Home अकबर बीरबल के किस्से

अकबर बीरबल के किस्से

ईनाम

एक बार शहंशाह अकबर से मिलने के लिये एक संगीतकार बड़े मियाँ आये थे। तो बड़े मियाँ बोले.....! संगीतकार बड़े मियाँ बोले सिपाही से – और कितनी देर लगेगी हुजूर.....! मैं घंटों से इंतजार कर रहा हूँ। मेरी बूढ़ी हड्डियां और बर्दाश्त नहीं कर सकती। सिपाही बोला संगीतकार बड़े मियाँ से...
शहंशाह अकबर रात के समय अपने कमरे में सोने के लिये जा रहे थे। तो सिपाही बोला......! सिपाही बोला शहंशाह अकबर से – ज.... ज.... जहाँपनाह……! शहंशाह अकबर बोले सिपाही से – कहो.....! सिपाही बोला शहंशाह अकबर से – आपको इस वक्त तकलीफ देने की माफ़ी चाहता हूँ। हुजूर.....! लेकिन आप से...
शहंशाह अकबर और महारानी साहिबा अपने महल में बैठे हुये थे। शहंशाह अकबर ने महारानी के लिये एक अच्छा सा हार बनवाया। महारानी ने हार को देखा और बोली.....! महारानी साहिबा बोली शहंशाह अकबर से – ओह.... कितना खूबसूरत हार है ये ? शुक्रिया जहाँपनाह……! कितना बेशकिमती होगा ये, मैं...
शहंशाह अकबर और बीरबल अन्य मंत्रियों के साथ दरबार में बैठे थे। मानसिंह बोला दरबार में अकबर से - सलाम हुजूरे आला....! शहंशाह अकबर बोले मंत्री मानसिंह से – आपका स्वागत है। मानसिंह जी.....! हम सब जानते हैं कि आपने कितनी बहादुरी से अकेले ही कितने खतरनाक डाकू जग्गा को पकड़ा।...
शहंशाह अकबर को गुस्सा जल्दी आता था और अगर कोई उन्हें गुस्सा दिलाता, तो कभी कभार छोटी सी गलती पर बड़ी सजा दे देते। बीरबल ये जानते थे, सिर्फ वो ही एक शहंशाह के गुस्से को शांत कर सकते थे। एक दिन शहंशाह घर की दीवारों पर हुआ रंग...
शहंशाह अकबर और बीरबल अन्य मंत्रियों के साथ दरबार में बैठे थे। मंत्री सुखदेव सिंह ईरान से हाल ही में वापस आये थे तो, शहंशाह अकबर बोले....! शहंशाह अकबर बोले सुखदेव सिंह से - सुखदेव सिंह जी....! आप हाल ही में ईरान से लौटे हैं। इस बारे में, हमें कुछ...
दो व्यापारी शहंशाह अकबर के दरबार में आये और बोले.....! दो व्यापारी बोले शहंशाह अकबर से - आदाब हुजूर.....! शहंशाह अकबर बोले व्यापारियों से – कहो.... कौन हो तुम लोग और क्या चाहते हो ? एक व्यापारी बोला अकबर से - जहाँपनाह…….! मेरा नाम गोपाल चन्द है। मैं बाजार में माखन बनाता...

रक्षक

शहंशाह अकबर बोले दरबार में - हमारे ख्याल से आलू सबसे उम्दा सब्जी है। शहंशाह अकबर का एक मंत्री बोला - आप सही फरमा रहे हैं। जहाँपनाह……! आलू ही सबसे बहतरीन है। शहंशाह अकबर का दूसरा मंत्री बोला - जी हाँ....! आलू के कई तरह के पकवान बनाये जा सकते हैं...
बीरबल को प्रकृति से प्रेम था और अपना समय ज्यादातर बाहर खुली हवा में बिताते थे। उनकी सबसे पसंदीदा जगह शहंशाह अकबर के शाही बाग़ थे। इन शाही बागों की देखभाल एक मीर नाम का माली करता था। वो एक शांत स्वभाव का था, जो सीधी-साधी जिन्दगी जीता था...
उत्तर प्रदेश के आगरा शहर में दो महाजन हुआ करते थे। उनमें से एक का नाम नेकीराम था। वो एक सीधा-साधा शरीफ आदमी था, जो कभी अपने ग्राहकों से बेईमानी नहीं करता था। न उनसे ज्यादा ब्याज लेता था और कभी किसी की मदद करने से पीछे नहीं हटता...

खबरें छूट गयी हैं तो