परिचय

अरविंद केजरीवाल एक भारतीय राजनीतिज्ञ, आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और वर्तमान में दिल्ली के मुख्यमंत्री हैं। राजनीति में आने से पहले वे IRS (Internal Revenue Service) अफसर थे। सन 2006 में रमन मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उन्होंने ‘आम आदमी पार्टी’ नाम से एक नये राजनीतिक दल की स्थापना की।

जन्म एवं शिक्षा

अरविंद केजरीवाल का जन्म 16 अगस्त 1968 को हरियाणा के हिसार शहर में एक मध्यवर्गीय परिवार में  हुआ था। उनके पिता का नाम ‘गोविन्द राम केजरीवाल’ तथा उनकी माता का नाम ‘गीता देवी’ था। उनके पिता एक इलेक्ट्रिकल इंजिनियर हैं। अरविंद केजरीवाल ने सन 1989 में IIT (Indian Institute of Technology) खड़गपुर से यांत्रिक अभियन्त्रिकी में स्नातक की उपाधि प्राप्त की।

निजी जीवन

अरविंद केजरीवाल ने नवम्बर 1994 में IRS अधिकारी ‘सुनीता केजरीवाल’ से शादी की। उन्होंने आयकर अपीलीय ट्रिब्यूनल में आयकर आयुक्त के रूप में सन 2016 में स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ली। दम्पति के दो बच्चे हैं- बेटे का नाम ‘पुलकित केजरीवाल’ और बेटी का नाम ‘हर्षिता केजरीवाल’ है।

कार्यक्षेत्र

अरविंद केजरीवाल सन 1992 में भारतीय नागरिक सेवा (IPS) के एक भाग, भारतीय राजस्व सेवा में आ गए और उन्हें दिल्ली में आयकर आयुक्त कार्यालय में चुना गया। उन्होंने शुरुआत में ही आयकर कार्यालय में पारदर्शिता बढ़ाने के लिए अहम भूमिका निभाई।

अरविंद केजरीवाल ने जनवरी 2000 में काम से विश्राम ले लिया और दिल्ली आधारित एक नागरिक आन्दोलन-परिवर्तन की स्थापना की, जो एक पारदर्शी और जवाबदेह प्रशासन को सुनिश्चित करने के लिए काम करता है। इसके बाद फरवरी 2006 में उन्होंने नौकरी से त्यागपत्र दे दिया और पूरे समय के लिए सिर्फ परिवर्तन में ही काम करने लगे। अरुणा रॉय, गोरे लाल मनीषी और कई अन्य लोगों के साथ मिलकर, उन्होंने सूचना अधिकार अधिनियम के लिए अभियान शुरू किया, जो जल्दी ही एक मूक सामाजिक आन्दोलन बन गया, दिल्ली में सूचना अधिकार अधिनियम को सन 2001 में पारित किया गया और अंत में राष्ट्रीय स्तर पर भारतीय संसद ने सन 2005 में सूचना अधिकार अधिनियम (RTI) को पारित कर दिया।

इसके बाद जुलाई 2006 में अरविंद केजरीवाल ने पूरे भारत में RTI के बारे में जागरूक करने के लिए एक अभियान शुरू किया। दूसरों को प्रेरित करने के लिए अरविन्द केजरीवाल ने अब अपने संस्थान के माध्यम से एक RTI  पुरस्कार की शुरुआत की है। अरविंद केजरीवाल सूचना के अधिकार के माध्यम से प्रत्येक नागरिक को अपनी सरकार से प्रश्न पूछने की शक्ति देते हैं। अपने संगठन परिवर्तन के माध्यम से वे लोगों को प्रशासन में सक्रिय रूप से हिस्सा लेने के लिए प्रेरित करते हैं।

