हमारे देश में सुप्रीम कोर्ट के द्वारा किए गए SC/ST एक्ट में बदलावों को केंद्र की मोदी सरकार ने बदल दिया। उसके बावजूद भी इसका विरोध प्रदर्शन मध्यप्रदेश में अभी-भी पूर्ण रूप तरीके से विरोध जारी है। विधानसभा चुनाव के मुहाने पर खड़े मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को इसको लेकर बड़ा ऐलान किया।

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्य प्रदेश में जांच के बाद ही SC/ST एक्ट के तहत गिरफ्तारी होगी। बालाघाट में मीडिया रिपोर्ट के अनुसार चर्चा करते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में सभी वर्गों के हित सुरक्षित रखे जाएंगे, इसके लिए SC/ST एक्ट के तहत गिरफ्तारी जांच के बाद ही होगी। शिवराज सिंह चौहान से जब सवाल किया गया कि क्या राज्य सरकार केंद्र सरकार के अध्यादेश के एवज में कोई अध्यादेश लाएगी, तो उन्होंने कहा- “मुझे जो कहना था वो मैंने कह दिया।” अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में सवर्ण, पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति, जनजाति सभी वर्गों के हितों को सुरक्षित रखा जाएगा, जो भी शिकायत आएगी, उसकी जांच के बाद ही किसी की गिरफ्तारी होगी।

 

सर्वोच्च न्यायालय ने SC/ST एक्ट के मामले में बड़ा फैसला सुनाया था और जांच के बाद ही प्रकरण दर्ज करने की बात कही थी, मगर केंद्र सरकार ने एक अध्यादेश लाकर सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को बदल दिया था। इस अध्यादेश के मुताबिक, SC/ST समाज के व्यक्ति द्वारा शिकायत किए जाने पर बिना जांच के मामला दर्ज किया जाएगा और आरोपी 6 माह के लिए जेल जाएगा। केंद्र के इस फैसले के खिलाफ मध्य प्रदेश में विरोध प्रदर्शन का दौर लगातार जारी है। देश के कई हिस्सों में कड़ा विरोध हो रहा है। मध्य प्रदेश के ‘सीधी’ जिले में शिवराज सिंह चौहान के जन आशीर्वाद रथ पर पत्थरबाजी हुई। कुछ लोगों ने काले झंडे भी दिखाए। बीजेपी का कहना है कि देश में चल रहे SC/ST एक्ट का विरोध प्रदर्शन पर पथराव कांग्रेस ने करवाया।