्टाइन पढ़ाई में बहुत अच्छे थे। इनकी मातृभाषा जर्मन थी, बाद में इन्होंने इतावली और अंग्रेजी भाषा भी सीखी ।

अल्बर्ट आईस्टाइन के जीवन से यह बात सीखने को मिलती है कि- “साधारण से साधारण व्यक्ति भी मेहनत,लगन और हिम्मत से सफलता हासिल कर सकता है।”

अल्बर्ट आईस्टाइन के प्रमुख कोट्स:

“जिसको आप देख सकते हो, उसे कभी कंठस्थ मत करो।”
“अनुभव ज्ञान का एकमात्र स्त्रोत है।”
“एक सफल आदमी बनने की बजाय एक आदर्शवादी आदमी बनो।”
“प्यार कर्तव्य से बेहतर शिक्षक है।”
“बदलाव की योग्यता से बुद्धि का पता चलता है।”
“कल्पना खोज का सर्वोत्तम रूप है।”
“विपत्ति आदमी को स्वयं से मिलाती है।”
“खेल खोज का सर्वोत्तम रूप है।”
“सूचना ज्ञान नहीं है।”
“जो बीत गया उसके बारे में मत सोचो, भविष्य के सपने मत लो, जो चल रहा है उसपे अपना ध्यान केंद्रित करो।”
“आलसी जीवन जल्दी ही मृत्यु के पास ले जाएगा। मेहनती होना ही जीवन जीने का तरीका है। मुर्ख लोग आलसी हैं, बुद्धिमान लोग मेहनती हैं।”
“स्वास्थ्य के बिना जीवन.. जीवन नहीं है। यह सिर्फ एक आलस्य और दुःख की अवस्था है – मृत्यु का प्रतिबिंब है।”
“समझदार लोग सोच समझ के बोलते हैं। शब्द ऐसे निकलते हैं जैसे अनाज का दाना छलनी में से निकलता है।”
“जब तक आप कोशिश करना बंद नहीं करते, तब तक आप असफल नहीं होते।”
“आदमी औरत से ये सोच के शादी करता है कि वो कभी बदलेगी नहीं। औरत आदमी से ये सोच के शादी करती है कि वो बदल जाएगा। सर्वदा दोनों ही निराश हैं।”
“बौद्धिक विकास जन्म से शुरू होना चाहिए और केवल मृत्यु पर ही खत्म होना चाहिए।”
“मैं कुछ खास प्रतिभाशाली नहीं हूँ, मैं केवल प्रबल जिज्ञासु हूँ।”
“ईश्वर सूक्ष्म है लेकिन वो द्वेषपूर्ण नहीं है।”
“मानव भावना प्रौद्योगिकी से अधिक महत्वपूर्ण होनी चाहिए।”
“अपना जीवन जीने के दो तरीके हैं। एक मायने के कुछ भी चमत्कार नहीं हैं, दूसरे मायने के सबकुछ चमत्कार हैं।”