प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शहरी गैस वितरण (CGD- City Gas Distribution) परियोजनाओं को आज हरी झंडी दिखाएंगे। शहरी गैस वितरण परियोजना 124 जिलों को कवर करेगी। भारतीय गैस प्राधिकरण लिमिटेड (GAIL) के अनुसार, देवघर, शेखपुरा और जमुई शहरों में अगले वर्ष फरवरी में पाइपलाइन से गैस वितरण शुरू हो जाएगा। इससे भारत के 35 फीसदी भौगोलिक क्षेत्र में बसी लगभग 50 फीसदी आबादी को PNG और CNG के तौर पर ईंधन मिलेगा।

प्रधानमंत्री आज शाम चार बजे विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम के दौरान 14 राज्यों के 124 जिलों में फैले 50 भौगोलिक क्षेत्रों में शहरी गैस वितरण से जुड़ी बोलियों के 10वें दौर का भी शुभारंभ करेंगे। भारतीय गैस प्राधिकरण लिमिटेड (GAIL- Gas Authority of India Limited) के प्रवक्ता ने बताया कि 10वें चरण में देश के 50 जगहों में गैस वितरण व्यवस्था के लिए बोली का आज शुभारंभ होगा। इन 50 जगहों में देवघर, शेखपुरा एवं जमुई को भी शामिल किया गया है। बोली की प्रक्रिया पूरी होते ही फरवरी के प्रथम सप्ताह के आसपास इन सभी शहरों में घरेलू और वाणिज्यिक उपयोग के लिए गैस की आपूर्ति प्रारंभ हो जाएगी।

प्राकृतिक गैस का उपयोग बढ़ाने पर जोर

भारत सरकार गैस आधारित अर्थव्यवस्था की दिशा में अग्रसर होने के लिए देश भर में ईंधन/कच्चे माल के रूप में पर्यावरण अनुकूल स्वच्छ ईंधन अर्थात प्राकृतिक गैस के उपयोग को बढ़ावा देने पर विशेष जोर दे रही है। मंत्रालय ने कहा- ‘पर्यावरण हितैषी गैस आधारित अर्थव्यवस्था विकसित करने योजना के तहत CGD नेटवर्क का प्रसार किया जा रहा है, ताकि देश के नागरिकों के लिए स्वच्छ रसोई ईंधन यानी पाइप से आपूर्ति की जाने वाली प्राकृतिक (PNG) और स्वच्छ परिवहन ईंधन यानी संपीडित प्राकृतिक गैस (CNG) की उपलब्धता बढ़ाई जा सके।’ CGD नेटवर्क के विस्तार से औद्योगिक और वाणिज्यिक इकाइयां (यूनिट) भी लाभान्वित होंगी, क्योंकि इसके तहत प्राकृतिक गैस की अबाधित आपूर्ति सुनिश्चित होगी। इस परियोजना के तहत अब तक देश के विभिन्न हिस्सों में 96 शहरों व जिलों को शामिल किया गया है।