पेट्रोल और डीजल पर सरकारें दिल खोलकर टैक्स वसूल करती हैं। ऐसा लगता है कि सरकार की दृष्टि में ये ऐशो-आराम की चीजें है, जिसे सरकार कमाई का सबसे बड़ा जरिया मानती है। तेल कंपनियां जितनी कीमत पर तेल बेचती हैं, उस पर राज्य और केंद्र सरकारें फिर चाहे वह कांग्रेस की हो या BJP की मनमाना टैक्स वसूल करती हैं।

आंकड़े बताते हैं कि तेल कंपनियों में 43 रुपये 3 पैसे प्रति लीटर पेट्रोल का दाम था, जिस पर केंद्र सरकार ने 16 रुपये 98 पैसे Tax लगाया और राज्य सरकार ने 22 रुपये 15 पैसे Tax लगाया। इसमें 15 रुपये 65 पैसे VAT और 6 रुपये 50 पैसे सरचार्ज था। पेट्रोल डीलर को प्रति लीटर 3 रुपये 38 पैसा कमिशन दिया गया। इस पर परिवहन खर्च 19 पैसे निश्चत था। यानी सरकार के Tax, डीलर के कमीशन और परिवहन खर्च जोड़ दिया जाए तो यह खर्च 42 रुपये 71 पैसे हो जाता है, जबकि पेट्रोलियम कंपनियों की कीमत 43 रुपये 3 पैसे थी। मतलब जितने में पेट्रोलियम कंपनियां तेल बेचती हैं, लगभग उतना ही Tax सरकार लगाती है। ऐसे में पेट्रोल के दामों मे आग तो लगेगी ही।

केंद्र-राज्य ने लगाए हैं Tax, जनता को मूर्ख बनाने की कोशिश

ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के चेयरमैन बाल मिलकित सिंह बताते हैं कि पेट्रोल और डीजल पर केंद्र व राज्य सरकार ने भारी Tax लगा रखा है, जब तक उसे कम नहीं करती, तब तक आम लोगों को कोई राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। दूसरे देशों की तुलना में हमारे देश में पेट्रोल पर सबसे ज्यादा टैक्स लगाया जाता है। केंद्र और राज्य सरकारों ने जो ढाई रुपये टैक्स घाटया है, एक तरह से जनता को मूर्ख बनाने की कोशिश है। वास्तव में तो सरकार की आम आदमी को राहत देने में कोई दिलचस्पी नहीं है।

डीजल में 1.56 रुपये घटाकर वाहवाही लूटने की कोशिश

डीजल के रेट में राज्य सरकार ने शुक्रवार को 1 रुपये 56 पैसे की कटौती करने का ऐलान किया है। सरकार का दावा है कि इससे सरकारी राजस्व को 1,660 करोड़ रुपये का नुकसान होगा। राज्य सरकार ने डीजल के दामों में से 1 रुपये सरचार्ज और 56 पैसे टैक्स घटाया है। हालांकि केंद्र सरकार को उम्मीद थी कि पेट्रोल और डीजल के दरों में जितनी कटौती वह कर रही हैं, उतनी ही राज्य सरकारें भी करेंगी, लेकिन महाराष्ट्र की फडणवीस सरकार ने डीजल के मामले में दिलेरी नहीं दिखाई है। अलबत्ता मुख्यमंत्री ने केंद्र और राज्य दोनों की कटौती को मिलाकर राज्य में डीजल 4 रुपये सस्ता किए जाने की बात कहकर वाहवाही लूटने की कोशिश की है।

यह लोगों के साथ धोखा: चव्हाण

महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक चव्हाण ने कहा कि पेट्रोल में प्रति लीटर 5 रुपये की कमी के आश्वसान फडणवीस ने दिया था, लेकिन शुक्रवार सुबह पेट्रोल पंप खुले तो पेट्रोल की कीमत में प्रति लीटर 4.35 रुपये की ही कमी की गई। उन्होंने कहा कि यह लोगों के साथ धोखा है।

जनता को नहीं चाहिए भीख: NCP

NCP प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटील ने कहा कि 25 रुपये कीमत बढ़ाई और ढाई रुपये कम करके BJP सरकार वाहवाही लूट रही है। आम जनता को इस सरकार से दो-ढाई रुपये की भीख नहीं चाहिए।