आगरा का किला

आगरा का भव्य किला यमुना नदी के किनारे स्थ्ति है। यह यूनेस्को द्वारा घोषित विश्व धरोहर स्थल है। यह भारत का सबसे महत्वपूर्ण किला है। भारत के मुगल सम्राट बाबर, हुमायूं, अकबर, जहांगीर, शाहजहां और औरंगजेब यहां रहकर पूरे भारत पर शासन किया करते थे।

आगरा का किला भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के आगरा शहर में स्थित है। यह किला ताजमहल के बाद आगरा का दूसरा विश्व धरोहर स्थल है, जो ताजमहल से लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। आगरा किले का निर्माण मुग़ल सम्राट अकबर ने सन. 1565  में करवाया था। दिलचस्प बात यह कि इस किले के प्रवेश द्वार पर एक तख्ती है, जिस पर लिखा हुआ है कि इस किले का निर्माण मूल रूप से 1000 ई. से भी पहले किया गया था। अकबर ने सिर्फ इसका नवीनीकरण करवाया था। यह किला यमुना नदी के पश्चिमी छोर पर स्थित है। आगरा का किला भारत का सबसे महत्वपूर्ण किला है। भारत के मुग़ल सम्राट बाबर, हुमायूँ, अकबर, जहाँगीर, शाहजहाँ और औरंगजेब यहाँ पर रहा करते थे और यहीं से सम्पूर्ण भारत पर शासन किया करते थे। यहाँ पर राज्य का सर्वाधिक खजाना, संपत्ति व टकसाल थीं। यहाँ विदेशी राजदूत, यात्री व उच्च अधिकारी लोगों का आना-जाना लगा रहता था, जिन्होंने भारत के इतिहास को रचा था।

निर्माण

कहा जाता है कि अकबर सन. 1558 में आगरा पहुंचा था। अकबर ने सन. 1565 में लाल बलुआ पत्थर से किले का नवीकरण करवाया, जिसमें लगभग 14 लाख 44 हजार कारीगर व मजदूरों ने 8 वर्षों तक कार्य किया था। आगरा का लाल किला यमुना नदी के किनारे बनाया गया। यह किला चारों तरफ 21.4 मीटर ऊँची दीवार से घिरा हुआ है। किले की दीवार लाल रंग के बेहद मजबूत बलुआ पत्थर से बनी हुई है और सुरक्षा की दृष्टि से किले के चारों ओर कई मीटर चौड़ी खाई का निर्माण किया गया था। किले के चार द्वार हैं, जिनमें से मुख्य द्वार दिल्ली द्वार है, जो चारों द्वारों में सबसे सुन्दर है। इस द्वार के अन्दर भी एक द्वार है, जिसे हाथी पोल कहते हैं, जिसके दोनों ओर दो वास्तवाकार पाषाण हाथी की मूर्तियाँ हैं।

वर्तमान में यह द्वार शहर के व्यस्ततम चौराहे बिजली घर के पास अम्बेडकर पार्क के पीछे स्थित है तथा प्रवेश के लिए बंद है। दूसरा अकबर दरवाजा है, जिसे अमर सिंह द्वार भी कहते हैं, जो वास्तुविज्ञान में दिल्ली दरवाजे जैसा ही है। तीसरा दिल्ली दरवाजा है, जिसे किले की खाई को पार करने के बाद बनाया गया। यह दरवाजा वर्तमान में रामलीला मैदान के पास बना हुआ है।

इतिहास

आगरा का किला असल में ईंटो से बना एक किला था, जो चौहान वंश के राजपूतों के पास था। इसका प्रथम विवरण सन. 1080 में आता है, जब महमूद गजनवी की सेना ने इस किले पर कब्ज़ा किया था। सिकंदर लोधी (सन. 1487-1517) दिल्ली का पहला सुल्तान था, जिसने आगरा की यात्रा की तथा इस किले की मरम्मत सन. 1504 ई. में करवाई थी और किले में रहने लगा। सिकंदर लोधी ने सन. 1506 ई. में आगरा शहर को बसाया था। अपने साम्राज्य को वह किले में रहकर ही चलाता था।

