ब्रह्मोस मिसाइल की नागपुर यूनिट में काम करने वाले एक कर्मचारी को यूपी ATS (Anti-Terrorism Squad) और मिलिट्री इंटेलीजेंस ने अमेरिका और पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी को गोपनीय सूचनाएं उपलब्ध कराने के शक में गिरफ्तार किया है।  इस बारे में ATS ने अभी तक आधिकारिक सूचना नहीं दी है।

सूचना के मुताबिक, गिरफ्तार कर्मचारी का नाम निशांत अग्रवाल है। वह ब्रह्मोस एरोस्पेस में सीनियर सिस्टम इंजीनियर के पद पर कार्यरत है तथा हाइड्रोलिक- न्यूमेटिक्स और वारहेड इंटीग्रेशन (प्रोडक्शन डिपार्टमेंट) में काम करने वाले 40 लोगों की टीम को लीड करता है। 2017-18 में यूनिट की ओर से उसे ‘युवा वैज्ञानिक’ पुरस्कार से भी नवाजा गया है।

आरोपी ब्रह्मोस की CSR और R&D ग्रुप का सदस्य भी है। वर्तमान में वह ब्रह्मोस नागपुर और पिलानी साइट्स के प्रोजेक्ट को देख रहा था। मूलरुप से वह उत्तराखंड का रहने वाला है। सूत्रों के अनुसार ब्रह्मोस संबंधी तकनीकी और अन्य खुफिया जानकारियां पाकिस्तान और अमेरिका को पहुंचा रहा था।

सेना के वरिष्ठ अधिकारी इस मामले पर नजर रखे हुए हैं। निशांत से गोपनीय स्थान पर पूछताछ की जा रही है। यह भी पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि उसने क्या-क्या तकनीक लीक की हैं तथा वह किस माध्यम से इन देशों के संपर्क में आया।