राजनीतिक जीवन

28 दिसम्बर 2013 से 14 फ़रवरी 2014 तक 49 दिन दिल्ली के मुख्यमन्त्री के तौर पर कार्य किया। उस समय मुख्यमन्त्री बनते ही सबसे पहले उन्होंने सिक्योरिटी वापस लौटायी, फिर बिजली की कीमतों में 50 प्रतिशत की छूट का ऐलान किया। उन्होंने दिल्ली पुलिस व केन्द्रीय गृह मन्त्रालय के खिलाफ धरना भी दिया। इसके बाद रिटेल सैक्टर में FDI (Foreign direct investment) को खारिज किया और सबसे बाद जाते-जाते फरवरी 2014 में उन्होंने भूतपूर्व व वर्तमान केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री ‘मुरली देवड़ा’ व ‘वीरप्पा मोईली’ तथा भारत के सबे बड़े उद्योगपति ‘मुकेश अंबानी’ व उनकी कम्पनी रिलायंस के खिलाफ FIR दर्ज कराने के आदेश जारी कर दिये।

लोकपाल बिल भी एक प्रमुख मुद्दा रहा, जिस पर उनका दिल्ली के लेफ्टिनेण्ट गवर्नर, विपक्षी दल भाजपा और यहाँ तक कि समर्थक दल कांग्रेस से भी गतिरोध बना रहा। लोकपाल मुद्दे पर हुए आंदोलन से ही अरविन्द केजरीवाल पहली बार देश में जाने गये थे। वे इसे कानूनी रूप देने के लिये प्रतिबद्ध थे। परन्तु विपक्षी दल कांग्रेस एवं भाजपा बिल ने बिल को असंवैधानिक बताकर विधानसभा में बिल पेश करने का लगातार विरोध किया। विरोध के चलते 14 फ़रवरी को दिल्ली विधान सभा में यह बिल रखा ही न जा सका। विधान सभा में कांग्रेस और बीजेपी के लोकपाल बिल के विरोध में एक हो जाने पर और भ्रष्ट नेताओ पर लगाम कसने वाले इस लोकपाल बिल के गिर जाने के बाद उन्होंने नैतिक आधार पर मुख्यमन्त्री पद से त्यागपत्र दे दिया।

अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में फ़रवरी 2015 के चुनाव में उनकी पार्टी ने 70 में से रिकॉर्ड 67 सीटें जीती, और 14 फरवरी 2015 को वे दोबारा दिल्ली के मुख्यमंत्री नियुक्त किए गये।

अवार्ड

  • सन 2004 में अशोक फैलो, सिविक इंगेजमेंट से सम्मानित किया।
  • सन 2005 में ‘सत्येन्द्र दुबे मेमोरियल अवार्ड’, आईआईटी कानपुर, सरकार पारदर्शिता में लाने के लिए उनके अभियान हेतु।
  • सन 2006 में उत्कृष्ट नेतृत्व के लिए रमन मेगसेसे अवार्ड से सम्मानित किया।
  • सन 2006 में लोक सेवा में सीएनएन आईबीएन, इन्डियन ऑफ़ द इयर से सम्मानित किया।
  • सन 2009 में विशिष्ट पूर्व छात्र पुरस्कार, उत्कृष्ट नेतृत्व के लिए आईआईटी खड़गपुर।
  • सन 2013 में अमेरिकी पत्रिका ‘फॉरन पॉलिसी’ द्वारा 2013 के 100 ‘सर्वोच्च वैश्विक चिन्तक’ में शामिल।
  • सन 2014 में प्रतिष्ठित ‘टाइम’ मैगज़ीन द्वारा ‘विश्व के सबसे प्रभावशाली व्यक्ति’ के रूप में शामिल हुए।
  • सन 2016 में सूची में 42वें स्थान पर रहे और भारत के एकमात्र नेता हैं। फॉर्च्यून द्वारा दुनिया के 50 सबसे महान नेताओं में शामिल किया।
  • सन 2017 में अरविंद केजरीवाल की राजनीतिक यात्रा पर एन इनसिग्निफिकेंट मैन नामक एक डॉक्यूमेंट्री जारी की गई।