सिकंदर लोधी की मृत्यु सन. 1517 में इस किले में ही हुई थी और उसके बेटे इब्राहिम लोधी ने अगले नौ वर्षो तक किले और साम्राज्य को देखभाल की, जब तक की उसकी सन. 1526 में पानीपत के प्रथम युद्ध में मृत्यु नहीं हो गयी। अपने शासनकाल मे उसने किले के आस-पास कई स्थान, मस्जिद और कुओं का निर्माण करवाया था।

पानीपत युद्ध के बाद मुगलों ने इस किले के साथ इसकी असीम सम्पत्ति पर कब्ज़ा कर लिया। इस सम्पत्ति में एक हीरा भी था, जोकि बाद में कोहिनूर हीरा के नाम से प्रसिद्ध हुआ। तब इस किले में इब्राहिम लोधी के स्थान पर बाबर आया। इसके बाद सन. 1530 में हुमायूँ की ताजपोशी की गयी थी। सन. 1540 में शेरशाह ने हुमायूँ को पराजित कर दिया था। इस किले पर अफगानों का पाँच वर्षों तक कब्ज़ा रहा था। सन. 1556 में आदिल शाह सूरी के जनरल हेमू ने किले को पुनः हासिल कर लिया था।

जब अकबर ने आगरा के महत्व को जाना तथा वह सन. 1558 को आगरा आया था। इसकी केन्द्रीय स्थिति को देखते हुए अकबर ने इसे अपनी राजधानी बनाने का निश्चय किया। उसके इतिहासकार अबुल फजल के अनुसार यह किला एक ईंटों का किला था, जिसका नाम बादलगढ़ था। अकबर ने इस किले का पुनः निर्माण लाल बलुआ पत्थर से करवाया था। इसकी नींव बड़े वास्तुकारों ने रखी। इसके निर्माण में चौदह लाख चवालीस हजार कारीगर व मजदूरों ने आठ वर्षों तक मेहनत की, तब सन. 1573 में यह किला बनकर तैयार हुआ।

समय

आगरा का किला सुबह 9 बजे से शाम को 6 बजे तक खुलता है। भारतीय नागरिकों के लिए इस किले की टिकट 30 रुपये व विदेशी नागरिकों के 500 रुपये है।

किलों की तालिका

क्र सं किले का नाम निर्माण वर्ष निर्माणकर्ता स्थान
1 लक्ष्मणगढ़ किला सन. 1862  राजा लक्ष्मण सिंह सीकर, राजस्थान
2 गागरोन किला 12वीं शताब्दी राजा बीजलदेव झालावाड, राजस्थान
3 मदन महल किला सन. 1100 राजा मदन सिंह जबलपुर, मध्य प्रदेश
4 ग्वालियर किला 14 वीं सदी राजा मानसिंह तोमर ग्वालियर, मध्य प्रदेश
5 रणथंभोर किला सन. 944 चौहान राजा रणथंबन देव सवाई माधोपुर, राजस्थान
6 जूनागढ़ किला सन. 1594 राजा रायसिंह बीकानेर, राजस्थान
7 मेहरानगढ़ किला सन. 1459 राव जोधा जोधपुर, राजस्थान
8 लोहागढ़ किला सन. 1733 महाराजा सूरजमल  भरतपुर, राजस्थान
9 कुम्भलगढ़ किला सन. 1458 राजा महाराणा कुम्भा राजसमन्द, राजस्थान
10 भानगढ़ किला सन. 1573 राजा भगवंत दास अलवर, राजस्थान
11 आगरा किला सन. 1565 अकबर आगरा, उत्तर प्रदेश
12 लाल किला सन. 1648 शाहजहाँ दिल्ली
13 पुराना किला 16 वीं शताब्दी शेरशाह सूरी दिल्ली