अब्दुल कलाम भारत देश के प्रसिद्ध वैज्ञानिक और पूर्व राष्ट्रपति थे। उन्होंने भारतीय मिसाइल बनाने और उसके विकास के कार्य में अपना योगदान दिया। बैलेस्टिक मिसाइल और प्रक्षेपण यानके विकास कार्य में अपना महत्वपूर्ण योगदान देने से अब्दुल कलाम भारत में मिसाइल मैन के नाम से विख्यात हुए। सन. 2002 में अब्दुल कलाम भारत देश के राष्ट्रपति बने और अगले पाँच वर्ष तक जनता की सेवा की, उसके उपरांत पुन: अपनी कार्यकाल की ज़िन्दगी में लौट गये। भारत देश की सरकार ने इन्हें भारत रत्न व अन्य कई प्रतिष्ठित पुरुस्कार देकर सम्मानित भी किया।

अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर सन. 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम में एक संयुक्त मुस्लिम परिवार में हुआ। अब्दुल कलाम के चार भाई और पाँच बहनें थी। उनकी माता का नाम अशिअम्मा था और उनके पिता का नाम जैनुलाब्दीन था, जो अपनी नाव को किराए पर देकर अपना घर चलाते थे। उनके पिता की ज्यादा आय नहीं थी, जिसके कारण घर में आर्थिक समस्या बनी रहती। अब्दुल कलाम ने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई रामनाथपुरम स्च्वार्त्ज़ मैट्रिकुलेशन स्कूल से शुरू की। पढाई के दौरान अपने घर की आर्थिक समस्या के चलते अब्दुल कलाम ने अपनी पढाई को जारी रखने के लिए अखबार बेचने का काम भी किया।

अब्दुल कलाम के प्रमुख कोट्स:

“विज्ञान मानवता के लिए एक खूबसूरत उपहार है, इसका हमें सदुपयोग करना चाहिए।”
“अगर सूर्य की तरह चमकना है तो पहले सूर्य की तरह जलो।”
“सपने को सच करने के लिए पहले सपना देखना होगा।”
“यह सिद्धांत स्पष्ट है कि ईश्वर मेहनती लोगों की मदद करते हैं।”
“आइये हम अपने आज का बलिदान कर दें, ताकि हमारे बच्चों का कल बेहतर हो सके।”
“युद्ध किसी भी समस्या का स्थायी समाधान नहीं है।”
“इंतज़ार करने वालों को सिर्फ उतना ही मिलता है, जितना कोशिश करने वाले छोड़ देते हैं।”
“सफलता की कहानियाँ मत पढ़ो, उससे आपको केवल एक सन्देश मिलेगा। असफलता की कहानियाँ पढ़ो, उससे आपको सफल होने के कुछ विचार मिलेंगे।”
“जब हमारे सिग्नेचर (हस्ताक्षर), ऑटोग्राफ में बदल जाएँ, तो यह सफलता की निशानी है।”
“इंसान को कठिनाइयों की आवश्यकता होती है, क्योंकि सफलता का आनंद उठाने के लिए ये जरूरी है।”
“हमें प्रयत्न करना नहीं छोड़ना चाहिए और समस्याओं से नहीं हारना चाहिए।”
“जीवन एक कठिन खेल है। आप इस जन्मसिद्ध अधिकार को केवल एक व्यक्ति बनकर ही जीत सकते हैं।”
“किसी भी धर्म में, किसी धर्म को बनाए रखने और बढ़ाने के लिए दूसरों को मारना नहीं बताया गया।”
“हमें युवाओं को नौकरी चाहने वालों की अपेक्षा नौकरी देने वाला बनाना होगा।”
“जब कोई राष्ट्र हथियार युक्त देशों से घिरा हो, तो उसे भी हथियार युक्त होना पड़ेगा।”
“भगवान, हमारे निर्माता ने हमारे मस्तिष्क और व्यक्तित्व में असीमित शक्तियाँ और क्षमताएँ दी हैं। ईश्वर की प्रार्थना हमें इन शक्तियों को विकसित करने में मदद करती है।”
“हमें करोड़ों लोगों के देश की तरह सोचना और कार्य करना चाहिए, ना कि लाखों लोगों के देश की तरह।”
“एक अच्छी पुस्तक हज़ार दोस्तों के बराबर होती है जबकि एक अच्छा दोस्त एक लाइब्रेरी (पुस्तकालय) के बराबर होता है।”
“आप अपना भविष्य नहीं बदल सकते पर आप अपनी आदतें बदल सकते हैं, और निश्चित रूप से आपकी आदतें आपका भविष्य बदल देंगी।”
“जो लोग उच्च और जिम्मेदार पदों पर हैं, अगर वे धर्म के खिलाफ जाते हैं, तो धर्म ही एक विध्वंसक के रूप में तब्दील हो जाएगा।”